Skip to main content

पेड़ जीवन का मुख्य आधार है

बीकानेर 5 जून 2017।  महावीर इन्टरनेशनल बीकानेर केन्द्र के तत्वावधान में आयोजित दो दिवसीय पर्यावरण दिवस कार्यक्रम के तहत सोमवार को स्थानीय ब्रह्म बगीचे में पौधरोपण कार्यक्रम आयोजित किया गया ।
कार्यक्रम के मुख्य अतिथि अखिल भारतीय साधुमार्गी जैन महासभा के अध्यक्ष एवं सामाजिक कार्यकर्ता जयचंद लाल डागा थें। कार्यक्रम की अध्यक्षता उद्योगपति एवं सामाजिक कार्यकर्ता जयचंद लाल दफ्तरी ने की। वृक्षारोपण उपरांत उपस्थित महानुभावों को सम्बोधित करते हुए मुख्य अतिथि डागा ने कहा कि पेड़ जीवन का मुख्य आधार है उन्होंने आह्वान किया कि हमें जितने पेड़ लगाने जरूरी है उसी अनुरूप उनकी सुरक्षा भी आवश्यक है डागा ने कहा कि पेड़ों का बचाए रखने का संकल्प लेने की जरूरत है।
कार्यक्रम अध्यक्ष दफ्तरी ने कहा कि पेड़ लगाना केवल एक दिन ही नहीं बल्कि हर मौसम में पेड़ लगाते रहना चाहिए और बारह महीनों तक उनको सवारते रहे। दफ्तरी ने कहा कि किसी जाति धर्म अथवा सम्प्रदाय का नहीं होता यह प्रकृति का दिया हुआ अनुपम उपहार समस्त मनुष्य का होता है।
कार्यक्रम में संस्था के अध्यक्ष पूरण चन्द राखेचा ने कहा कि पेड़ लगाने की इस वर्ष आज शुरुआत है आगे वृक्ष लगाने का सघन अभियान चलाया जाएगा उन्होंने संस्था के भविष्य में संचालित होने वाले कार्यक्रमों में वृक्षारोपण का कार्य प्रमुखता से करने पर बल दिया।
संस्था के सचिव राजेंद्र जोशी ने कहा कि एपेक्स के मार्ग दर्शन में खेजड़ी के बीज और पेड़ लगाने का कार्य करेगी । जोशी ने बताया कि आज लगाये गये पेड़ों में अर्जुन , आँवला , गूँदा एवं बीलपत्र प्रमुख है।
पेड़ लगाने वाले प्रमुख लोगों में वरिष्ठ वैज्ञानिक डॉ. शरत चंद्र मेहता, वरिष्ठ पत्रकार संतोष जैन,मोहन थानवी, एपेक्स के सचिव संतोष बाठियाँ, वरिष्ठ अधिवक्ता महेंद्र जैन, हीरालाल हर्ष, अर्थशास्त्री डॉ. ओम कुबेरा, मोहम्मद फारूक, मोहिनूद्दीन कोहरी, भगवान दास पडिहार, बृजगोपाल जोशी, डॉ. रेणुका व्यास, शंकर लाल व्यास, नंदू रांकावत, मनोज व्यास सहित अनेक लोगों ने वृक्षारोपण किया ।

Comments

Popular posts from this blog

अखिल भारतीय साहित्य परिषद् बीकानेर महानगर इकाई में मोनिका गौड़ वरिष्ठ उपाध्यक्ष नियुक्त

