Friday, August 15, 2014

जांबाज़ बेटियां : सूर्य परमाल

सिंधी नाटक

जांबाज़ धीअरु : सूर्य परमाल

- Mohan Thanvi

सीन 1

कासिम जो दरबार

सूत्रधार: दाहरसेन जो सिन्धु जे लाय वीरगति प्राप्त करणि जो समाचार बुधी रनिवास में महाराणी लादीबाईअ तलवार हथनि में खरणि जो ऐलान कयो। इयो बुधी सिन्धुजा वीर जवान बीणे जोशो-खरोश सां दुश्मन जे मथूं चढ़ी विया। महारानी लादीबाई उननि जी अगुवा हुई। उनजो आवाज बुधी दुश्मन जे सैनिकनि जी हवा खराब पेई थे। ऐहड़े वक्त में कुछ देशद्रोही अरबनि सां मिली विया। महाराणीअ जे सलाहकारनि उनखे बचणि जा रस्ता बुधाया पर सिन्धुजी उवा वीर राणी बचणि जे लाय न बल्कि बियूनि खे बचायणि जे लाय जन्म वड़तो हूयो। उन दुश्मन जे हथ लगणि खां सुठो त भाय जे हवाले थियणि समझो। सभिनी सिन्धी ललनाउनि मुर्सनि जे मथूं दुश्मन जो मुकाबलो करणि जी जिम्मेवारी रखी। पाणि जौहर कयवूं। इन विच इनाम जी लालच एं पहिंजी जान बचायणि जे लाय देशद्रोहिनि राजकुमारी सूर्यदेवी एं परमाल खे कैद करे वड़तो। पर जुल्मी वधीक हूया। उवे किले में घिरी आहिया उननि कासिम जे दरबार में बिनी राजकुमारियूनि खे पेश कयो-

कासिम: सिन्धु जे किले ते फतह करणि में असांजा घणाइ जांबांज मारजी विया आहिनि।
हिक सिपाही: हुजूर राजकुमार जयसेन खे उनजे वफादारनि हिफाजत सां बे डांह कढ़ी छजो। उननि खे ब्राह्मणाबाद एं अलोर डांह वेन्दे दिठो आहे। उवे वेन्दे-वेन्दे बि असांजे जवाननि खे मौत जे घाट लाइन्दा विया।
कासिम: खुदा कसम, सिन्धिनि जेहिड़ो वतन जो जज्बो पहिरियूं कोन दिठो हूयो।
सिपाही: हुजूर, किले मूं ब राजकुमारियूं तव्हांजी खिदमत में पेश करणि लाई आनियूं आहिनि।
कासिम: उननि राजकुमारिनि खे कंहिं बचायणिजी कोशिश कोन कई?
सिपाही: जिननि कई, उननि खे तलवारजी धार दुनिया छदाए दिनी। जिननि राजकुकारिनि खे कैद करणि में मदद कई उननि खे इनाम में मौत दई छजी से।
कासिम: हा हा हा। जिन्दगीअ जी मंजिल त हिक आहे, मौत। पर इनजा रूप जुदा जुदा आहिनि। को मरी करे शहीद थो थिए त को दोही थी थो मरे।
सिपाही: हुजूर, राजकुमारियूं भी घटि आफत कोननि।
कासिम: अच्छा। छा कयवूं।
सिपाही: हुजूर उननि अठनि-अठनि जवाननि खे पहिंजी छाया ताई कोन अचणि दिनो। कुख मूं तलवार कढ़ी उननि जो मुकाबलो कयवूं। चार जवान त उननि बी मारे छजा।
कासिम: खुदा कसम। सिन्धु जो पाणी पी करे जदहिं ऐहिड़ी हिम्मत राजकुमारिनि में आहे त इतूं जे जवाननि जो मुकाबलो करणि त दाढ़ो दुख्यिो हुयो।
सिपाही: तदहिं त हुजूर पोयनि अढ़ाई सौ सालनि में सिन्धु जी वारीय ते असां पैर कोन रखी सगिया से।
कासिम: हाणे बी कोन रखी सघूं आ। इयो त वतन जा दुश्मन ही वतन खे असांजे हवाले करे विया। उननि वतन जे दुश्मननि खे बी मौत जो इनाम दिनो वं´े।
सिपाही: हुजूर, जाल में कैद कयलि राजकुमारियूं दरबार में हाजिर कयूं था।
कासिम: हा, उननि खे जाल में बधयलि इ मूंजे सामूं वठी अचजो। हणी न मूखे कूहीं रखनि।

सिपाही बियूनि सिपाहिनि खे इशारा करे थो। कुझ वक्त में राजकुमारियूं जाल में कैद थियलि अचनि थियूं। उननि डांह दिसणि बी कासिम खे दकाए थो। राजकुमारियूं ऐहड़े क्रेाध खौफनाक नजरिनि सां सभिनी खे घूरे करे दिसनि थियूं।

कासिम: अल्लाह कसम। छा हुस्न आहे। जादू आहे जादू। अरे सिपाही, हूर जो चेहरो त खोल, दिसां चंड कींअं नजरे थो।

सिपाही हिक राजकुमारीय जे मूंह ते ढकयलि पोती लायणि जे लाय उननि जे करीब वं´ेे थो त राजकुमारी उनखे हिक लत हणी केरे थी छजे। बे सां बि इयं इ ती करे। पोय त को सिपाही उननि जे करीब वं´णि जो हौसलो न थो बधे।

