Friday, September 22, 2017

अब दिल्ली दूर नहीं...

   *खबरों में बीकानेर*  /

- सितंबर 2017 की 26 तारीख बीकानेरियन के लिए खास बनेगी। बीते वर्षों से बीकानेर-दिल्ली-बीकानेर हवाई मार्ग से नियमित सेवा आरंभ होने पर खुश उद्यमियों-व्यापारियों ने बीकानेर के बड़ी-पापड़, मोठ से बने भुजिया, ऊन उद्योग को पंख लगने की आशा भी व्यक्त की है। ऐसी ही आशाओं के साथ दिल्ली तक उड़ कर पहुंचने के लिए आश्वस्त बीकानेर के उद्यमियों ने इस हवाई यात्रा के लिए नियमित विमान सेवा उद्घाटन के दिन का इंतजार शुरू कर दिया है। यूं तो यह इंतजार तब ही से हो रहा है जब संत लाल बाबाजी और बीकाजी समूह के सतत प्रयासों के सुफल में बीकानेर में वायुयान सेवा के लिए तत्कालीन उड्डयन मंत्री प्रफुल्ल भाई पटेल ने बीजारोपण किया था। बीकानेर से जयपुर तथा बीकानेर से दिल्ली और अन्य महानगरों तक हवाई सेवाओं के लिए बीते वर्षों से प्रयासरत बीकाजी ग्रुप के फन्ना बाबू उर्फ शिवरतन अग्रवाल सहित तमाम व्यापारियों, उद्यमियों के स्वप्न को साकार होने में जो समय लगा उस समय में बीकानेर से जयपुर तक उड़ान भरने का सपना भी साकार हुआ। बताते चलें कि प्रयासों के दौरान यहां सुप्रीम प्रतिनिधि राजेश गोयल और उद्यमियों के बीच अनौपचारिक मुलाकात हुई थी जिसमें बीकानेर - जयपुर के बीच हवाई यात्रा आरंभ करवाए जाने के प्रयासों पर भी चर्चा हुई थी और सर्वविदित है, देर हुई मगर हां, बीकानेरियन को जयपुर तक उड़ान भरने का अवसर मिला। जयपुर के लिए पहली उड़ान में उद्यमियों ने यात्रा की और इस बार दिल्ली के लिए भी शख्सियतों ने बुकिंग करवाई है। हालांकि उद्यमियों ने दबी जुबान में बीकानेर-दिल्ली के लिए उड़ान भरने तथा वहां से वापसी के समय में सहूलियत चाही है मगर अभी इसकी मांग नहीं की गई। उद्यमियों की मंशा के अनुसार उनके लिए सहूलियतों में शामिल है यहां व दिल्ली से टेकओवर करने का समय। बता दें कि बीते वर्ष व्यापार मंडल से जुड़े तथा विभिन्न व्यापारी संगठनों के उद्यमियों ने यहां से जयपुर तक नियमित हवाई सेवा को सफल बनाने पर बल दिया था। बाद में मामला यात्री संख्या पर अटक गया था । इसके अलावा बीते वर्ष ही एक नवंबर को जोधपुर से दिल्ली के लिए विमान सेवा शुरू कर दिए जाने को लेकर बीकानेर को इस विकासक्रम में पीछे रखे जाने पर दबे स्वर में नाराजगी भी जताई थी। जबकि ट्रायल के तौर पर नाल एयरपोर्ट पर जयपुर से आए विमान ने पहले बीकानेर की जमीन को चूमा फिर ख्यातनाम उद्यमियों को जयपुर तक उड़ान भी भरवाई थी। इसी सिलसिले में दिल्ली तक उडऩे के लिए अन्य संगठनों एवं प्रतिनिधियों के साथ साथ बीकानेर व्यापार उद्योग मंडल द्वारा प्रयास युद्धस्तर पर जारी रहे। ऐसे ही प्रयासों के तहत वरिष्ठ उद्यमी मखन लाल अग्रवाल के निवास पर निजी स्तर पर उद्यमियों ने चर्चा की गई। मंडल के कोषाध्यक्ष घनश्याम लखाणी ने बताया कि संत लाल बाबा के आशीर्वाद स्वरूप यहां से दिल्ली तक हवाई सेवा आरंभ होने से न केवल बीकानेर के उद्योग-धंधों को विकसित होने के अवसर मिलेंगे बल्कि साथ ही साथ शिक्षा और अनुसंधान के लिए भी दुनिया का ध्यान बीकानेर आकर्षित कर सकेगा। कोषाध्यक्ष घनश्याम लखाणी के अनुसार पदाधिकारी शिवरतन अग्रवाल ने बीकानेर से जयपुर तथा दिल्ली हवाई सेवा आरंभ करवाने की मंशा से निजी स्तर पर प्रयास किए, उनके सहयोग से यहां आए विशेषज्ञों, उद्यमियों को इस मार्ग पर नियमित सेवाएं चालू होने पर सफलता के लिए आश्वस्त किया गया एवं वांछित तात्कालिक साधन-सुविधाएं मुहैया करवाने के लिए भी बीकानेर आगे रहा। बीकानेर-दिल्ली-बीकानेर टेकओवर एवं लैंडिंग के सुबह-शाम के समय तय करने संबंधी उद्यमियों की मांग पर प्राधिकरण को विचार करना चाहिए। 

-मोहन थानवी (वरिष्ठ पत्रकार, साहित्यकार एवं रंगकर्मी) 

विश्वास वाचनालय, सादुल कॉलोनी, बीकानेर

*अब दिल्ली दूर नहीं....*

दैनिक युगपक्ष में 18/9/17 को कॉलम शहर की डगर ...

