Skip to main content

रवींद्र रंगमंच के लिए एक आंदोलन ऐसा भी...

वींद्र रंमं के लिए एक आंदोलन ऐसा भी...

रंगकर्मियांे की भावनाएं और करोड़ों का मंच उपेक्षित

कला-साधकों की पीड़ा

भरोसे में हरेभरे बाग उजड़ जाते हैं
सोने वालों के स्टेशन पीछे छूट जाते हैं
जागने वालों को दिखती है नटवर की अदाएं
सरकार संवेदनशील हो तो अधिकारी रंगमंच बनाएं
कला धर्मियों के ऐसे आंदोलनों और भावनाओं की अनदेखी संवेदनहीन सरकार और प्रशासन करता रहा है और यह द्योतक है इस बात का कि सुशासन नहीं है, क्योंकि सुशासन में सर्वप्रथम राज सांस्कृतिक धरोहरों का संरक्षण कर उन्हें नए आयाम देने में संस्कृतिकर्मियों को प्रोत्साहित करता है।
बीकानेर के अधूरे निर्मित उपेक्षित मंदिर वींद्र रंमं के लिए कला-साधकों ने मंदिर में पूजा-अर्चना को एक आंदोलन का रूप दे दिया किंतु सरकार और प्रशासनिक अधिकारियों के साथ साथ जनप्रतिनिधि तक इस ओर आंखें मूंदे बैठे हैं।  रंगमंच का निर्माण-कार्य पहले तो अधरझूल में छोड़ा गया, फिर आंदोलन के चलते इसमें प्रगति का मार्ग प्रशस्त कर आशा के दीप प्रज्वलित किए गए किंतु अब फिर से ऐसे हालात सामने आ खड़े हुए कि दूर तक भी रंगमंच की टिमटिमाती रोशनी नजर नहीं आ रही।
सरकार और जन प्रतिनिधियों को यह मालूम होना ही चाहिये कि बीकानेर में करोड़ों का एक मंदिर "वींद्र रंमं" उपेक्षित पड़ा है। यदि मालूम है तो इस ओर कोई प्रयास नहीं होने तथा मालूम नहीं होने की स्थिति में समृद्ध सांस्कृतिक परंपरा की उपेक्षा किए जाने से रंगमंचीय गतिविधियों से राज्य ही नहीं, देषभर में अपनी विषिष्ट पहचान बनाने में कामयाब बीकानेर के रंगकर्मी आहत हैं।
रंगमंच की सर्वाधिक गतिविधियों वाली कला-नगरी में नुक्कड़ नाटक भी चर्चित रहे हैं तो एमएस, रामपुरिया, जैन, डूंगर और कृषि महाविद्यालयों सहित जूनागढ़, रेलवे स्टेडियम, रेलवे प्रेक्षागृह में भी रंग-प्रस्तुतियां दी और सराही जाती रही हैं।   
वींद्र रंमं का निर्माण डेढ़ दशक में भी अधिक समय से अधरझूल में है जो रंगकर्मियों को संताप दे रहा है। ये तो रंगकर्मियों का मनोबल और विश्वास है कि इस अधूरे निर्मित मंदिर में वे लालटेन की रोषनी में  चित्र-प्रदर्षनी लगाकर विरोध प्रकट करते हैं ताकि सरकार तक उनकी आशा की किरण की जानकारी पहुंच सके। सभी को याद है, चार छह साल पहले युवा चित्रकारों ने अधूरे वींद्र रंमं पर लालटेन जला कर चित्र प्रदर्षित किए थे। अपनी आकांक्षाओं को अंधेरे से उजाले की ओर ले जाते हुए इस ओर से आंखें फिराए बैठी सरकार और स्थानीय प्रशासन को जगाया-चेताया था। दो दशक होने को आए किंतु रंगकर्मियों की आंखांे में आज भी आषा की ज्योति झिलमिला रही है।
आश्चर्य है कि बीकानेर में वींद्र रंमं के निर्माण कार्य पर अब तक करोड़ों खर्च हो चुके हैं मगर रंगकर्मियांे का सपना पूरा नहीं हो रहा। आवास विकास संस्थान और सांसद कोटे से राशि सहित सरकारी स्तर पर भी बजट की सुविधा के बावजूद एक निर्माण कार्य के ये हाल हैं। किसी समय सार्वजनिक निर्माण विभाग ने इसके लिए 1.47 करोड़ के खर्च का अनुमान बताया था और आज इससे कहीं अधिक राशि व्यय होने के बावजूद काम पूरा नहीं हो रहा।
साहित्यकारों ने भी वींद्र रंमं के अधूरे निर्माण पर क्षोभ प्रकट किया। जनकवि हरीश भादानी के सान्निध्य में भवानी शंकर व्यास ‘‘विनोद’’, लक्ष्मीनारायण रंगा सहित बड़ी संख्या में साहित्यकार सड़कों पर उतरे। इस प्रकार प्रशासन का ध्यानकर्षण करने में राजस्थान संगीत नाटक अकादमी, जोधपुर के सदस्य रहे वरिष्ठ रंगकर्मी मधु आचार्य ‘‘आशावादी’’ सहित रंगमंच अभियान समिति के ओम सोनी, अनुराग कला केन्द्र के कमल अनुरागी, सुधेश व्यास, संकल्प नाट्य समिति, रंगन, अर्पण आर्ट सोसायटी, नट, साहित्य संस्कृति संस्थान, नेषनल थिएटर, सरोकार आदि कला-संस्थाओं के पदाधिकारियों आनंद वि आचार्य, विपिन पुरोहित, दलीप भाटी, प्रदीप भटनागर सहित नगर के हर  सृजनधर्मी ने रंगमंच के अधूरे निर्माण को पूरा कराने के लिए प्रयास किए हैं। इनमें अनेकानेक वे रंग-कला प्रस्तुतियां भी शामिल हैं जो वींद्र रंमं निर्माण स्थल पर बिना सुविधाओं के भी रंगप्रेमी दर्षकों के सम्मुख दी और सराही गई।
कला धर्मियों के ऐसे आंदोलनों और भावनाओं की अनदेखी संवेदनहीन सरकार और प्रशासन करता रहा है और यह द्योतक है इस बात का कि सुशासन नहीं है, क्योंकि सुशासन में सर्वप्रथम राज सांस्कृतिक धरोहरों का संरक्षण कर उन्हें नए आयाम देने में संस्कृतिकर्मियों को प्रोत्साहित करता है। - मोहन थानवी