कासिम: छदो--छदो। इननि खे मौत जी परवाह कोने। इये त असांखे मौत दियणि लाय उबारीयूं बीठीयूं आहिनि। इननि खे लुटयलि मालोअसबाब सां गदि खलीफा वटि मोकले दिबो।
सिपाही: हा इयो ठीक रहिन्दो। इननि जे हुस्न जो जादू दिसणि खां अगि मरी वं´णि खूं त खलीफा वटि इननि आफतनि खे मोकलणि सुठो आहे।
कासिम: इननि खूं पूछो। इये मादरे वतन छदनि खां अगि कोई मन जी गाल्हि करणि चाहिनि थियूं?
सिपाही: नूर-ए-आफताब, तव्हां खे अजु जहाज में लुटियलि मालअसबाब सां गदि खलीफा वटि अरब मोकेलबो। तव्हां खे कुझ चवणों हूजे त हुजूर कासिम जी खिदमत में चई थियूं सघो।
परमाल: बुधें थी सूर्य कुमारी।
सूर्य कुमारी: हा भेणि, बुधां थी। इननिजी मौत इननि खे पुकारे रही आहे।
परमाल: इननि सिन्धु जी धीयरनि खे हथ लगायणि जी गुस्ताखी कई आहे। इननि महाराजा दाहिरसेन खे माईयूनि जो रूप बणाए धोखे सां मारे पहिंजा गुनाह वाधाया आहिनि।
सूर्य कुमारी: इनि गुस्ताखीअ जी सजा इननि खे असांखे देहणी आहे।
परमाल: इन करे असां खे मादरे वतन जी वारी खपन्दी। इन वारीय ते इता वं´णि खां पोय कदहिं पैर रखी सघन्दा से?
सूर्य कुमारी: सिपाही, तोहिंजे आका कासिम खे लत हणी चई छदेसि। असां सिन्धुजी धीयरि आहियूं। असां खे इतां व´णि खां अगि इतूं जी वारी पल्ले में बधणी आहे।
सिपाही: हुजूर, इननि खे सिर्फ सिन्धुजी वारीय सां प्रेम आहे। इये पल्लव में वारी बधणि थियूं चाहिनि।
कासिम: भलि-भलि, इननि जी इतां वं´णि खां अगि इया इच्छा पूरी कयोनि।
सूर्य कुमारी: तो जेहिडे जालिम जो मुकाबलो करणि जे लाय त सिन्धुजी असां धीयरि काफी आहियूं। दाहिरसेन जी रियाया तोखे छदन्दी कोन। तो जेका जुल्म सिन्धु भूमिअ ते कया आहिनि इननि जी सजा तोखे जल्दी मिलन्दी।
कासिम: इननि खे इतां जल्दी वठी वं´ों। इननि जी अख्यिूनि में काल वेठो नजरे थो।
सिपाही: हलो आफताब ए राजकुमारियूं।
सूर्यकुमारी: भेणि, ब्रगदाद में खलीफा जे सामूं खबर नाहें त असांसा छा सुलूक थे। मां पंंिहंजे वारनि में जहरजी पिन रखी आहे।
परमाल: मुंहिंजे वारनि में बि जहर में बुदयलि पिन आहे।
बई हिक साणि: जुल्मी कासिम, धोखे सां तो सिन्धु जी बाहं अरब खलीफा खे दिनी आहे। दिसजें तोखे उवो इ खौफनाक मौत दिन्दो।

सिपाही उननि खे छिके करे वठी था वं´नि। राजकुमारियूं वेन्दे-वेन्दे नारा थियूं लगाइनि। सिन्धुमाता जी जय। सिन्धु माता सभिनी जी लज रखजें। दुश्मननि खे हिति वसणि कोन दिजें। जय सिन्धु।

सीन 2
खलीफा जो दरबार बगदाद में

सूत्रधार: सिन्धुजी वीर धीयरनि खे जुल्मी जहाज में सिन्धु मूं लुटयलि मालोअसबाब सां गदि बगदाद कोठे विया। उनजा सिपाही राजकुमारियूनि खे दरबार में पेश था करणि। खलीफा राजकुमारियूनि जो हुस्न दिसी वायरो थी वियो। उननि सां गदि सिन्धु मूं लुटयलि सोने-चांदीअ जा गाणा एं हीरा जवाहरात दिसी खलीफा नचणि थो लगे। उनखे इया बि खुशी हुई त सिन्धु ते हाणे उनजो राज आहे इन करे हू दरबार में जलसा थो करे। दाहरसेन जियूं धीयरि इते चालाकीअ सां कमु वठी पहिंजे दुश्मन कासिम खे माराये थियूं छदनि। इन सां गदि उवे खलीफा जे सिपाहिनि खे बि मारे पाणि जो सत बचाइनि थियूं। उननि जी हिम्मत एं शहीद थियणि ते खलीफा बि सिन्धु खे मथो निमाये थो।

खलीफा: हा हा हा। ऐदा गाणा। ऐदा हीरा जवाहरात। वाह! वह! बियो छा आहे।
मुस्तफा: हुजूर इन असबाब सां गदि सिन्धु जा ब आफताब हीरा आहिनि।
खलीफा: उननि खे पेश कयो वं´ें।
मुस्तफा: (तारी वजाए करे) सिन्धुजा बेशकीमती हीरा पेश कया वं´नि।

चार सिपाही राजकुमारियूनि खे बेड़िनि में पेश था कयनि। बई पाणि में सलाह मशविरा करनि थियूं। इशारनि में इयं थूं चवनि जण त इते खलीफा सां समझौतो करे उवे उनजे जुल्मनि जो मुबाबलो करणि जे लाय उबारीयूं आहिनि।

खलीफा: वाह! छा हुस्न आहे। हुस्न परी। तव्हां जो रूप दिसी मां पहिंजे मथूं काबू न थो रखी सघां।
मुस्तफा: हुजूर इननि मूं इया आहे सूर्य कुमारी एं इया परमाल।
खलीफा: तहजीब सां नालो वठो इननि जो। शहजादी चवोनि। शहजादी।
मुस्तफा: बेख्यालीअ में कयलि गुनाह जी माफी दिन्दा हुजूर।
खलीफा: अगिते ऐहड़ी चुक कोन थियणि घुरजे। शहजादी, मूं तव्हां खे महलात जो सजो हरम बख्शे छदिदमि। सिपाही - इननि खे बेड़िनि में छो बधो अथव। खोलोनि।
सूर्यकुमारी: असांखे खोलणि में छा थिन्दो। तव्हां जंहिं करे असांजे मथा मेहरबानि थिया आहियो, उवा गाल्हि असांसा लुकयलि कोने।
परमाल: तव्हां सां धोखो कयो वियो आहे। धोखो करणि वारा तव्हां जा ई माणहू आहिनि।
खलीफा: मूसां गदि धोखो। कंहिंजी हिम्मत थी आहे पंिहजो सिर देहणि जी।
सूर्यकुमारी: तव्हां जो सिन्धु में तैनात कयलि कुत्तो।
खलीफा: यानी कासिम!
परमाल: हा उवोई कुत्तो।
खलीफा: छा धोखेबाजी कई अथईं उनि।
सूर्यकुमारी: उनि असांखे जूठो करे तव्हांजे सामूं पेश कयो आहे। असांखे तव्हां सां शादी करणि लायक कोन रख्यिो अथई।
परमाल: उनि जोर-जुल्म सां असां खे बधी करे असांजी मर्जीअ जे बगैर असांजे बदनि खे हथ लगयाणि जो गुनाह कयो आहे।
सूर्यकुमारी: ऐतरो इ न उन त सिन्धु में पंहिंजी पसंद जी हर शय ते बुरी नजर रखी आहे।
खलीफा: कासिम, कनीज जी औलाद। गुस्ताख, तुहिंजी ऐतरी हिम्मत जो मुंहिंसां धोखेबाजी करें। मुस्तफा । कासिम खे दांड जी ताजा लथयलि खलि में सिभाए करे मुंहिंजे सामूं पेश कयो वं´े।

खलीफा हुक्म दई करे हलियो थो वं´े। सिपाही खलीफा जे हुक्म जी तालीम जे लाय वं´नि था। राजकुमारियूं पाणि में गाल्हियूं थियूं करणि।

