Skip to main content

अट्टू-पट्टू की उधारी


अट्टू-पट्टू की उधारी 

 (हास्य  -- सिन्धी से अनुवादित) --- (अरबी सिन्धी मे ये
श्रंखला हिन्दू डेली अजमेर से २०१० में पब्लिश  हो चुकी है  ).................................
बीमारी की बदकिस्मती। बरसात के मौसम में वह अट्टू को जा लगी। बदन दर्द, सर्दी,
खांसी, जुकाम हां भाई हां ये सब।
मौसम को कोसते हुए अट्टू साहिब ने दो दिन में तीन डॉक्टर बदल लिये। इन
बीमारियों में से एक भी कम नहीं हुई बल्कि थकान की बीमारी और बढ़ गई। चाइनाराम
सिन्धी हलवाई की सिन्धी मिठाई सिन्धी हलवा के टीन के एक डिब्बे में अट्टू साहिब
ने ठूंस ठूंस कर टेबलेट्स की स्ट्रिप्स रखी। साथ में इनव्हेलर, बाम और एक
थर्मामीटर भी सहेजा। चार दिन बाद तो उन्हंे आफिस से भी फोन आने लगे - आफिस आ
जाओ भैया वरना विदाउट पे माने जाओगे। अट्टू साहिब भला ऐसा कैसे होने देते, सो
पांचवें दिन जा पहुंचे आफिस।
पिऑन से लेकर बड़े साहब तक सबसे पहले उन्होंने ‘जय हो’ से दुआ-सलाम की। फिर अपनी
सीट पर बैठे तो पूछापाछी के लिए साथियों ने तांता लगा दिया। चार दिन में अलग
अलग डॉक्टरों का अनुभव लेने वाले अट्टू साहिब भला ऐसा मौका कैसे चूक सकते थे।
सो वे अपनी बीमारी को भूल गए। खांसी-जुकाम, सिरदर्द यूं भी स्वाभाविक रूप से
चार-पांच दिन बाद आदमी का पीछा छोड़ देते हैं।ऐसा ही अट्टू साहब के साथ हुआ मगर
अच्छा हुआ। वे खुद को हकीम लुकमान का रिश्तेदार समझने लगे।
माथुर साहब ने उनसे पूछा - कौनसी दवा ली आपने, जल्दी असर कर गई। देखो न सुबह से
मुझे भी सरदर्द हो रहा है।
खांसी भी है क्या! अट्टू साहब ने अपनी डॉक्टरी चलाई।
हां हां साहब, जुकाम भी है।
बदन दर्द भी कर रहा होगा!
हां भाई हां!
तो समझो तुम्हारा रोग मैंने दूर कर दिया। ये लो दो गोली।
कैसे लूं।
कैसे... अरे भाई दो चाय मंगवाओ। एक तुम पिओ, एक मैं पी लूंगा।
इससे मेरी बीमारी दूर हो जाएगी!
अरे क्या बात करते हो! चुटकियों में...
साहब, पिछले चार घंटे से परेशान हूं...
चिंता मत करो। जैसा कहूं वैसा करते जाओ।
आप कहते हैं तो यकीन करना पड़ रहा है वरना...
फिर वही निराशावादी बातें। भैया आशावादी बनो...आशावादी
लेकिन जब नाक बहती रहेगी तो आशाएं रह कहां जाएंगी साहब...
अच्छा, टेंशन भी बहुत है तुम्हंे... ये लो, एक टेबलेट और...
मर गया! अरे साहब आप चाहेें तो समोसे भी चाय के साथ मंगवा देता हूं। बस और दवाई
न दें साहब
ऐसे कैसे हो सकता है। दवा खाए बगैर तुम्हें आराम कैसे मिलेगा भैया
मेरी हालत पर तरस खाएं...
तुम दवाइयां खाओ भैया। मैं तरस खाउं या सरस...इसकी चिंता मत करो। और अब
तुम्हारा समय खत्म...प्लीज अब शर्माजी को आने दो। बहुत देर से अपनी सीट पर पहलू
बदल रहे हैं। और हां भैया, कल चैकअप करवाने जरूर आना।
शर्माजी वास्तव में अट्टू साहिब से मिलने को बेचैन थे। माथुर के जाते ही वे
अट्टू साहब के केबिन में जा घुसे। पहले खंखारे, फिर मुस्कराये। कुर्सी को जरा
पीछे खिसकाया और बड़ी अदा से उस पर बैठ गए। अट्टू साहिब अपनी डॉक्टरी के नशे
में... क्षमा कीजिये... कुछ देर पहले खाई दवा की खुमारी में थे। अधखुली आंखों
से उन्होंने शर्माजी को देखा, कुछ सजग हुए और बोले - तो शर्माजी आपको भी कब्ज
हो गई।
शर्माजी हैरान! यह राज की बात अट्टू साहिब को कैसे मालूम हुई! खैर उन्होंने मन
ही मन तय किया और फिर खंखारते हुए बोलने को उद्यत हुए - अट्टू साहब, बात दरअसल
ये....
अट्टू साहब ने उनकी बात लपक ली - छोड़ो भी शर्माना, शर्माजी मैं आपकी समस्या दस
मिनट में दूर कर दूंगा...
सच साहब...
हां भाई हां!
ओ... फिर तो मैं पट्टू से भी शर्त जीत जाउंगा...।
शर्त... कैसी शर्त... खैर छोड़ो... ये लो, इसे गर्म पानी के साथ ले लो।
नहीं नहीं मैं ये नहीं लूंगा मैं तो आपसे....
कैसे नहीं लोगे... मुझे जानते नहीं! मैं देकर ही दम लूंगा।
अट्टू साहिब... आपने छह महीने पहले मुझसे पांच सौ रुपये लिये थे वही दे
दीजिये... प्लीज
हें... क्या ... अट्टू साहिब की जुबान मानो अकड़ गई।
हां साहब। शर्माजी बोले - मैं तो आपसे वे रुपये लेने ही आया था। पट्टू ने भी
मुझसे शर्त लगाई है, यदि आपने रुपये लौटा दिये तो वह मुझे सौ रुपये अतिरिक्त
देगा।
अट्टू साहब को इतनी देर बाद फिर से सर्दी-जुकाम, खांसी-सरदर्द ने घेर लिया। वे
अपने दवाइयों के जखीरे से टेबलेट निकाल कर सामने रखने लगे। शर्माजी से नजरें
मिलाने से पहले वे ब्लड प्रेशर की टेबलेट ले चुके थे। - मोहन थानवी (अरबी
सिन्धी मे ये श्रंखला हिन्दू डेली अजमेर से २०१० में पब्लिश  हो चुकी है  )

