Skip to main content

‘‘गुलामी की जंज़ीर’’ से निकले….


‘‘गुलामी की जंज़ीर’’ से निकले….
‘‘गुलामी की जंज़ीर’’ से निकले.... ( अजमेर से सिंधी में प्रकाशित हिंदू दैनिक के 15 अगस्त 2011 के संस्करण में ---- ) ‘‘गुलामी की जंज़ीर’’ से निकले, ‘‘आजादी की बेड़ी’’ मंे पहुंचे गुलाम बेगम बादशाह
‘‘गुलामी की जंज़ीर’’ से निकले.... ( अजमेर से सिंधी में प्रकाशित हिंदू दैनिक के 15 अगस्त 2011 के संस्करण में ---- ) ‘‘गुलामी की जंज़ीर’’ से निकले, ‘‘आजादी की बेड़ी’’ मंे पहुंचे गुलाम बेगम बादशाह
( अजमेर से सिंधी में प्रकाशित हिंदू दैनिक के 15 अगस्त 2011 के संस्करण में  —- )
‘‘गुलामी की जंज़ीर’’ से निकले, ‘‘आजादी की बेड़ी’’ मंे पहुंचे गुलाम बेगम बादशाह
आधी रात को जब दुनिया सोई हुई थी। खामोश दीवारों पर टंगे 1947 के कैलंेडर के अगस्त माह के पृष्ठ पर आधे बीते दिनों की तारीख परिवर्तित हो रही थी। तब आजादी ने गुलामी को जलावतन कर राष्ट्र को जाग्रत किया। गुलामी की जंज़ीरें काट कर हम आजादी की बेड़ी ( नाव ) में पहुंच गए। जंज़ीर अपराधियों को कैद में रखने के लिए और जानवरों को काबू में करने के काम में लाई जाती है। बेड़ी  नदी, तालाब पार करने के लिए इस्तेमाल की जाती है। लेकिन, बेड़ी का एक अर्थ जंज़ीर भी है।
आजादी की बेड़ी के स्वागत – अभिनंदन में खूब हल्ला हुआ। नाजुक दौर में कितने ही लोगांे ने अपनी जान दे दी। ( कितने ही लोगों की जानें ले ली गई ) । उन आजादी के दीवानों का स्वप्निल का भारत आज संक्रमण काल के उन पलों को जी रहा दृष्टिगोचर हो रहा है जो पल भविष्य निर्धारित करते हैं।
राष्ट्र में फिर आधी रात को वैसा ही अंधेरा छाया नजर आ रहा है जिस अंधेरे के बाद सुबह का सूरज निश्चित रूप से उजाला फैलाता है। क्या यह हालात पर नियंत्रण करने के लिए उठ खड़े होने का संकेत है !
आरक्षण की आग चारों ओर लगी हुई है। आमजन आजाद होते हुए भी खुद को आरक्षण की कैद में महसूस कर रहा है। मूल्य वृद्धि और महंगाई के इस दौर में आम जनता त्राहिमाम त्राहिमाम कर रही है और … वतन के मालिक कहलाए जाने वाले या कि ‘‘राष्ट्र के रहनुमा’’ संबोधन पसंद करने वाले एक दूसरे की टांगें खींच कर येन केन प्रकारेण तख्तोताज  ( कुर्सी ) हासिल करने के प्रयासों को अमलीजामा पहनाने में जुटे हैं।
खौफ पैदा करने वाले ऐसे मंजर को देख -समझ कर मेरे जैसा आम आदमी खुद को आजादी की बेड़ी में जकड़ा हुआ मससूस कर रहा है।
दूसरी ओर संक्रमण काल के ये पल कह रहे हैं, भेद-भाव, जाति-पांति, साम्प्रदायिकवाद, आतंकवाद का खात्मा करना हम सभी का फर्ज है, दायित्व, कर्तव्य है। साथ ही साथ वक्त यह भी कह रहा है, शिक्ष एवं रोजगार के अधिकार सहित रोटी कपड़ा और मकान की बुनियादी आवश्यकताओं को पूरा करना राज और समाज का काम है।
आजादी के मूल्यों सहित हमें और राज एवं समाज को इन मुद्दों पर विचार-मंथन करना ही चाहिए।
इस फानी दुनिया में  ‘‘वन्स अपॉन ए टाइम’ (’किसी समय ) बेगम – बादशाह भी गुलाम रह चुके हैं। और राज बेगम – बादशाह का रहा हो या राजा – रानी का, प्रजा ( रिआया, जनता ) तो गुलाम ही समझी जाती रही है। रिआया को गुलाम समझने वाले बेगम बादशाह भी अपने राज के मालिक और गुलाम ! जी हां श्रीमानजी, ऐसे किस्से आपने भी पढ़े होंगे। सुने होंगे। सिनेमाघरों में भी ऐसी फिल्में बहुतायत में प्रदर्शित हुई जिनकी कहानी राजा – रानी के ईर्दगिर्द घूमती रही। वजीर ( मंत्री, महामंत्री ) सेनापति या अन्य राज्य के सेनापति साजिश कर राजा – रानी को कैद में कर लेते थे। कमोबेश ऐसे ही हालात विदेशी हमलावरों ने भी पैदा किए। छल कपट और साजिश कर सिंधु और भारत के अन्य प्रांतों में अपने कदम जमाते रहे। गुलामी की जंज़ीर कसकर जकड़ते रहे और जनता को दास बनाकर सताया। बीते हजारों वर्ष का इतिहास इस बात की ओर संकेत कर रहा है। गुलाम बेगम बादशाह की प्रजा बि गुलामी की मानसिकता में रही। लेकिन जिस तरीके से गुलाम बेगम बादशाह के राजकुमार, राजकुमारी या राज परिवार के किसी सदस्य ने गुलामी की जंजीरों को काटकर अपने राज्य को आजाद कराया उससे भी बेहतर तरीके से स्वतंत्रता सेनानियों ने हमारे भारत को आजादी की सुबह का सूरज दिखाया।
ये भी सच है कि समस्त भारत समेत सिंधु और सिंधुवासियों के लिए वह समय नाजुक था। उस नाजुक समय ने आखिरकार हमारे हिस्से की जमीन छीन ली। आधी रात को दरबदर होकर हमारे बुजुर्ग गुलामी की जंज़ीरों को कटवाकर आजादी की बेड़ी में आ बैठे। अब यह हमें तय करना है कि हम आजादी की बेड़ी में बैठ कर विकास की नदी, तालाब और सागर पार करें या … इस बेड़ी को अपने चहुंओर बांधा हुआ अनुभव करते रहें। उठो जागो तो अपनी इस सिंधु ( भारत ) का नवनिर्माण करें। – मोहन थानवी