सूर्यकुमारी: खलीफा असांजी चाल में अची वियो आहे।
परमाल: सिन्धु सां गद्दारी करणि वारे जी मौत खां पोय असां बि इन जहान खे छदणि जी कंदियूं से।
सूर्यकुमारी: हा, इन खलीफा जो नापाक हथ असांजे बदनि ताई पहुंचे उनखां अगि असां पहिंजे वारनि में लुकयलि जहर में बुदयलि पिन सां मौत खे कुबूल कंदियूं से।
बई: जय सिन्धु माता। लज रखजें सिन्धु माता। जय सिन्धु।

सीन 3

खलीफा जो दरबार बगदाद में

सूत्रधार: सिन्धु जो वली दाहरसेन जेको अरब खलीफा सां विरहन्दे-विरहन्दे शहीद थी वियो हुयो उनजी धीउरनि खे भला कोई नापाक नजरनि सां कीअं दिसी सघंदो हुयो। जंहि ऐहिड़ी गुस्ताखी कई एं सिन्धु सां गद्दारी कई उन खे राजकुारिनि ऐहड़ी मौत दिनी जेहिंखे दुनिया रहन्दे बुधणि वारो विसारे कोन सघंदो। सिन्धु जे अपमान जो बदलो वठणि एं पाणि खे खलीफा सां बचाइणि जे लाय कासिम खे चालाकीअ सां माराये छदणि खां पोय शहजादिनि दरबार में तलवारियूं छिके सिपाहिनि खे बि मौत जो तोहफो दिनो। खलीफा बि उननिजी तारीफ करणि सां पाणि खे रोके कोन सगियो।

खलीफा: सिपाही - तूं खाली हथ मुंंिहंजे सामूं छो आयो आहें। कुत्तो कासिम तोसां गदि छो कोन आयो।
मुस्तफा - हुजूर। उवो दांद जी खल में रस्ते में इ मरी वियो। उनजी लाश कब्रिस्तान में रखयलि आहे।
खलीफा - रस्ते में इ मरी वियो। सुठो थियो। उनजे रत सां असांजी तलवार नापाक कोन थी।
मुस्तफा - हुजूर। सिन्धु में असांखे इया गाल्हि बुधणि में आई त कासिम बेकसूर हुयो।
खलीफा - इयो कीअं थी सघंदो आहे। शहजादिनि खे पेश कयो वं´ें।

शहजादियूं खिलन्दियूं अचनि थियूं।

खलीफा: शहजादी, असां ही छा था बुधू त कासिम बेकसूर हुयो!
सूर्य कुमारी: तूं मूर्ख आहें खलीफा। असां सिन्धु जी लाड़लिनि खे केरु हथ लगाए सघंदो आहे।
परमाल: हथ लगायणि त परे जी गाल्हि आहे, नजर खणी दिसणि वारनि खे असां रत में सिनानि कराए छदन्दियूं आहियूं।
सूर्य कुमारी: सिन्धु सां गद्दारी करणि वारो बेकसूर कीअं थी संघन्दो आहे! क्ककासिम सिन्धु सां गद्दारी कई। असां बदलो वड़तो।
खलीफा - गुस्ताख शहजादी। तव्हां खे मां हिक रात खां पोय पंहिंजे सिपाहिनि खे दई छदिन्दुसि। मुस्तफा - इननि धोखो कयो आहे। पकड़े वठोनि। घोड़े जी पूछ सां बधी करे बगदाद जी सणकनि ते घसीटोनि।

मुस्तफा एं सिपाही राजकुमारियूनि खे पकड़नि जी कोशिश था करनि। शहजादियूं जय सिन्धु जो नारो लगान्दियूं उननि सिपाही ज्यिूं तलवारियूं छिके थियूं वठनि। सिन्धु ज्यिूं वीर लाड़लियूं सिपाहिनि खे मौत तोहफे में थियूं देनि।

खलीफा: मुस्तफा - तीरन्दाज खे सदि करो। इननि आफतनि सां उवोई पूजी सघंदो।
सूर्यकुमारी: परमाल भेणि, असांजो बदलो पूरो थियो।
परमाल: हा भेणि। हाणे इननि जे हथूं मरणि खां अगि पाणि जहर में बुदियलि पिन सां पंहिंजा प्राण दई छदूं त इननि खे असांखे मारे न सघणि जो मलाल बि थिये।
सूर्यकुमारी: हा, इननि विदेशी अरब जे हथूं मरणि खां त पहिंजी सिन्धु जी उन पिन सां मरणि सुठो आहे जेका असां जहर में बोड़े गदि खणी आहियूं।

बई पहिंजे वारनि मूं पिन कढ़ी पंहिंजे बदनि में चुभायनि थियूं। मरणि खां अगि पल्लव में बध्यिलि सिन्धुजी वारीय खे पंिहंजे मथे ते तिलक वांङुर लगाइनि थियूं। जय सिन्धु जे घोष सां बई हमेश जे लाय सिन्धु जी कछ में समायजी थियूं वं´नि। खलीफा इयो दिसी हिक दफो त बुत थो ठई वं´े। ऐतरे में सिपाही हिक तीरन्दाज खे गदि वठी था अचनि।

मुस्तफा: हुजूर तीरन्दाज अची वियो आहे।
खलीफा: हिति हिक तीरन्दाज त छा असां सभु अरब मिली करे बि सिन्धुजी वारीय सां प्रेम करहन्दड़ शहजादिनि जो मुकाबलो कोन करे सघूं आ।
मुस्तफा: हुजूर! इननि पंहिंजी जान दई छजी!
खलीफा: गुस्ताख। सिन्धुजी धीयरनि जे लाय तहजीब सां लफ्ज इस्तेमाल कर। शहजादिनि जी मिट्टीअ खे सम्मान सां बगदाद में इननि जे ईष्ट खे दिनो वं´े। इननि जी रीति जेका हूजे उवा पूरी थियणि घुुरजे।
मुस्तफा: जेको हुक्म हुजूर।
खलीफा: सिन्धु भूमि तोखे प्रणाम। मुस्तफा, याद रखजंहि। कौम उवाई जिन्दह रहन्दी आहे जेका पहिंजे वतन सां प्रेम कन्दी आहे एं पहिंजी संस्कृति एं मादरे वतन जे लाय बहादुरीअ सां शहीद थिहणि जाणंदी आहे। सूर्य कुमारी एं परमाल महाराजा दाहरसेन जो इ न बल्कि सिन्धुजो नालो रोशन कयो आहे। मां इननि खे प्रणाम थो कयां। इननि खां अगि सिन्धुमाता खे मुहिंजो प्रणाम।

सूत्रधार: वीर सिन्न्धीनि जी भूमि सिन्धुअ ते जायलि कौम कदहिं पहिंजी संस्कृति एं बोलीअ खे विसरी कोन सघन्दी आहे। इया आखाणी अजु खां तेरह सौ साल पहिरियूंकी आहे। इन विच में सिन्धु एं सिन्धीनि ते केतराई जुल्म थिया। सिन्धीनि खे पहिंजी सरजमीन छदणी पई पर अजु बि मादरे वतन जो जज्बो कायम आहे। हाणे असांजे लाय हिन्द इ सिन्धु आहे। जय सिन्धु - जय हिन्द।
- Mohan Thanvi ( part of drama daharsen / publish in Rihan & Hindu - (Ajmer )

ये रास्ते हैं जीवन के...