Comments

Popular posts from this blog

बीमा सेवा केन्द्र का शुभारम्भ

*खबरों में बीकानेर*/ बीकानेर 29 नवम्बर 2017।  भारतीय जीवन बीमा निगम के वरिष्ठ विकास अधिकारी हरीराम चौधरी के मुख्य बीमा सलाहकार भगवाना राम गोदारा के बीमा सेवा केन्द्र का शुभारम्भ जूनागढ़ पुराना बस स्टैण्ड  सादुल सिंह मूर्ति सर्किल के पास बीकानेर में हुआ। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि भारतीय जीवन बीमा निगम के वरिष्ठ मण्डल प्रबन्धक सुधांशु मोहन मिश्र "आलोक" तथा विशिष्ट अतिथि कोलायत विधायक  भंवर सिंह भाटी थे। बीमा सेवा केन्द्र में निगम की पॉलिसियों के बारे में जानकारी तथा प्रीमियम जमा करवाने के साथ-साथ कई प्रकार की सुविधायें उपलब्ध होगी।कार्यक्रम में श्री सुधांशु मोहन मिश्र ष्आलोकष् ने बीमा को आज व्यक्ति की मुख्य आवश्यकता बताते हुये कहा कि जहॉं गोवा राज्य में 79ः  जनसंख्या बीमित है वहीं राजस्थान में यह प्रतिशत मात्रा 20 है जो कि सोचनीय है । उन्होनें कहा कि व्यक्ति और समाज के लिये  आर्थिक सुरक्षा सबसे महत्वपूर्ण है जिसकी पूर्ति बीमा के माध्यम से ही सम्भव है। उन्होंनें निगम की ष्बीमा ग्रामष् अवधारणा के बारे में बताते हुये कहा कि बीमा ग्राम घोषित होने वाले गांव को विकास के लिये निगम द्वा…

