Friday, April 14, 2017

अशफाक कादरी ने लघुकथाओं से साहित्य के क्षेत्र में फहराया राजस्थान का परचम

लोक पर्व कार्यक्रम में कथाकार अशफाक कादरी की लघुकथाओं पर चर्चा एवं सम्मान    

( – मोहन थानवी )

         बीकानेर 14 /4/17अप्रैल । सखा संगम द्वारा लोक पर्व एवं साहित्य विषय के तहत कथाकार अशफाक कादरी की लघु कथाओं पर चर्चा की गई।  कादरी  ने राष्ट्रीय स्तर पर प्रकाशित अपनी लघु कथाओं का वाचन भी किया । मुख्य अतिथि नगर परिषद के पूर्व सभापति चतुर्भूज व्यास ने कहा कि कादरी ने अपने लेखन के माध्यम से बीकानेर की गंगा जमुनी तहजीब को आम अवाम तक प्रसारित किया है । संस्था अधयक्ष एन.डी.रंगा की अध्यक्षता में हुए आयोजन  में मुख्य वक्ता शायर सैयद नासिर जैदी ने कादरी की चार दशकीय सृजन यात्रा पर प्रकाश डाला । कार्यक्रम में कवि, कथाकार राजाराम स्वर्णकार एवं बाबुलाल छंगाणी ने कादरी के सम्मान में काव्य रचनाएं प्रस्तुत की ।  अतिथियों ने कादरी का माल्यार्पण, शॉल, सम्मान पट्टिका, दुपट्टा, स्मृति चिन्ह एवं सम्मान-पत्र प्रदान कर सम्मान किया  ।  सखा संगम के सभापति चन्द्रशेखर जोशी ने कादरी के सम्मान में प्रशस्ति पत्र का वाचन किया । समाजसेवी एडवोकेट हीरालाल हर्ष ; डॉ. मुरारी शर्मा ; वरिष्ठ चित्रकार मुरलीमनोहर के. माथुर; वरिष्ठ रंगकर्मी बी.एल.नवीन; व्यंग्यकार बुलाकी शर्मा;  कार्यक्रम संयोजक कवि, कथाकार राजेन्द्र जोशी; डॉ.अजय जोशी ; फिल्मकार मंजूर अली चन्दवानी; ब्रजरतन जोशी, मंगलचन्द रंगा, नागेश्वर जोशी, सुभाष जोशी ने भी अपने विचार व्यक्त किए । शिक्षाविद खुशालचन्द रंगा ने संस्था की तरफ से धन्यवाद ज्ञापित किया । 

Thursday, April 13, 2017

बीकानेर पुलिस की बड़ी उपलब्धि : साइबर क्राइम के इंटरनेशनल गैंग का पर्दाफाश


नाइजीरिया, अफ्रीका तक आरोपियों के हाथ

विशेष  :- सावधान, आपके धन पर है ठगों की नजर
- मोहन थानवी
बीकानेर 12/4/17। साइबर क्राइम के इंटरनेशनल गैंग का खुलासा करने में बीकानेर पुलिस कामयाब रही है। बीकानेर एसपी कार्यालय में एक युवती द्वारा साइबर ठगी संबंधी पेश परिवाद में शोध करते हुए बीकानेर पुलिस ने पहली बार साइबर क्राइम के अन्तरराष्ट्रीय गैंग के चार आरोपियों को गिरफ्त में लिया है इनमें से एक महिला वकील है । परिवादी महिला ने उससे 56 लाख रुपये की ठगी का मामला बताया था जिसका खुलासा करते हुए एक महिला सहित चार आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। जिसमें बीकानेर के साइबर एक्सपर्ट योगेन्द्र सुथार का योगदान सराहनीय रहा है। आरोपियों के कब्जे से करीब तीन लाख रुपये बरामद किए गए है। बुधवार को प्रेस कान्फ्रेंस में पुलिस महानिरीक्षक विपिन कुमार पाण्डेय ने बताया कि शादी के नाम पर 56 लाख की ठगी के मामले में पुलिस ....( और आगे जारी.....)