ये रास्ते हैं जीवन के...
पुल से स्टेशन विहंगम दिखा । तीनों प्लेटफार्म मानो छू सकता था । वहां गाड़ी की प्रतीक्षा में मौजूद हुजूम से बतिया सकता था । देखते देखते प्लेटफार्म नं एक पर गाड़ी आन पहुंची। कोई खास हलचल नहीं । एक दो ही लोग गाड़ी में जा बैठे । ये पैसेंजर थी। गांव जाने के लिए जरूरी और मजबूरी में ही लोग इसमें यात्रा करते हैं । तभी तीन नं पर गाड़ी के पहुंचते पहुंचते लोग डिब्बों में घुसने लगे । पलक झपकी न झपकी 100-200 लोग गाड़ी में बैठे दिखे । ये बड़े शहरों में जाने वाली एक्सप्रेस है । इससे लोग बिना मकसद दिखावा करने या सिर्फ घूमने के लिए भी जाते हैं । दो नं प्लेटफार्म लऑगों के होते हुए भी शांत दिखा । वहां गाड़ी पहुंची तो कुछ देर तक लोग डिब्बों में झांकते रहे । पसंदीदा जगह दिखी तो 10-15 लोगों ने अपना सामान वहां जमाया फिर खुद भी बैठ गए । ये गाड़ी तीर्थयात्रा स्पेशल थी । इसमें जीवन का लक्ष्य निर्धारित कर जीने वाले ही यात्रा करते हैं । अपना सामान यानी विचारों का आदान प्रदान कर तीर्थ करते हैं ।
पुल से आहिस्ता आहिस्ता उतर कर नाचीज ने अपना सामान इंजन से चौथे डिब्बे में जमा लिया ।
- मोहन थानवी 28 7 2014 ( Mohan Thanvi 28 july 2014 BKN )

Friday, August 1, 2014

अहंकार/पाप

एक ताबीज देते वो और कहते हैं भिगोना बारिश/आंसुओं में अहंकार/पाप धुल जायेगा !

Thursday, July 17, 2014

बिझनि जी उंञ अंञणु बाकी आहे / थानवी की कविताओं में परंपराओं के साथ आज की बात / मोहन थानवी के काव्य संग्रह ‘‘हालात’’ का लोकार्पण

काव्य संग्रह ‘‘हालात’’ का लोकार्पण
थानवी की कविताओं में परंपराओं के साथ आज के समय की बात
बीकानेर 13 जुलाई,
     नवयुवक कला मण्डल की ओर से आज विश्वास वाचनालय में बहुभाषी साहित्यकार मोहन थानवी के नवीनतम कविता संग्रह हालात का लोकार्पण अतिथियांे ने किया । कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुवे मानुमल प्रेमज्याणी ने कहा कि नई पीढी सिंधी साहित्य से परिचित हो इसके लिये व्यापक प्रयास किये जाने चाहिये । मुख्य अतिथि सिंधी रचनाकार महादेव बालानी ने कहा कि थानवी ने सिंधी कविता में परम्पराओं के साथ आज के समय की बात को गंभीरता के साथ कहा है। मुख्य वक्ता हासानंद मंगवानी और किशन सदारंगानी ने कहा कि थानवी की कवितायें अपने समय के साथ कदम ताल करती हई सिंध के वैभवशाली अतीत से भी परिचित करवाती है । लोकार्पित कृति हालात पर पाठकीय टिप्पणी करते हुवे शीलू बालानी एंव टीकम पारवानी ने कहा कि संग्रह की कविताओं में विभाजन के दर्द को गहरायी के साथ प्रस्तुत किया गया है । सिंधी लोक गायक चन्द्र प्रकाश आहूजा ने परम्परागत सिंधी लोकगीत तथा थानवी की कविताओं की प्रस्तुति दी।  सिंधी अकादमी के पूर्व सदस्य सुरेश हिन्दुस्तानी ने कहा कि थानवी की कविताये रिश्ते, परम्पराओं ओर आधुनिकता का बेहतर संगम है । लेखकीय वक्तव्य में मोहन थानवी ने अपने सृजन के लिए कार्यस्थल, समाज और शहर के सृजनात्मक एवं सकारात्मक वातावरण को श्रेय दिया । उन्होंने कहा कि सिंधी साहित्य की अपनी विशिष्ट परम्परा है तथा उसका निर्वहन आवश्यक है। थानवी ने संग्रह की अमर गीत, पाखंडी, हालात, फसाद आदि चुनिंदा कविताओं का वाचन भी किया। लेखक का परिचय जय खत्री ने दिया । उन्होंने बताया कि 15 से अधिक नाटकोें के रचयिता मोहन थानवी की अब तक 10 कृतियां प्रकाशित हो चुकी हैं इनमें हिंदी, सिंधी, राजस्थानी में छह उपन्यास, एक पूर्णावधि नाट्य पुस्तक, चार भाषाओं मंे काव्य संग्रह, एक लंबी कविता एवं एक सिंधी काव्य संग्रह शामिल है।  कार्यक्रम का संचालन जयकिशन केशवानी ने किया।
   इस अवसर पर थानवी के सिंधी स्तंभ, पुस्तको एवं आतंकवाद के विरुद्ध 16 ग 2 फीट लंबे कागज पर हस्तलिखित लंबी कविता के फ्लैक्स संस्करण की प्रर्दशनी भी लगायी गई।



                                    (सुरेश हिन्दुस्तानी)
                                        सचिव

मोहन थानवी के लोकार्पित काव्य संग्रह हालात में से चुनिंदा काव्य अंश

सुहांजड़े जो वणु
फिजां खे महकाइंदो रहयो
अम्मां खणी आई हुई
फुटयलि बिझु
विरहांङे वक्तु
पहिंजा सभु गाणा कपड़ा छडे
तुहिंजी याद में
00000
अब्बो पोख में सुम्हे थो
पोख में उथे थो
उम्मेद अथसि
बिझ फुुटंदा
अम्मां समझाएसि थी
बिझनि जी उंञ अंञणु बाकी आहे
00000
नाहें जाय
गायं बधण ऐं तुलसी पोखण लाय
टीवीअ मूं निकरी
शहर खां गोठ डाहुं हली
विदेशी संस्कृति
गोल्हण
असांजी
सभ्यता
0000