अखिल भारतीय साहित्य परिषद् बीकानेर महानगर इकाई में मोनिका गौड़ वरिष्ठ उपाध्यक्ष नियुक्त

विभिन्न संगठनों ने जताई खुशी

बीकानेर। अखिल भारतीय साहित्य परिषद की बीकानेर महानगर इकाई में मोनिका गौड़ को वरिष्ठ उपाध्यक्ष नियुक्त किया गया है। रानी बाजार स्थित संघ कार्यालय शकुंतला भवन में हुई बैठक में अखिल भारतीय साहित्य परिषद् के प्रदेशाध्यक्ष डॉ. अन्नाराम शर्मा की अनुशंसा से महानगर अध्यक्ष विनोद कुमार ओझा द्वारा मोनिका गौड़ को वरिष्ठ उपाध्यक्ष बनाये जाने पर पंडित दीनदयाल उपाध्याय स्मृति मंच के बीकानेर शहर जिलाध्यक्ष गोविंद पारीक, देहात जिलाध्यक्ष काशी शर्मा खाजुवाला, बीकानेर ब्राह्मण समाज संभागीय अध्यक्ष देवेंद्र सारस्वत, भारत स्काउट गाइड राष्ट्रीय उपाध्यक्ष डॉ विमला डुकवाल, एडवोकेट जगदीश शर्मा, गौड़ सनाढय फाउंडेशन युवा जिलाध्यक्ष दिनेश शर्मा, अखिल भारतीय सारस्वत कुंडीय समाज विकास समिति प्रदेशाध्यक्ष श्यामसुंदर तावनियां, श्रीछःन्याति ब्राह्मण महासंघ उपाध्यक्ष रुपचंद सारस्वत, पार्षद भगवती प्रसाद गौड़, सरस वेलफेयर सोसाइटी अध्यक्ष मनोज सारस्वा पूनरासर, राजेन्द्र प्रसाद गौड़, अखंड भारत मोर्चा नोखा के दिनेश कुमार जस्सू, श्रीसर्व ब्राह्मण महासभा की महिला संयोजिका शोभा सारस्वत, अंतरराष्…

कुर्सी को मुस्कुराने दो : तब्सरा-ए-हालात

जादूगर जादूगरी कर कर गया। कुर्सी मुस्कुराती रही । बाजीगर देखता ही रह गया । उसके झोले से हमें मानो आवाज सुनाई दी  कुर्सी को मुस्कुराने दो ।  गाय घोड़े पशु पक्षियों के चारा दाना तक में घोटाले हुए । सीमा पर दुश्मन से लोहा लेने के लिए खरीदे जाने वाले अस्त्र शस्त्रों में घोटाले हुए। जनता तक एक रुपए में से मात्र 15 पैसे पहुंचने की बातें हुई मगर कुर्सी मुस्कुराती रही। मगर यह कोई जादू नहीं है  कि पेट्रोल  हमारी गाड़ियों को चलाने के लिए वाजिब दामों में  उपलब्ध होने की बजाय  हमारी जेबों में आग लगा रहा है । पेट्रोल ने जेबों में आग लगा दी  कुर्सी मुस्कुराती रही  । बच्चे मारे गए कुर्सी मुस्कुराती रही।  सीमा पर  हमारे जवान शहीद होते रहे  कुर्सी मुस्कुराती रही  । जाति संप्रदाय  आरक्षण के नाम पर  आक्रोश फैलता रहा  कुर्सी मुस्कुराती रही। करनाटक में बिना जरूरत के भव्य नाटक का मंचन हुआ कुर्सी मुस्कुराती रही। लाखों की आबादी के बीच सरकारी अस्पतालों में कुछ लाख रूपये के संसाधनों के अभाव में मरीज तड़पते रहे और न जाने किस बजट से हजारों करोड़ों रुपयों के ऐसे भव्य कार्य हुए जिनकी फिलवक्त आवश्यकता को टाला जा सक…