Comments

Popular posts from this blog

बीमा सेवा केन्द्र का शुभारम्भ

*खबरों में बीकानेर*/ बीकानेर 29 नवम्बर 2017।  भारतीय जीवन बीमा निगम के वरिष्ठ विकास अधिकारी हरीराम चौधरी के मुख्य बीमा सलाहकार भगवाना राम गोदारा के बीमा सेवा केन्द्र का शुभारम्भ जूनागढ़ पुराना बस स्टैण्ड  सादुल सिंह मूर्ति सर्किल के पास बीकानेर में हुआ। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि भारतीय जीवन बीमा निगम के वरिष्ठ मण्डल प्रबन्धक सुधांशु मोहन मिश्र "आलोक" तथा विशिष्ट अतिथि कोलायत विधायक  भंवर सिंह भाटी थे। बीमा सेवा केन्द्र में निगम की पॉलिसियों के बारे में जानकारी तथा प्रीमियम जमा करवाने के साथ-साथ कई प्रकार की सुविधायें उपलब्ध होगी।कार्यक्रम में श्री सुधांशु मोहन मिश्र ष्आलोकष् ने बीमा को आज व्यक्ति की मुख्य आवश्यकता बताते हुये कहा कि जहॉं गोवा राज्य में 79ः  जनसंख्या बीमित है वहीं राजस्थान में यह प्रतिशत मात्रा 20 है जो कि सोचनीय है । उन्होनें कहा कि व्यक्ति और समाज के लिये  आर्थिक सुरक्षा सबसे महत्वपूर्ण है जिसकी पूर्ति बीमा के माध्यम से ही सम्भव है। उन्होंनें निगम की ष्बीमा ग्रामष् अवधारणा के बारे में बताते हुये कहा कि बीमा ग्राम घोषित होने वाले गांव को विकास के लिये निगम द्वा…