सौदो करण में अव्वल
सौदागर
कच्चो निकतो
जहिं हवा में पहिरियों साह खयईं
जिनि बागनि में जायो सजायो थिओ
उननिते आसरो न रखियाईं
घोड़ा उठ हाथी पैदल वेढ़ाहे
वजीर खे अगिते करे
सियासी रांदि कयंई
पहिंजो जीउ जान डिनई
आसरो छडजी वयुसि
0000000000000
कब्जे में करे वरती हुनि
मसाणनि जी जमीन
कुझु माण्हूंनि थू थू कई
कुझु माठ करे वेठा
कुझु पहुंता पंचायत में
कुझु चयो
वाह
आखिरी मंजिल ते
सुजागु थी कराई अथईं
रिजर्वेशन
0000000000000
जहिंखे बि वंझु लगे थो
कुर्सीअ ते झटि वेही
जोर जोर सां चवे थो
मुंहिंजो आहे
सिंघासन

Wednesday, June 25, 2014

क्रिकेट: और भी हैं मुकाम । अंपायरिंग । सुरेश शास्त्री। आज से 23-24 साल पहले जब मैं उनसे पहली बार मिला था । उस समय भला हम यह कैसे जान सकते थे कि हैदराबाद में 30 दिसंबर 2013 का दिन उनके अंपायरिंग के कैरियर में सुनहरे अक्षरों में लिखा जाएगा। वह दिन शास्त्री जी को 100 से अधिक प्रथम श्रेणी के मैचों में अंपायरिंग करने वाले पहले अंपायर बनने का सौभाग्य प्रदान करने वाला दिन है। अंपायर सुरेश शास्त्री 90 के दशक में एक बार बीकानेर आए थे। रेलवे स्टेडियम में क्रिकेट का मुकाबला हुआ था, रणजी। अंपायर सुरेश शास्त्री से अथवा क्रिकेट खेल से मेरा कोई सीधा नाता नहीं रहते हुए भी जब शास्त्री से मुलाकात हुई तो वे दिल में उतर गए और आज तक हमारे संबंध कायम हैं। सुरेश जी से मेरी मुलाकात आकाशवाणी बीकानेर के लिए श्री कुलविंदर सिंह कंग द्वारा लिए गए साक्षात्कार की प्रक्रिया के दौरान हुई। मैं अस्थाई कंपीयर/उद्घोषक के तौर पर आकाशवाणी से जुड़ा हुआ था, श्री कंग को जब बताया कि बीकानेर में अंपायर सुरेश शास्त्री जी आए हुए हैं तो उन्होंने शास्त्री जी की साक्षात्कार के लिए स्वीकृति लेने व उन्हें आकाशवाणी स्टूडियो तक लाने का दायित्व मुझे ही सौंप दिया। शास्त्री जी ने न केवल सहर्ष साक्षात्कार की स्वीकृति दी, बल्कि मेरी एम80 पर आकाशवाणी स्टूडियो भी चले। ...यादों को ताजा करते हुए आपसे साझा करने का आनंद ले रहा हूं।

Sunday, May 11, 2014

मां के चरणों में मिला स्वर्ग

मां के चरणों में मिला स्वर्ग मां के वरदहस्त से हर्ष मां से पाया धरा ने धैर्य मां से देवों ने ली किलकारी मां ही देवी जगत जननी मां बिन नहीं स्वर्ग में सुख मां बिन नहीं हर्ष का स्पर्श मां का आशीष ही गर्व मां का आंचल ही सुख मां ही आन बान और शान मां ही देती ज्ञान मां गुरु मां ही भगवान मां ही जीवन की मुस्कान मोहन थानवी 13 मई 2012

Saturday, April 5, 2014

samasya ka samadhan... ek... prayas

Samasya ka samadhan... Prayas... Ek Aadmi Apni ek samasya hal karane ek sadhu kke pas gaya . Use bataya ki Ek Aadmi use Apne bulata hai magar jab wo jata hai to vah ghar ka darwaja Andar se band kar leta hai. Sadhu bola Simpal... Ab wo bulaye to tum jana hi nahi... Agar jawo or darwaja bheetar se band ho to tab tak khatkhatawo jab tak khol n diya jaaye. Wo Aadmi bahut Khush Huwa... Kyun ? ........ Kyunki... Prqyas hi kamyab hote hain... Samasya koi bhi ho... Samadhan ek hi hai... Prayaas. :)

Tuesday, April 1, 2014

राजकला

राजकला                                                
Mohan Thanvi 
राज की कला। राजनीति। राज कला। यूं राज कला मंदिर की फिल्में भी हिट हुई हैं। राजनीति तो हिट है ही। राजनीति को तो हिट किया ही जाता है। कुर्सीधारी भी राजनीति को हिट करते हैं। कुर्सी पूजक भी। कुर्सीधारी वो जो जनता के वोट जुटा कर कुर्सी पर विराजमान हो। कुर्सी पूजक वो जो कुर्सी पर विराजमान की पूजा करने से न चूकता हो। दोनों कार्य राज की कला है। राज करने की कला। राज में न होते हुए भी ऐसी कला जानने वाले राज करते हैं। जो राज नहीं कर पाते वे फुटबाल के जैसे हिट लगा कर हरफनमौला खिलाड़ी की तरह अपनी कलाकारी दिखाते हैं। नियुक्तियों में, पदोन्नतियों में, स्थानांतरण में, आबंटन उपाबंटन में ऐसे ही राज कलाकारों की तूती बोलती है। ये पांच वर्ष की अवधि से भी बंधे नहीं होते। हां, पांच वर्ष के संक्रमण काल में ऐसी कला के ज्ञाता कुछ राज खोलने पर आमादा दिखते हैं। खोलते नहीं। अपनी अपनी पार्टी से बंधे ऐसे राज दार पार्टी के खूंटे से खुलने के लिए छटपटाते हैं। कुछ राजनीति से, कुछ राज दारी से अपनी पार्टी के हित में दूसरी पार्टी से जुड़ने की कला का प्रदर्शन करते हैं। यह भी राज कला ही मानी जाने योग्य है। कुछ गंभीर, गहरे राज दार, राज कला के माहिर, समाज में अपनी पैठ रखने वाले, अपने साथी राज कलाकारों से राज नेताओं समान पक्की गांठ बांधने वाले गठबंधन की तैयारी भी करते हैं। बहुत से राज कलाकार नए गठबंधन में कामयाब भी हो जाते हैं। ऐसी गतिविधियां लोकतंत्र के पंचवर्षीय कुंभ के आगाज के अनुष्ठान होती हैं। जो कि इन दिनों होती दिखाई दे रही हैं। कांग्रेस और भाजपा के अलावा अब तक तीसरी पार्टी ने राजस्थान पर राज करने का सुख नहीं भोगा। इस सुख से वंचित रही पार्टियां इसे पाने के लिए यत्न करने से पीछे नहीं रह सकती तो तीसरे मोर्चे के रूप में भी कुछ राज नेता अपनी जगह सिंहासन पर देखने के लिए प्रयत्नशील हैं। राजकला 64 कलाओं से भी आगे की चीज है। इसके आगे चंद्रमा की कलाएं भी फीकी पड़ सकती हैं। रंगकर्म की 16 कलाओं में कलम और विचार के माध्यम से समाज और राष्ट्र में क्रांति लाने का माद्दा है तो एकमात्र राज कला में गली गली में, घर घर में, भाई भाई में राजनीतिक क्रांति लाने का। इसलिए राज कला आज राज कर रही है। जनता के वोट भी इसके आगे नतमस्तक दिखने लगते हैं। जनता केवल दो ही पार्टियों में से पसंद और नापसंद का चुनाव करने को उद्यत रहती है मगर राज कला में माहिर कलाकार जनता को दो की बजाय 12 में से पसंद नापसंद की चॉइस उपलब्ध कराते हैं। इसके फायदे अनुभवी पार्टियां जानती हैं। देखना यह है कि ये जो पब्लिक है सब जानने के बाद भी राजनीति में कितने किले और बनते देखेगी। तब तक राज राज ही रहेगा। - राजकला

Sunday, March 30, 2014

जब आम आदमी अधिकार मांगता है..