सराहनीय पुलिस टीम

गिरफ्तारी करने वाली पुलिस टीम में लक्ष्मणसिंह थानाधिकारी पुलस थाना सदर, मनोज शर्मा थानाधिकारी जामसर, सुभाषचन्द्र थानाधिकारी पुलिस थाना कालु, परमेश्वर सुथार थानाधिकारी पुलिस थाना पांचू, पुष्पेन्द्रसिंह कानि., ओमप्रकाश कानि. सीआईयु बीकानेर, मनफूल कानि. सीआईयु बीकानेर, राजेश कुमार चालक सीआईयु बीकानेर का योगदान रहा है।

*विशेष :-*
*सावधान, आपके धन पर है ठगों की नजर अपराधियों को गिरफ्तार कर अपराध मुक्त समाज निर्माण में पुलिस अपनी भूमिका बदस्तूर निर्वहन करती है। समाज का भी दायित्व है कि ऐसे समाजकंटकों को पहचाने और सूचनाएं पुलिस को उपलब्ध करवाए। विशेष रूप से स्वयं के साथ घटने वाली ठगी की वारदातों को ध्यान में रखते हुए हर व्यक्ति किसी पर भी अपने रुपए-पैसे और जेवरात, सम्पत्ति संबंधी कागजात के मामले में विश्वास नहीं करे तो किसी हद तक इंटरनेट और मोबाइल, टेलीफोन के माध्यम से होने वाली ठगी की वारदातों पर काबू पाया जा सकता है। कुछ ऐसा कहना है बीकानेर एस पी डॉ अमनदीप सिंह कपूर का। साइबर क्राइम के इंटरनेशनल गैंग का पर्दाफाश कर बीकानेर पुलिस की उपलब्धियों को बढ़ाने वाले पुलिस महानिरीक्षक विपिन कुमार पाण्डेय और एस पी डॉ अमनदीप सिंह कपूर ने प्रेस कान्फ्रेंस के दौरान आह्वान किया कि समाज का प्रत्येक घटक एवं हर व्यक्ति जागरूक होकर अपराधों की रोकथाम में अपनी भूमिका निभाए। खास तौर से ध्यान रखा जाए कि आपकी अपनी गुप्त सूचनाएं और रुपए किसी अन्य के हाथ न लगने पाएं। सावधान रहें, आपके धन पर ठगों की नजर हो सकती है इसलिए अपने खाते, लॉकर आदि के पासवर्ड, कोड आदि किसी को नहीं बताएं।*

नाइजीरियन और आरोपी गैंग के अन्य लोगों को गिरफ्त में लेने के लिए पुलिस टीमें गठित
नाईजीरियन तथा इस गैंग के अन्य सदस्यों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस की अलग-अलग टीमें बनाई जाकर गिरफ्तारी के प्रयास किये जा रहे है।
आरोपियों के खाते में अभी जमा है 35 से 40 लाख रुपये
पुलिस महानिरीक्षक के ....

यह है मामला
29 नवम्बर को नीतू शर्मा निवासी बीकानेर ने एक परिवाद एसपी कार्यालय में पेश की तथा बताया कि मैंने जीवन साथ डॉट कॉम की मैट्रोमोरियल वेबसाईट पर अपनी प्रोफाइल अपलोड की थी जिसके माध्यम से यू.के. पारस प्रेमकुमार की मुझ से व्हाट्सएप से सम्पर्क किया तथा हमारे बीच बातचीत होने लगी। फिर उसने बताया कि मैं यूएन एयरफोर्स में एयरकाफ्ट इंजीनियर हूं तथा ईराक में...शेष...http://ajmernama.com/rajasthan/203551/#sthash.A0gJWaHW.xiqq