*********

दिन मंगल शुभ आयो; दिल्ली सूं उड़न खटोला लायो

*खबरों में बीकानेर* /

      बीकानेर 22 सितंबर 2017। दिन होगा मंगल का और घड़ी 2:30 PM  का वक्त बता रही होगी; तब बहुप्रतिक्षित बीकानेर से दिल्ली हवाई सेवा का शुभारम्भ हो जाएगा। उस समय नाल एयरपोर्ट पर अलायंस एयर कंपनी के पालम (दिल्ली) हवाई अड्डे से उड़ान भरकर विमान नाल; बीकानेर पहुंचेगा। विमान में आने वाले केन्द्रीय मंत्री गणपति राजू, जयन्त सिन्हा तथा अर्जुनराम मेघवाल एवं भारतीय विमान पत्तन प्राधिकरण के अधिकारियों के दल का स्वागत बीकाजी उद्योग समूह की ओर से षॉल व हार भेंट कर किया जायेगा। इसके अलावा हवाई अड्डे के परिसर के सौन्दर्यकरण और लॉन विकसित करने का जिम्मा बीकाजी समूह के प्रबंध निर्देशक शिवरतन अग्रवाल ने अपनी ओर से करने की सहमति दी है। बीकानेर लिए ऐतिहासिक बनने वाले इन क्षणों को और अधिक भव्यता प्रदान करने की मंशा से समारोह की तैयारियों को लेकर बीकानेर व्यापार उद्योग मण्डल के पदाधिकारियों ने नाल हवाई अड्डे पर भारतीय विमान पत्तन प्राधिकरण के अधिकारियों के साथ विचार विमर्श किया।

व्यापार मण्डल के कोषाध्यक्ष घनश्याम लखाणी ने बताया कि प्राधिकरण के प्रबंधक राधेश्याम मीना तथा सीनियर प्रबंधक मनोज चौधरी के साथ बैठक कर उद्घाटन समारोह की व्यवस्थाओं को लेकर चर्चा की। और तय हुआ कि पहली उड़ान में  दिल्ली से आने व यहां से  दिल्ली प्रस्थान करने वाले यात्रियों को फूल-माला पहनाकर व्यापार मण्डल की ओर से विदाई दी जायेगी।

तय कार्यक्रम :-

26 सितम्बर को अपराह्न 2 बजे आयोजित उद्घाटन समारोह स्थल पर केन्द्रीय मंत्रियों तथा अधिकारियों को स्मृति चिन्ह, फूल-माला तथा साफा पहनाकर पधारो म्हारे देश की स्वर लहरियों के बीच स्वागत किया जायेगा। 

प्रबंधक राधेश्याम मीना ने बैठक में बताया कि 26 सितम्बर को पहली उड़ान में 70 सीटर विमान अपराहन् करीब ढाई बजे नाल पहुँचेगा तथा शाम करीब 4 बजे दिल्ली के लिये प्रस्थान करेगा। 

बैठक में व्यापार मंडल प्रबंध समिति सचिव मक्खनलाल अग्रवाल, काजरी के प्रतिनिधि शिव चरण , पर्यटन व्यवसाय से जुड़े विनोद भोजक, राजू शर्मा, विष्णु पुरी, राजेन्द्र डीडवानिया, घनश्याम लखाणी तथा अन्य उपस्थित थे। 

- मोहन थानवी

Friday, September 15, 2017

अपने रंग हजार

अपने रंग हजार...
गणपति के देश में
मिट्टी और पानी के संग
बनते-संवरते प्रकृति के रंग
और
हम सब रंग जाते एक ही रंग में
गणपति के देश में
- मोहन थानवी

Thursday, September 7, 2017

पवन महनोत जिला भाजपा देहात मंत्री बने

*खबरों में बीकानेर*/

बीकानेर 7/9/17। भारतीय जनता पार्टी के पवन महनोत को जिला देहात मंत्री बनाने की घोषणा गुरुवार शाम को की गई। भाजपा युवा नेता विक्की गहलोत ने बताया कि महनोत की पार्टी में सक्रियता के चलते उन्हें यह पदभार सौंपा गया है। पवन महनोत के देहात मंत्री बनने पर संसदीय सचिव व खाजूवाला विधायक डॉ. विश्वनाथ मेघवाल, नगर विकास न्यास अध्यक्ष महावीर रांका, उपमहापौर अशोक आचार्य, भाजपा नेता युधिष्ठर सिंह भाटी, भाजयुमो अध्यक्ष विक्रम सिंह भाटी, मनोनीत पार्षद रमेश भाटी, रोटरी क्लब बीकानेर मिडटाउन के शेखर आचार्य, प्रणव भोजक, कुलदीप यादव तथा मनोज पडिहार ने प्रसन्नता जताई।

अंगूर खट्टे क्यों ?