Mohan Thanvi
जब आम आदमी अधिकार मांगता है...
अफरातफरी की इस बेला में राजनीति से बोझिल माहौल में भी जब आम आदमी खुद के दम पर अपने वर्ग, अपने समाज के हित में अधिकार मांगने के लिए मुट्ठियां तान लेता है तब भी...,  नहीं चाहते हुए भी राजनीति की बू से घिरा लगता है। क्यों... ? सवाल यह है कि...जब आम आदमी अधिकार मांगता है तो कैसा महसूस होता है... ? उसे खुद को, उसके साथियों को, उसके अधिकारियों को, उसके परिवारजनों को ? उसके पड़ोसियों को... उसके... उसके... उसके और उसके उन सब को... जो उसके आसपास हैं... जिनके दायरे में वह है ? जरूरी नहीं कि हर कोई वाजिब अधिकारों की ही मांग करता हो... दूसरे पहलू भी गौरतलब होते हैं। क्योंकि... अधिकार की बात जहां आती है वहां शासन और समाज के नियम कायदे, कानून, परंपरागत जीवनशैली पहले से मौजूद होना स्वाभाविक है। राजनीति होना भी बड़ी बात नहीं। पिछले दिनों ( बीकानेर में राजस्थान राज्य अभिलेखागार ) एक सेमिनार में सदियों पहले की परिस्थितियों में लोगों के एक रियासत से दूसरी रियासत की ओर पलायन पर विषय विशेषज्ञ की विवेचना सुनने का अवसर मिला। इन प्रखर वक्ता का कहना था, तत्कालीन परिस्थितियों में जब आम आदमी की आय बढ़ने का कोई मार्ग दिखाई नहीं देता तब भी उस पर करों का बोझ लाद दिया जाता तब वह राहत पाने एक से दूसरी रियासत की ओर बढ़ता मगर ... चहुंओर एक-सी स्थिति में उसे राहत मिलना तो दूर बल्कि पीढ़ियों से स्थापित अपने गृह-गांव, जमीन-जायदाद से भी वंचित हो जाता था। विचार उमड़ता है... ... ऐसे में आम आदमी के अधिकार की बात कौन उठाए... वह खुद अपने अधिकार कैसे और किससे मांगे ? स्थितियों से संघर्ष कर शायद वह सफल हो सके लेकिन पलायन को तो पराजय के समान माना जाता है। यूं भी अधिकांश मामलों में पलायन कर्ता अकेला हो जाता है ... या नहीं ? पलायन चाहे सामूहिक रूप से होता रहा हो किंतु कुछ परिस्थितियों को छोड़ कर पलायन को अच्छी बात के रूप में नहीं लिया जा सकता...। क्योंकि... कतिपय अपवाद की स्थितियांें को छोड़ कर संभवतः अधिकार एक अकेले का जाया जन्मा नहीं हो सकता। अधिकार कम से कम दो जनों के मध्य होना चाहिए... शायद... ! इस सोच के मध्य नजर अधिकार पाने वाले को दूसरे, तीसरे... चौथे... अनेकानेक पक्षों के अधिकार का भी भान होना चाहिए... शायद ऐसा हो... शायद ऐसा न होता हो। जब आम आदमी अधिकार मांगता है तो सर्वप्रथम उसे यह महसूस होता होगा... वह जागरूक हो गया है अपने अधिकारों के प्रति। मगर क्या उसे यह महसूस नहीं होता होगा कि वह अन्य पक्षों के लिए भी जागरूक है... या फिर ... उसे दूसरों के प्रति भी जागरूक होना चाहिए ! कई मायनों में आम आदमी का अधिकार मांगना बहुत अच्छा लगता है... खासतौर से तब जब उसके मांगे हुए अधिकारों में ‘‘सर्व समाज’’ का भी लाभ निहित होता है। समाज और शासन से जुड़े विषयों पर जागरूकता एक अच्छी बात है मगर राजनीति के नजरिये से जागरूकता के कई पहलू दिखाई देते हैं... खासतौर से चुनावी वातावरण में ऐसा महसूस होता है मानो अधिकारों की बात कह कर राजनीतिक दुनिया से जुड़े लोग अपने वोट बैंक के सदस्य बढ़ाने की मार्केटिंग करने निकल पड़े हों। ऐसे में आम आदमी जब खुद के दम पर अपने वर्ग, अपने समाज के हित में अधिकार मांगने के लिए मुट्ठियां तान लेता है तब भी...,  नहीं चाहते हुए भी राजनीति की बू से घिरा लगता है।

Tuesday, March 25, 2014

bahubhashi: कूचु ऐं शिकस्त...1300 साल पहले...

bahubhashi: कूचु ऐं शिकस्त...1300 साल पहले...: पंजाब केसरी राजस्थान संस्करण में ...  18 Dec 2012   (श्री राजेंद्र सैन)  ऐतिहासिक उपन्यास कूचु ऐं शिकस्त...1300 साल पहले का कथानक ...

Thursday, March 20, 2014

मन कबूतर पंख पसारता यहां...

Aawo meet... Geet vahi gaate hain... ये रोषनी हमारे लिए है... हमारे लिए है... ये खुषियां हमारे लिए है... हमारे लिए है... आषाओं का सागर लहराता यहां... मन कबूतर पंख पसारता यहां... विष्वास की मजबूत डोर से बंधे हैं सभी... निराषा की जगह यहां नहीं है नहीं... ये रोषनी हमारे लिए है... हमारे लिए है... ये खुषियां हमारे लिए है... हमारे लिए है...

Tuesday, March 18, 2014

bahubhashi: गौरैया के घोंसले पे

bahubhashi: गौरैया के घोंसले पे: धूप ने दीवार को सहलाया ... उसे मिली राहत ... गौरैया के घोंसले पे जमी बर्फ भी पिघल गई ... मतवाली हुई हवा ... आशा क...

गौरैया के घोंसले पे

धूप ने दीवार को सहलाया ... उसे मिली राहत ... गौरैया के घोंसले पे जमी बर्फ भी पिघल गई ... मतवाली हुई हवा ... आशा के गीत गूंज उठे ... दूर हुआ निराशा का साया !..

