Tuesday, January 1, 2013

फैला पंख और भर उड़ान...


उड़ान..

आकाश असीम और खुला है
फैला पंख और भर उड़ान
गा नवगीत और स्थापित कर नव आयाम