Skip to main content

झोली भर दुखड़ा अ’र संभावनावां रा मोती (एक डाक्टर की डायरी)

झोली भर दुखड़ा अ’र संभावनावां रा मोती

झोली भर दुखड़ा (एक डाक्टर की डायरी)
मूल हिंदी  - डा श्रीगोपाल काबरा 
राजस्थानी अनुवाद - श्री बिहारीशरण पारीक
प्रकाशक - बोधि प्रकाशन, 
झोली भर दुखड़ा अ’र संभावनावां रा मोती
हिंदी सूं  राजस्थानी में उल्थौ कहाणी संग्रै झोली भर दुखड़ा कै मायं भावनावां की लहरां माथै संभावनावां की नाव तैरती दिखै। मायड़ भाषा में मोती जियां चिमकता आखर। नाव में सवार है रोगी अ’र पतवार चलावण रौ काम दूजा पात्र नीं बल्कि कलमकार री आपणी अनूठी शैली करै। श्री बिहारीशरण पारीक इण कहाणियां को उल्थौ कर्यो है जिकी हिंदी में डा श्रीगोपाल काबरा रची अ’र डायरी विधा नै नूवां आयाम दिराया। हालांकि आ डायरी री शिकल में कोनी पण अेक डाक्टर री डायरी मायं इसौ शिल्प रच्यो गयो है जिकै सूं आंख्यां सामै को दरसाव किताब कै पाना माथै पाठक नै दूरदर्शन करावै। संग्रै में मरीज अ’र उण रै परिवारवालां सागै सागै अेक डाक्टर री उण पीड़ री दास्तान है जिकी हंसती खेलती जिनगाणी में आज कै समै री खुशरंग चादर माथै दुख तकलीफ रै मवाद सूं भर्योड़ी बीमारी सूं बणयोड़ो पैबंद है। पीड़ रा भी कितराइ दरसाव होय सकै अ’र इण संग्रै में अेक भाषा सूं दूजी भाषा रा गाबा धारण करता शब्द भांत भांत रै दरसावां नै सामै राखै। झोली भर दुखड़ा संग्रै में कैंसर रोगी अ’र गरभसमापन सागै नसबंदी विसै माथै कुल 15 कहाणियां है। सगळी कहाणियां पाठक नै झकझोर देवण वाली हैं। कहाणीकार संवेदनशील है इण रौ भान कुछैक कथावां में कैंसर सूं जूझतौ थकौ मरीज अ’र उणनै काल कोठरी में खेंच’र ले जावंती यमराज री छियां बिचालै मरीज री जीवणै री ललक बांचता थका पाठकां री आंख सूं बैवतो पाणी करा देवै। गरभपात को अधिकार, कहाणी आज रै समै में समाज री सोच नै उजागर करै तो कंवारी धाय कथा कै मायं नारी मन कै अंधेरे अ’र उंडे कोना के मायं चिलकती रोशनी री लकीर सांप सरीखी लैराती चाल पाठक नै उद्वैलित बणा दैवै। चांदी का पालणा मांय लड्डू गोपाल कहाणी अेकखानी तो नारी मन री पीड़ नै दरसावै तो दूजी ठौड़ गरभपात खातर समाज री सोच नै बतावै पण इणरौ समापन कहाणी परंपरा सूं अलग नीं होवंतों भी नूवंेपण री उजास देवै अ’र प्रभावित करै। सबसूं इलायदा बात है इण कहाणी में अेक डॉक्टर को नजरियो, जिकै सूं कहाणी कै मायं घटना, संवाद अ’र घणासीक पात्र होवतां थका भी आखिरतांई चांदी का पालणा मायं लड्डू गोपाल पाठक री आंख्यां सामै थिरकता दिखै। कहाणी इच्छा मरण कैंसर पीडिृत अेक रोगी रै आखाण रै बहाने सूं जिनगाणी अ’र मौत रौ फलसफो बतावै। आज कै हाईटेक कंप्यूटरीकृत आधुनिक युग के मायं भी कैंसर जिसै रोग री चपेट में पीड़ादायी जीवन सूं हार मानता थका उण भावनावां नै सामी राखै जिकी अेक मिनख दूजै मिनख खातिर कदैई पाल पोस कोनी सकै। इच्छा मरण रै सामाजिक, चिकित्सकीय अ’र कानूनी पक्ष माथै मूल लेखक तो साधुवाद को पात्र है ही, सागै सागै मार्मिक ढंग सूं आखाण करण में अनुवादक बिहारीशरण पारीक जी रै दीर्घ साहित्यिक जीवन रै अनुभव नै भी कहाणी बांचता ताण पाठक खुद ब खुद नमन करै। करोड़ा राजस्थानियां री मायड़ भाषा में हिंदी सूं अनूदित कथा संग्रै समृद्ध राजस्थानी साहित्य में अेक अनमोल मोती मानीजसी। झोली भर मोती। -prastuti  - मोहन थानवी      