Saturday, March 15, 2014

होली पर... इश्क में... क्या हाल बना लिया

होली पर इश्क में मोहन ऐसा क्या हाल बना लिया होली आई मगर पानी मिलना दुश्वार हो गया न छोटों की आंख में बड़ों के लिए पानी न नलों में ही आता पीने योग्य साफ पानी होली पर इश्क के रंग में रंग गया मोहन दुनिया को भूल गया मोहन मोहन करती रही गोपियां मोहन पिचकारी संग ले गया

होली पर... इश्क में... क्या हाल बना लिया

होली पर इश्क में मोहन ऐसा क्या हाल बना लिया होली आई मगर पानी मिलना दुश्वार हो गया न छोटों की आंख में बड़ों के लिए पानी न नलों में ही आता पीने योग्य साफ पानी होली पर इश्क के रंग में रंग गया मोहन दुनिया को भूल गया मोहन मोहन करती रही गोपियां मोहन पिचकारी संग ले गया

होली पर... इश्क में... क्या हाल बना लिया

होली पर इश्क में मोहन ऐसा क्या हाल बना लिया होली आई मगर पानी मिलना दुश्वार हो गया न छोटों की आंख में बड़ों के लिए पानी न नलों में ही आता पीने योग्य साफ पानी होली पर इश्क के रंग में रंग गया मोहन दुनिया को भूल गया मोहन मोहन करती रही गोपियां मोहन पिचकारी संग ले गया

एक संपादक का सच...

एक संपादक का सच... मुझे नहीं लगता था कि मेरे प्रकाशक महोदय को कुछ कहानियों में से एक का यह शीर्षक संग्रह के लिए आकर्षक लगेगा... अब बारी प्रकाशन की है। देखते हैं कब नंबर लगता है। कहानी उस खबर पर केंद्रित है जो संपादक महोदय ने अपने पाक्षिक में छापी लेकिन फिर उस खबर को देने वाले संपादक के सूत्रों सहित हर पक्ष उसे झुठलाने में जुट गया... फिर ऐसा कुछ हुआ कि... संपादक का सच सभी को मानना ही पड़ा...।

Thursday, March 6, 2014

कब से ताक रहा था परेशां सूरज कोहरे में सिमटा रास्ता जमीं चूमने को बेताब थी किरणें - शुभ मंगल दिवस साथियों... नमस्कार।

कब से ताक रहा था परेशां सूरज कोहरे में सिमटा रास्ता जमीं चूमने को बेताब थी किरणें - शुभ मंगल दिवस साथियों... नमस्कार।

Tuesday, March 4, 2014

दिल की सल्तनत के ये बेताज बादशाह

दिल की सल्तनत के ये बेताज बादशाह
( प्रमुख अंश ) - प्रदीप भटनागर,
... नगर बीकाणा में भी कई राजा भोज, शहंशाह अकबर और सम्राट कृष्णदेव राय हुए हैं। उनके पास सत्ता और साम्राज्य भी नहीं रहा। इनके रीते हाथों ने सृजन-धर्मियों की पीठ थपथपाकर उनके रचना संसार को पल्लवित और विकसित करने में महती भूमिका निभाई है। हां जी। मेरी मुराद उन रेस्टोरेंट और पान भंडार के मालिकों से है जहां संस्कृतिकर्मियों ने चाय/कॉफी की एक बटा दो प्याली के बाद पान के साथ जुगाली की है। एक-दूसरे से बतियाते हुए  रातें गुजारी है। सृजन किया है। सुना है-सुनाया है। आलोचनाएं-समालोचनाएं व समीक्षाएं की है। कई नाटकों के वाचन और पूर्वाभ्यास भी किए हैं। कोटगेट के भीतर जहां आज हिम्मत मेडिकोज है कभी वहां देर रात तक खुला रहने वाला लालचंद भादाणी का होटल ‘गणेश मिष्ठान्न भंडार’ था; एक ओर जहां होटल के अंदर बुलाकीदास ‘‘बावरा’’, ए वी कमल, वासु आचार्य और नवल बीकानेरी चाय की प्याली में कविताओं के तूफान उठाते थे, तो दूसरी ओर होटल के बाहर लगी बुलाकी दास भादाणी की पान की दुकान पर अभय प्रकाश भटनागर, मनोहर चावला, महबूब अली और मांगीलाल माथुर पान चबाते हुए भिन्न भिन्न विषयों पर बतियाते नजर आते थे। पान का जिक्र आए और गुणप्रकाश सज्जनालय के पास अभी भी आबाद ‘दाऊ पान भंडार’ की याद न आए। भला ऐसे कैसे हो सकता है। आज ही तो भाई बुलाकी शर्मा ने दाऊलाल भादाणी से मिलवाया था। उन्होंने क्या जायकेदार पान खिलाया था। दाऊ पान भंडार और दाऊजी के बारे में बहुत कुछ सुना था। थोड़ा बहुत देखा भी था। लगे हाथों पूछ ही लिया: ‘‘ कौन-कौन आता था आपकी दुकान पर ? ’’ हाथोंहाथ जवाब मिला - ‘ ये पूछिए कौन नहीं आता था। नंद किशोर आचार्य, हरीश भादाणी, भवानीशंकर व्यास ‘विनोद’, मोहम्मद सदीक, भीम पांडिया, कांति कोचर, अजीज आजाद, मालचंद तिवाड़ी, दीपचंद सांखला। सभी तो आते थे; वो लोग-वो समय याद आता है सब। पर वो बात कहां है अब।’’ कहते कहते दाऊजी भावनाओं में बह गए। भावुकता से बचने के लिए मैं भी केईएम रोड की तरफ निकल आया।... (दैनिक युगपक्ष में प्रकाशित रंगचर्चा से साभार)

