Tuesday, August 25, 2015

इनामी सिंधी नाटकनि जा किताब छपजणु खपनि

इनामी सिंधी नाटकनि जा किताब छपजणु खपनि

associate
बीकानेर।


 जातल-सुंञातल सिंधी साहित्यकार, आलोचक अहमदबाद जे जेठो लालवानी चयो त राजस्थान सिंधी अकादमी जयपुर सां गडोगडु तमाम संस्थाउंनि पारां मेड़यल चटाभेटीअ में इनाम खट्यल सिंधी नाटकनि खे किताबी शिक्ल में पाठकनि ऐं रंगजगत जे साम्हूं आनणु खपे। ईआ जिम्मेदारी नाटकनि सां बावस्ता सभिनी लेखकनि, कलाकारनि जी आहे। जेठो लालवानी राजस्थान सिंधी नाटक सब्जैक्ट ते साहित्य अकादमी मुंबई, विशाल सिंध समाज सांस्कृतिक मंच बीकानेर ऐं सुजाग सिंधी मासिक जे गड्यल आयोजन जे समापन सत्र जी अध्यक्षता कंदे मौजूद रंग-प्रेमिनी खे संबोधित कनि पया। आयोजन बाबत पहिंजो रायो रखंदे वरिष्ठ साहित्यकार भगवान अटलानीअ चयो त हालात मुजिबु सभिनी खां अगु पहिंजी भाषा, कला, साहित्य ऐं संस्कृतिअ खे बचाइण लाइ कदम खणण जरूरी आहिनि। नाटक नवीस ऐं लेखक भाषा जी गरिमा जो बि ध्यानु रखंदे लिखनि ऐं नईं टेहीअ खे सिंधु संस्कृतिअ जे सुहिणनि रंगनि सां वाकिफु कराइनि। छह नाटकनि जो वाचन कयो वियो ऐं बाहिरियूं आयलि सिंधी साहित्यकारनि पहिंजा परचा पेश कया। परचनि जे आलोचनात्मक चर्चा कई वई। इनि खां अगु उद्घाटन सत्र में चिंतक ऐं साहित्यकार श्रीलाल मोहता, लालवानी, टैक्स सलाहकार एस एल हर्ष, अकादमी जे क्षेत्रीय सचिव कृष्णा किम्बहुने वगैरह मेहमाननि झूलेलाल जी तस्वीर अगियां जोत प्रज्वलित करे सिम्पोजियम शुरू कयो। मोहता चयो त विरहांङे बैद जुदा जुदा सूबनि में वसी करे बि सिंधी समाज पहिंजी संस्कृति खे सांभे रखण जो कमु कयो आहे। लालवानीअ 1880 ई खां वठी अजु सुधी जे नाटकनि जे सफर बाबत तफसील सां बुधायो। अकादमी जे किम्बहुने स्वागत भाषण डिंदे अकादमी जो ऐमु सिंधी भाषा साहित्य जे विकास बुधायो। टैक्स सलाहकार हर्ष सिंधी भाषा जे इतिहास ऐं उनिजे पुष्करणा ब्राह्मण समाज सां बाबस्ता रखंदड़ खास खास गाल्हियुनि जी जाण डिनी। सुजागु सिंधी मासिक जे देवीचंद खत्री बीकानेर जे रंगकर्म बाबत खास गाल्हियूं बुधायंू। सिम्पोजियम में कुल चार सत्र थिआ जिनन में जयपुर जे अटलानी, लक्ष्मण भंभाणी, सुरेश सिंधु, जोधपुर जे हरीश देवनानी, अजमेर जे सुरेश बबलानी, अहमदबाद जे लालवानी बीकानेर जे सुरेश हिंदुस्तानी पहिंजे नाटक जो वाचन कयो। मंच जे पवन देवानी धन्यवाद ज्ञापन डिनो।
मोहन थानवी