अखिल भारतीय साहित्य परिषद् बीकानेर महानगर इकाई में मोनिका गौड़ वरिष्ठ उपाध्यक्ष नियुक्त

विभिन्न संगठनों ने जताई खुशी

बीकानेर। अखिल भारतीय साहित्य परिषद की बीकानेर महानगर इकाई में मोनिका गौड़ को वरिष्ठ उपाध्यक्ष नियुक्त किया गया है। रानी बाजार स्थित संघ कार्यालय शकुंतला भवन में हुई बैठक में अखिल भारतीय साहित्य परिषद् के प्रदेशाध्यक्ष डॉ. अन्नाराम शर्मा की अनुशंसा से महानगर अध्यक्ष विनोद कुमार ओझा द्वारा मोनिका गौड़ को वरिष्ठ उपाध्यक्ष बनाये जाने पर पंडित दीनदयाल उपाध्याय स्मृति मंच के बीकानेर शहर जिलाध्यक्ष गोविंद पारीक, देहात जिलाध्यक्ष काशी शर्मा खाजुवाला, बीकानेर ब्राह्मण समाज संभागीय अध्यक्ष देवेंद्र सारस्वत, भारत स्काउट गाइड राष्ट्रीय उपाध्यक्ष डॉ विमला डुकवाल, एडवोकेट जगदीश शर्मा, गौड़ सनाढय फाउंडेशन युवा जिलाध्यक्ष दिनेश शर्मा, अखिल भारतीय सारस्वत कुंडीय समाज विकास समिति प्रदेशाध्यक्ष श्यामसुंदर तावनियां, श्रीछःन्याति ब्राह्मण महासंघ उपाध्यक्ष रुपचंद सारस्वत, पार्षद भगवती प्रसाद गौड़, सरस वेलफेयर सोसाइटी अध्यक्ष मनोज सारस्वा पूनरासर, राजेन्द्र प्रसाद गौड़, अखंड भारत मोर्चा नोखा के दिनेश कुमार जस्सू, श्रीसर्व ब्राह्मण महासभा की महिला संयोजिका शोभा सारस्वत, अंतरराष्…

कुर्सी को मुस्कुराने दो : तब्सरा-ए-हालात

जादूगर जादूगरी कर कर गया। कुर्सी मुस्कुराती रही । बाजीगर देखता ही रह गया । उसके झोले से हमें मानो आवाज सुनाई दी  कुर्सी को मुस्कुराने दो ।  गाय घोड़े पशु पक्षियों के चारा दाना तक में घोटाले हुए । सीमा पर दुश्मन से लोहा लेने के लिए खरीदे जाने वाले अस्त्र शस्त्रों में घोटाले हुए। जनता तक एक रुपए में से मात्र 15 पैसे पहुंचने की बातें हुई मगर कुर्सी मुस्कुराती रही। मगर यह कोई जादू नहीं है  कि पेट्रोल  हमारी गाड़ियों को चलाने के लिए वाजिब दामों में  उपलब्ध होने की बजाय  हमारी जेबों में आग लगा रहा है । पेट्रोल ने जेबों में आग लगा दी  कुर्सी मुस्कुराती रही  । बच्चे मारे गए कुर्सी मुस्कुराती रही।  सीमा पर  हमारे जवान शहीद होते रहे  कुर्सी मुस्कुराती रही  । जाति संप्रदाय  आरक्षण के नाम पर  आक्रोश फैलता रहा  कुर्सी मुस्कुराती रही। करनाटक में बिना जरूरत के भव्य नाटक का मंचन हुआ कुर्सी मुस्कुराती रही। लाखों की आबादी के बीच सरकारी अस्पतालों में कुछ लाख रूपये के संसाधनों के अभाव में मरीज तड़पते रहे और न जाने किस बजट से हजारों करोड़ों रुपयों के ऐसे भव्य कार्य हुए जिनकी फिलवक्त आवश्यकता को टाला जा सक…