Skip to main content

रोने से रोज़ी नहीं बढ़ती

रोने से रोज़ी नहीं बढ़ती  

अनथक कर्म करने के बावजूद वांछित प्रतिफल नहीं मिलने की षिकायत करने वाले बहुतेरे होंगे लेकिन कोई उनसे पूछे क्या रोना रोने से रोज़ी बढ़ती है ! दरअसल मैनेजमेंट कोर्स, अध्यात्म और व्यक्तित्व विकास जैसे प्रषिक्षणों में सकारात्मक विचारों की महत्ता बताई ही जाती है। ये सकारात्मक विचार-पाठ कोई आज के ईजाद पाठ्यक्रमों में प्रयुक्त नहीं होते बल्कि ‘‘उस्ताद-षागिर्द’’ काल से भी बहुत - बहुत पहले ‘‘गुरु-षिश्य’’ युग से सकारात्मकता को महत्व मिला हुआ है। पुराण कथाओं, ऐतिहासिक एवं लोककथाओं में भी सकारात्मक विचार अपनाने संबंधी सीख देने वाले उद्धहरण भरे पड़े हैं। आज का युग कल कारखानों में सिक्के ढालता है तो कभी श्रमिक वर्ग को खेत खलिहान में पसीना बहाकर या व्यापार के लिए दुरूह यात्राएं कर सेठ साहूकारों के लिए ‘‘गिन्नियों की थैलियां’’ भर लानी होती थी। श्रमिक वर्ग तब भी वांछित लाभ से वंचित रहता और आज भी कमोबेस ऐसा होता है। साथ ही यह भी तय है कि जगह जगह ऐसा रोना रोने वाले को लाभ भी बढ़ा हुआ नहीं मिलता। अर्थात युग और काम का रूप बदल गया लेकिन व्यवस्था ले देकर वहीं की वहीं रही ! प्रवष्त्ति भी नहीं बदली ! हां, जमाने ने अनथक परिश्रम करने वालों को षिखर पहुंचते जरूर देखा है।

Comments

हर एक पल की मुस्कान

महाराजा गंगा सिंह यूनिवर्सिटी में शुरू हुआ राजस्थानी विभाग

*खबरों में बीकानेर 🎤*
एमजीएसयू मेें राजस्थानी विभाग का हुआ शुुुुभारंंभ

बीकानेर 22/9/18 । राजस्थानी भाषा और संस्कृति अपनी विशिष्टता के कारण पूरे देश में अलग पहचान रखती है। शालीनता, सभ्यता और अपनेपन की इस भाषा को संवैधानिक मान्यता देना समय की ज़रूरत है। एमजीएसयू ने इसी पुनीत प्रयास में सहयोग के लिए अपने यहां राजस्थानी विभाग खोला है। विवि के कुलपति प्रो. भगीरथ सिंह ने यह बात महर्षि वशिष्ठ भवन सभागार में राजस्थानी विषय के शुभारंभ समारोह में कही। 'मायड़भासा री ओलखाण ' आयोजन को संबोधित करते प्रो. भगीरथ सिंह ने कहा कि शीघ्र ही इसे पूर्ण विभाग के रूप में स्थापित किया जाऐगा। उन्होंने कहा कि इस विषय का पाठ्यक्रम साहित्यकारों, समाज शास्त्रियों व शिक्षकों के सहयोग से तैयार किया जाऐगा। कुलपति ने समारोह में विश्वविद्यालय से पीएचडी राजस्थानी में प्रारंभ करने व इस के लिए छः सीट अलाॅट होने की घोषणा की। साथ ही उन्होंने राजस्थानी का एक पुस्तकालयतैयार करने व उदयपुर, जोधपुर व बीकानेर विश्वविद्यालयों के राजस्थानी विभागों का अकादमियों से जुड़कर संगोष्ठीयां आयोजित करने का सुझाव भी मंच से दिया। उन्ह…

वोटों की बौछार करवाने के लिए कस लो कमर

वोटों की बौछार करवाने के लिए कस लो कमर
 (भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा की संभागीय बैठक में राष्ट्रीय अध्यक्ष अंसारी ने कहा) 
वोटों की बौछार करवाने के लिए कस लो कमर बीकानेर।  भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा बीकानेर शहर द्वारा बीकानेर संभाग पदाधिकारी बैठक  होटल वृन्दावन में आयोजित की गयी। राष्ट्रीय अध्यक्ष अब्दुल रशीद अंसारी ने संबोधित करते हुये मोर्चा के पदाधिकारियों को चुनाव के लिये कमर कसने की बात कही तथा आगामी चुनाव मे अल्पसंख्यक समुदाय के वोटों का प्रतिशत भाजपा के पक्ष रहे इसके लिये बूथो को मजबूत करने की बात कही। केन्द्रीय मंत्री अर्जुनराम मेघवाल ने  कहा कि हमारे प्रधानमंत्री  द्वारा अल्पसंख्यक वर्ग को मुख्यधारा में लाने के अथक प्रयास किये गये इस क्रम में मुस्लिम समुदाय के लोगो को बिना गारन्टी ऋण,हज़ सब्सिडी आदि योजनाएं कारगर साबित हुई है। मोर्चा के प्रदेशाध्यक्ष मजीद मलीक कंमांडो ने राजस्थान में पुन: भाजपा की सरकार बने इसके लिये जिलेवार वार्ड एव बूथ स्तर पर ताकत झोंकने की बात कही।  मोर्चा के पूर्व प्रदेशाध्यक्ष मुमताज़ अली भाटी ने पार्टी को मजबूत बनाने की बात कही। भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा के जिल…

खबरों में बीकानेर 🎤 - सवाल जिताऊ को टिकट का , अंसारी ने "जिताऊ" को दी नई परिभाषा "अधिक फॉलोविंग वाला"

खबरों में बीकानेर 🎤 

सवाल जिताऊ को टिकट का
अंसारी ने "जिताऊ" को दी नई परिभाषा "अधिक फॉलोविंग वाला"  बीकानेर 23/9/18। चुनावों में पार्टी द्वारा टिकट जिताऊ को दिए जाने सबंधी सवाल पर बात को घुमाते हुए भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चे के राष्ट्रीय अध्यक्ष अब्दुल रशीद अंसारी ने कहा कि पार्टी उसी व्यक्ति को टिकिट देगी जो Following   अधिक रखता हो। रविवार को होटल वृन्दावन में मीडिया से बातचीत में उन्होंने कहा कि मोर्चे ने राजस्थान से 10 टिकिट मांगे हैं। अंसारी ने आरक्षण के मद्देनजर 200 सीटों मे से केवल 10 सीटें मांगना उचित समझते हैं के सवाल पर कोई जवाब नहीं दिया।  नोट बंदी व जी एस टी की बात पर उन्होंने कहा यह देश हित में है। निकायों संबंधी स्थानीय समस्याओं के निवारण में मोर्चा कार्यकर्ताओं के सहयोग के लिए गाइड लाइन सबंधी सवाल को भी अंसारी ने टाल दिया।  वार्ता के दौरान अजीत मालिक, महापौर नारायण चोपड़ा , यू आई टी चैयरमेन महावीर रांका, मुमताज अली भाटी, असद राजा भाटी, अनवर अजमेरी आदि उपस्थित रहे। -✍️ मोहन थानवी