Comments

Popular posts from this blog

बीमा सेवा केन्द्र का शुभारम्भ

*खबरों में बीकानेर*/ बीकानेर 29 नवम्बर 2017।  भारतीय जीवन बीमा निगम के वरिष्ठ विकास अधिकारी हरीराम चौधरी के मुख्य बीमा सलाहकार भगवाना राम गोदारा के बीमा सेवा केन्द्र का शुभारम्भ जूनागढ़ पुराना बस स्टैण्ड  सादुल सिंह मूर्ति सर्किल के पास बीकानेर में हुआ। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि भारतीय जीवन बीमा निगम के वरिष्ठ मण्डल प्रबन्धक सुधांशु मोहन मिश्र "आलोक" तथा विशिष्ट अतिथि कोलायत विधायक  भंवर सिंह भाटी थे। बीमा सेवा केन्द्र में निगम की पॉलिसियों के बारे में जानकारी तथा प्रीमियम जमा करवाने के साथ-साथ कई प्रकार की सुविधायें उपलब्ध होगी।कार्यक्रम में श्री सुधांशु मोहन मिश्र ष्आलोकष् ने बीमा को आज व्यक्ति की मुख्य आवश्यकता बताते हुये कहा कि जहॉं गोवा राज्य में 79ः  जनसंख्या बीमित है वहीं राजस्थान में यह प्रतिशत मात्रा 20 है जो कि सोचनीय है । उन्होनें कहा कि व्यक्ति और समाज के लिये  आर्थिक सुरक्षा सबसे महत्वपूर्ण है जिसकी पूर्ति बीमा के माध्यम से ही सम्भव है। उन्होंनें निगम की ष्बीमा ग्रामष् अवधारणा के बारे में बताते हुये कहा कि बीमा ग्राम घोषित होने वाले गांव को विकास के लिये निगम द्वा…