*खबरों बीकानेर* /

अंगूर खट्टे क्यों ? ( मोहन थानवी )
भारत के लोगों ने अपने अनुभवों से अंगूरों का मीठा या खट्टा होना तो जान लिया और कहावतों सहित अन्य विधाओं-शैलियों से साझा भी किया।  किंतु खटास को मिठास में बदलने का गुर आम लोगों से दूर और खास लोगों के पास तक रखा। यही वजह आम लोगों के लिए भ्रष्टाचार का एकमात्र मार्ग खास लोगों ने बनानी शुरू की तो खुद भी उसकी जद में आ गए। क्योंकि आम और खास होना वक्त और जरूरत तय करती है। सच । हमारे देश में सरकार ने सभी वर्गों के उत्थान के लिए कई योजनाएं चलाई; उत्थान तो हुआ मगर एक पीढ़ी को लाभ मिला जबकि नई पीढ़ी के युवा होते होते समस्याएं विस्तार ही लेती दिखती हैं। आज स्थिति यह है कि हर वर्ग को आम बनकर कागजी कार्रवाई में ही उनझे रहने की विवशता झेलनी पड़ रही है। आरक्षण का मुद्दा खत्म होने का ओर है न छोर। आय आधारित सुविधाओं को भोगने वालों की सँख्या का क्रास एक्जामिन किया जाए तो आंकड़े अचम्भित करेंगे। आधार कार्ड; जिसे अनिवार्यता की श्रेणी प्रदान की जा रही है; वह कार्ड तक सभी आम लोगों की जेब में नहीं है। इसके कारण ढूंढ़ेंगे तो जटिल कागजी प्रक्रिया सामने आ ही जाएगी। आधार कार्ड बनवाने के लिए भी कुछ जरूरी - वांछित कागजों की दरकार रहती है। फिर केवल आधार से काम नहीं चलता। भामाशाह; बीपीएल वगैरह वगैरह के कागज भी होने चाहिए। सबकुछ कागज हैं और किसी एक में कागज बनाने वाले कर्मचारी या मानवीय भूल या परंपराओं के कारण स्पेलिंग; जन्म तारीख; शिक्षा आदि में फर्क/अंतर दर्ज हो गया है तो  उसे सुधरवाने की प्रक्रिया भी आसान नहीं है। यहां तक कि सब कागज सही हैं तो भामाशाह या पेंशन या खाद्यान्न योजनाओं का लाभ पाने के लिए इन कागजों का फिजीकल एक्टिवेशन होना चाहिए वरना ये कागज किसी काम के नहीं । हद है  यह सब आम लोगों के लिए।  और इन प्रक्रियाओं को जानने; समझने और पूरा कर या करवा सकने वाला यहां खास हो जाता है। ऐसे खट्टे अंगूरों को मीठा बनाने के लिए कहीं खास लोगों को देने के लिए शुल्क निर्धारित है तो कहीं खास की ओर से शुल्क मांग लिया जाता है । भारत में आर्थिक और रोजगार; शिक्षा आदि क्षेत्रों की अनवरत चलती और बढ़ती समस्याओं के मूल में  कहीं ऐसे कारण ही तो नहीं जिनकी वजह से वांछित संख्या में पात्र लोग लाभान्वित होने से वंचित रह जाते हों और ऐसे लोगों के परिवारों की नई पीढ़ी फिर पुरानी समस्या को जीवित कर देती है? बालिका जन्म पर सरकार कुछ धन राशि के शिक्षित और वयस्क होने तक के लिए प्रदान करती है और बालिका कल्याणार्थ इस योजना की प्रक्रिया जटिल नहीं है; यह सुखद है। मैं बालिकाओं की इसी योजना की तर्ज पर अन्यान्य योजनाओं की प्रक्रिया को लागू करने की राय व्यक्त करता हूं। क्योंकि; अंगूर की बेल की जड़ों को ही डीएनए बदल कर मीठा बना दिया जाए तो बेल पर लगने वाले अंगूर खट्टे नहीं हो सकते। - मोहन थानवी

Saturday, August 12, 2017

भारतीय जनता पार्टी 14 को नोखा में निकालेगी मोटर साईकिल तिरंगा यात्रा

खबरों में बीकानेर/

नोखा 12/8/17 । भारतीय जनता पार्टी राष्ट्रीय नेतृत्व के निर्देशानुसार ‘‘नया भारत - संकल्प से सिद्धि‘‘ कार्यक्रम के तहत भारतीय जनता पार्टी नोखा द्वारा 14 अगस्त 2017 शाम 4 बजे मोटर साईकिल तिरंगा यात्रा निकाली जायेगी । रामदयाल मेघवाल ने बताया कि मोटर साईकिल तिरंगा यात्रा पंचारिया चौक से शुरू होकर शहर के मुख्य मार्गो से होते हुए अम्बेडकर सर्किल तहसील रोड़ का समापन होगा ।