Popular posts from this blog

देश के भविष्य को नए आयाम देने के मार्ग पर चल रही मेधावी छात्राओं को स्कूटी मिली; हैलमेट मिलेगा

मेधावी छात्रा स्कूटी वितरण कार्यक्रम के तहत 44 छात्राएं हुई लाभांवितबीकानेर, 20 जुलाई 2017 ( मोहन थानवी )।  देश के भविष्य को नए आयाम देने के मार्ग पर चल रही 44 मेधावी छात्राओं के चेहरे खिले हुए थे मगर वे बातें धीर-गंभीर कर रहीं थीं। एक छात्रा ने कहा; अरे सुन तो... मैं तो स्कूटी चला कर घर नहीं जा पाऊंगी। दूसरी का सवाल था - क्यों ? उसे जवाब मिला; यार मेरे पास तो  न हैलमेट है न लर्निंग लाइसेंस। चैकिंग में फंस गई तो ? स्कूटी मिलने की खुशियां मनाती इन छात्राओं की बातचीत में जहां व्यवस्था के अनुसार चलने का ज्बा था वहीं शहर में ट्रैफिक सुचारु बनाए रखने के लिए की जाने वाली चैकिंग के प्रति सम्मान भी झलक रहा था मगर इन सब पर  प्रोत्साहन में स्कूटी मिलने की खुशी सबसे बड़ी थी। ऐसा नजारा हुआगुरूवार को राजकीय महारानी सुदर्शन कन्या महाविद्यालय में जहां समारोह में 44 मेधावी छात्राओं को स्कूटी वितरित की गई। इस मौके पर गत वर्ष स्कूटी प्राप्त करने वाली 35 छात्राओं हैलमेट दे चुके संसदीय सचिव डॉ. विश्वनाथ मेघवाल ने इस बार स्कूटी प्राप्त करने वाली सभी 44 छात्राओं को भी यातायात नियमों की अनुपालना करने का आह्…

बीकानेर : स्थापना दिवस मना रहा है शहर

बीकानेर : स्थापना दिवस मना रहा है शहर

जयपुर-दिल्ली बाइपास पर हुआ बीकाजी के भव्य शोरूम का उद्घाटन

जयपुर दिल्ली बाईपास पर बीकाजी के भव्य शोरूम का उद्घाटन  माननीय श्री शिवरतन जी अग्रवाल (फन्ना बाबू) बीकाजी ग्रुप के चेयरमैन राजस्थान सरकार के वरिष्ठ अधिकारी एआईएस निरंजन जी आर्य के हाथों संपन्न हुआ  इस अवसर पर मक्खनलाल अग्रवाल घनश्याम लखाणी विष्णु पुरी हेतराम गौड रविंद्र जोशी महेंद्र अग्रवाल सूरजमल खंडेलवाल व शोरूम के सभी संचालक मौजूद रहे।