अखिल भारतीय साहित्य परिषद् बीकानेर महानगर इकाई में मोनिका गौड़ वरिष्ठ उपाध्यक्ष नियुक्त

विभिन्न संगठनों ने जताई खुशी

बीकानेर। अखिल भारतीय साहित्य परिषद की बीकानेर महानगर इकाई में मोनिका गौड़ को वरिष्ठ उपाध्यक्ष नियुक्त किया गया है। रानी बाजार स्थित संघ कार्यालय शकुंतला भवन में हुई बैठक में अखिल भारतीय साहित्य परिषद् के प्रदेशाध्यक्ष डॉ. अन्नाराम शर्मा की अनुशंसा से महानगर अध्यक्ष विनोद कुमार ओझा द्वारा मोनिका गौड़ को वरिष्ठ उपाध्यक्ष बनाये जाने पर पंडित दीनदयाल उपाध्याय स्मृति मंच के बीकानेर शहर जिलाध्यक्ष गोविंद पारीक, देहात जिलाध्यक्ष काशी शर्मा खाजुवाला, बीकानेर ब्राह्मण समाज संभागीय अध्यक्ष देवेंद्र सारस्वत, भारत स्काउट गाइड राष्ट्रीय उपाध्यक्ष डॉ विमला डुकवाल, एडवोकेट जगदीश शर्मा, गौड़ सनाढय फाउंडेशन युवा जिलाध्यक्ष दिनेश शर्मा, अखिल भारतीय सारस्वत कुंडीय समाज विकास समिति प्रदेशाध्यक्ष श्यामसुंदर तावनियां, श्रीछःन्याति ब्राह्मण महासंघ उपाध्यक्ष रुपचंद सारस्वत, पार्षद भगवती प्रसाद गौड़, सरस वेलफेयर सोसाइटी अध्यक्ष मनोज सारस्वा पूनरासर, राजेन्द्र प्रसाद गौड़, अखंड भारत मोर्चा नोखा के दिनेश कुमार जस्सू, श्रीसर्व ब्राह्मण महासभा की महिला संयोजिका शोभा सारस्वत, अंतरराष्…

कुर्सी को मुस्कुराने दो : तब्सरा-ए-हालात

जादूगर जादूगरी कर कर गया। कुर्सी मुस्कुराती रही । बाजीगर देखता ही रह गया । उसके झोले से हमें मानो आवाज सुनाई दी  कुर्सी को मुस्कुराने दो ।  गाय घोड़े पशु पक्षियों के चारा दाना तक में घोटाले हुए । सीमा पर दुश्मन से लोहा लेने के लिए खरीदे जाने वाले अस्त्र शस्त्रों में घोटाले हुए। जनता तक एक रुपए में से मात्र 15 पैसे पहुंचने की बातें हुई मगर कुर्सी मुस्कुराती रही। मगर यह कोई जादू नहीं है  कि पेट्रोल  हमारी गाड़ियों को चलाने के लिए वाजिब दामों में  उपलब्ध होने की बजाय  हमारी जेबों में आग लगा रहा है । पेट्रोल ने जेबों में आग लगा दी  कुर्सी मुस्कुराती रही  । बच्चे मारे गए कुर्सी मुस्कुराती रही।  सीमा पर  हमारे जवान शहीद होते रहे  कुर्सी मुस्कुराती रही  । जाति संप्रदाय  आरक्षण के नाम पर  आक्रोश फैलता रहा  कुर्सी मुस्कुराती रही। करनाटक में बिना जरूरत के भव्य नाटक का मंचन हुआ कुर्सी मुस्कुराती रही। लाखों की आबादी के बीच सरकारी अस्पतालों में कुछ लाख रूपये के संसाधनों के अभाव में मरीज तड़पते रहे और न जाने किस बजट से हजारों करोड़ों रुपयों के ऐसे भव्य कार्य हुए जिनकी फिलवक्त आवश्यकता को टाला जा सक…