Monday, January 14, 2013

When life does not find a singer... उथो जागो त पहिंजी इन्हींअ सिंधु खे ठाह्यूं


  • When life does not find a singer to sing her heart, she produces a philosopher to speak her mind.          –KHALIL GIBRAN (1883-1931) 
  • नई टेहीअ खे बि सिंधु संस्कृति ऐं सिंधीयत जी अहमियत जी जाण बखूबी आहे ऐं हिमथायो व´े त कहिं शक जी गाल्हि कोन आहे कि अचण वारे वक्ति में सिंधु संस्कृति जी जोत दुनिया जी कुंड कुड़झ में वरी उवांई भभके जीअं हजार वरियह अगु चिमकंदी हुई। उथो जागो त पहिंजी इन्हींअ सिंधु खे ठाह्यूं ... उथो जागो त-
    उथो जागो त पहिंजी इन्हींअ सिंधु खे ठाह्यूं
    अजमेर इन्दौर न उल्हास नगर
    हिन्द सजी सिंधु समझयूं असां सभई भाउर
    विकणी सभु बुराइयूं पहिज्यूं, चंङाई ठाह्यूं
    सच्चा व्यापारी चवायूं सिंधी
    हिन्दु जी कुण्ड-कुड़छ में जोति जगायूं सिंधी
    उथो जागो त पहिंजी इन्हींअ सिंधु खे ठाह्यूं
    जेका विसामिजण ते आहे
    सिंधियतजी उवाई वडी जोति भभिकायूं
    पहिंजे बारनि जे- जीवन खेत में खोटयूं
    कर्म जो दरिया
    वाह्यूं पसीनो थे खीरु मिठ्ठो
    खारायूं पहिंजे बारनि खे
    व्यापार जो गुण साणु पहिंजियूं रितियूं
    उथो जागो त पहिंजी इन्हींअ सिंधु खे ठाह्यूं