Friday, February 28, 2014

नूरजहां का फरमान और इतिहास देख मुस्कराता है भविष्य

नूरजहां का फरमान और इतिहास देख मुस्कराता है भविष्य
जहां शब्दों से होता है संवाद। ऐसे शिक्षा के मंदिर, शब्दों से संवाद करवाने वाले स्थल पर एक-दो मार्च 2014 को राष्ट्रीय - अंतरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त इतिहासकार जुटेंगे और भविष्य के लिए इतिहास का मंथन करेंगे।
नूरजहां के फरमान - मुगल बादशाह जहांगीर, शाहजहां, औरंगजेब, नूरजहां, बहादुरशाह द्वारा लिखे गए ऐतिहासिक फरमान, निशान और जयपुर, जोधपुर एवं सिरोही के राजाओं को लिखे पत्र इतिहास में रुचि रखने वालों के लिए आकर्षण का केंद्र हैं। ये पत्र संरक्षित है और आनलाइन भी किए गए हैं।
रियासतकालीन 35 लाख से भी अधिक ऐतिहासिक दस्तावेजों से शोधार्थी इतिहास में झांकते हैं। शब्दों से संवाद स्थापित कर अपना भविष्य बनाते हैं। ऐसा स्थान है बीकानेर में राजस्थान राज्य अभिलेखागार।
यहां स्वतंत्रता संग्राम में अपना सबकुछ होम कर देने वाले 246 देशभक्तों के संस्मरण भी संरक्षित है और उन्हें सुना भी जा सकता है। इनमें गोकुल भाई भट्ट, सिद्धराज ढढ्ढा, रणछोड़दास गट्टाणी, मथुरादास माथुर, हीरालाल शास़्त्री शामिल हैं।
इतिहास के शोधार्थियों के लिए अभिलेखागार में अकूत सामग्री संरक्षित है। संबंधित क्षेत्र की कला-संस्कृति, सामाजिक जीवन, लोकरंग, लोक रीतियांे के बारे में ऐसी सामग्री से तत्कालीन तथ्यात्मक जानकारियां हासिल होती हैं। यहां संरक्षित अभिलेखों को आनलाइन भी किया गया है। इनमंे बीकानेर महकमा खास, ऐतिहासिक बहियां, रामपुरिया रिकॉर्ड, परवाना बहियां, कौंसिल के हुकुम की बहियां शामिल हैं। जयपुर रियासत के लगभग 11 लाख ऐतिहासिक अभिलेख, जिनमें प्रमुख रूप से स्याह हुजूर वकील रिपोर्ट्स, अखबारात, अर्जदाश्त, लोजी, रुक्के, परवाने, आमेर अभिलेख, दस्तूर कौमवार, मुगलकालीन ऐतिहासिक फरमान, निशान व मंसूर, विल्स रिपोर्ट, मुगल राजपूत व राजपूत मराठा से संबंधित ऐतिहासिक दस्तावेज शामिल है।
दो दिवसीय राष्ट्रीय सेमिनार का आगाज एक मार्च 2014 को - निदेशालय, राजस्थान राज्य अभिलेखागार बीकानेर के आयोजन में अभिलेखागार के स्रोत एवं महत्व विषयक इस राष्ट्रीय सेमिनार का आगाज न्यायमूर्ति आर एस चौहान, राजस्थान हाईकोर्ट, जयपुर के मुख्य आतिथ्य में सुबह साढ़े दस बजे होगा।
इतिहासकार पुरस्कार - अभिलेखागार निदेशक डॉ महेंद्र खड़गावत के अनुसार सेमिनार के दौरान पूर्व निदेशक नाथूराम खड़गावत की स्मृति में इतिहासकार पुरस्कार की घोषणा की जाएगी।
पुस्तक विमोचन - फारसी फरमानों के प्रकाश में मुगलकालीन भारत एवं राजपूत शासक, भाग-2, अभिलेख जर्नल एवं ए लिस्ट आफ दी इंग्लिश रिकॉर्ड ऑफ दी अजमेर कमिश्नर, द्वितीय संस्करण का विमोचन भी किया जाएगा।

Wednesday, February 26, 2014

शिव पर वैज्ञानिक-शोध ! शिव ही सत्य है... !

शिव पर वैज्ञानिक-शोध !
शिव ही सत्य है... !
शिवजी का डमरू और त्रिशूल। शिवजी की जटाओं से निकलती गंगा। शिवजी का तीसरा नेत्र। नटराज रूप। शिवजी का तांडव नृत्य। और... और... और... अनेकानेक प्रसंग। जिन पौराणिक कथाओं को कुछ लोग कपोलकल्पित करार देने में पल भर भी नहीं लगाते, उन्हीं कथाओं के लघु से लघु प्रसंगों पर कतिपय वैज्ञानिक गहन शोध कार्य भी कर रहे हैं। सभी शोध-परिणाम सार्वजनिक भी नहीं किए जा रहे। क्यों? खासतौर से सिंधु सभ्यता, सिंधु संस्कृति, धार्मिक मान्यताओं पर किए जाने वाले शोधों की जानकारी, उनके परिणाम के बारे में हिंदी भाषी क्षेत्र के लोग तो लगभग अनजान ही रह जाते हैं। क्यों ? शिवजी संबंधी ही नहीं बल्कि सभी देवी-देवताओं और संसार भर में देवतुल्य अथवा मानव जीवन से श्रेष्ठ माने जाने वाले चरित्रों और उनसे जुड़ी वस्तुओं पर ऐसे शोध आज से नहीं बल्कि बीती सदियों से जारी हैं। यह अलग बाल है है कि कतिपय वैज्ञानिकों ने ऐसी रोमांचक, अद्भुत और अचंभित कर देने वाली बातों, चीजों, जीवों को एलियन से भी जोड़ा है, जो कि इस तरह के वैज्ञानिक शोधों के कोटि कोटि पहलुओं में से एक है। ऐसे शोधों में इस तरह के पहलू होना अनिवार्य भी है। वैज्ञानिक नहीं रहते लेकिन उनके शोध कार्य को जारी रखा जाता है। ऐसी शोध-यात्रा अनवरत जारी है। इसमें भूगर्भ से खोजे गए हजारों साल पुराने जीवन के अवशेष और शिलाओं पर उकेरे गए ज्ञात अज्ञात लिपियों तथा अनजान संकेत भी शामिल हैं। यात्रा - यात्रा जारी है। श्वांस आने-जाने तक। हां... ? अनुभूति भी यात्रा है..? हां ! जीवन ... अनुभूति की यात्रा ही तो है । अनुभूति और जीवन क्या एक दूसरे के पर्याय नहीं ? मृतक को किसी प्रकार की कोई अनुभूति होती हो, ऐसा संभव नहीं। किसी से सुना भी नहीं, कहीं पढ़ा भी नहीं। जीवितावस्था ही अनुभूति कराती है। चराचर जगत में पेड़-पहाड़ भी प्राणवान है और यह तो सभी ने सुना ही है... गीत गाया पत्थरों ने...!!! शिवलिंग को आप क्या कहेंगे ! शिवलिंग ही तो कहेंगे। किंतु शिवलिंग के रूप में देखने से पूर्व उसे कीमती शिलाखंड भी माना जा सकता है। शिवलिंग भी कितने ही प्रकार के हैं। संसारभर के वैज्ञानिकों को शिवजी के त्रिशूल पर एक वैपन, यानी हथियार के नजरिये से देखने के लिए किसने प्रेरित किया! संभवतः शोध कार्य को हर पहलू से करने के नजरिये ने ही त्रिशूल और ऐसे अन्य चिन्हों को हथियार अथवा किसी विशेष प्रयोजन से जांचने परखने की आवश्यकता उत्पन्न की। बहरहाल, भारतीय संस्कृति में, सिंधु संस्कृति में शिव को ही सत्य कहा गया है। शिव में ही इस दुनिया, चराचर जगत के रहस्य छिपे हैं। हमें उन्हें जानना होगा। शिव को जानने का अर्थ सत्य को जानना है। शिव ही सत्य है।