विभिन्न संगठनों ने जताई खुशी

बीकानेर। अखिल भारतीय साहित्य परिषद की बीकानेर महानगर इकाई में मोनिका गौड़ को वरिष्ठ उपाध्यक्ष नियुक्त किया गया है। रानी बाजार स्थित संघ कार्यालय शकुंतला भवन में हुई बैठक में अखिल भारतीय साहित्य परिषद् के प्रदेशाध्यक्ष डॉ. अन्नाराम शर्मा की अनुशंसा से महानगर अध्यक्ष विनोद कुमार ओझा द्वारा मोनिका गौड़ को वरिष्ठ उपाध्यक्ष बनाये जाने पर पंडित दीनदयाल उपाध्याय स्मृति मंच के बीकानेर शहर जिलाध्यक्ष गोविंद पारीक, देहात जिलाध्यक्ष काशी शर्मा खाजुवाला, बीकानेर ब्राह्मण समाज संभागीय अध्यक्ष देवेंद्र सारस्वत, भारत स्काउट गाइड राष्ट्रीय उपाध्यक्ष डॉ विमला डुकवाल, एडवोकेट जगदीश शर्मा, गौड़ सनाढय फाउंडेशन युवा जिलाध्यक्ष दिनेश शर्मा, अखिल भारतीय सारस्वत कुंडीय समाज विकास समिति प्रदेशाध्यक्ष श्यामसुंदर तावनियां, श्रीछःन्याति ब्राह्मण महासंघ उपाध्यक्ष रुपचंद सारस्वत, पार्षद भगवती प्रसाद गौड़, सरस वेलफेयर सोसाइटी अध्यक्ष मनोज सारस्वा पूनरासर, राजेन्द्र प्रसाद गौड़, अखंड भारत मोर्चा नोखा के दिनेश कुमार जस्सू, श्रीसर्व ब्राह्मण महासभा की महिला संयोजिका शोभा सारस्वत, अंतरराष्…

कुर्सी को मुस्कुराने दो : तब्सरा-ए-हालात

जादूगर जादूगरी कर कर गया। कुर्सी मुस्कुराती रही । बाजीगर देखता ही रह गया । उसके झोले से हमें मानो आवाज सुनाई दी  कुर्सी को मुस्कुराने दो ।  गाय घोड़े पशु पक्षियों के चारा दाना तक में घोटाले हुए । सीमा पर दुश्मन से लोहा लेने के लिए खरीदे जाने वाले अस्त्र शस्त्रों में घोटाले हुए। जनता तक एक रुपए में से मात्र 15 पैसे पहुंचने की बातें हुई मगर कुर्सी मुस्कुराती रही। मगर यह कोई जादू नहीं है  कि पेट्रोल  हमारी गाड़ियों को चलाने के लिए वाजिब दामों में  उपलब्ध होने की बजाय  हमारी जेबों में आग लगा रहा है । पेट्रोल ने जेबों में आग लगा दी  कुर्सी मुस्कुराती रही  । बच्चे मारे गए कुर्सी मुस्कुराती रही।  सीमा पर  हमारे जवान शहीद होते रहे  कुर्सी मुस्कुराती रही  । जाति संप्रदाय  आरक्षण के नाम पर  आक्रोश फैलता रहा  कुर्सी मुस्कुराती रही। करनाटक में बिना जरूरत के भव्य नाटक का मंचन हुआ कुर्सी मुस्कुराती रही। लाखों की आबादी के बीच सरकारी अस्पतालों में कुछ लाख रूपये के संसाधनों के अभाव में मरीज तड़पते रहे और न जाने किस बजट से हजारों करोड़ों रुपयों के ऐसे भव्य कार्य हुए जिनकी फिलवक्त आवश्यकता को टाला जा सक…

देश के भविष्य को नए आयाम देने के मार्ग पर चल रही मेधावी छात्राओं को स्कूटी मिली; हैलमेट मिलेगा

मेधावी छात्रा स्कूटी वितरण कार्यक्रम के तहत 44 छात्राएं हुई लाभांवितबीकानेर, 20 जुलाई 2017 ( मोहन थानवी )।  देश के भविष्य को नए आयाम देने के मार्ग पर चल रही 44 मेधावी छात्राओं के चेहरे खिले हुए थे मगर वे बातें धीर-गंभीर कर रहीं थीं। एक छात्रा ने कहा; अरे सुन तो... मैं तो स्कूटी चला कर घर नहीं जा पाऊंगी। दूसरी का सवाल था - क्यों ? उसे जवाब मिला; यार मेरे पास तो  न हैलमेट है न लर्निंग लाइसेंस। चैकिंग में फंस गई तो ? स्कूटी मिलने की खुशियां मनाती इन छात्राओं की बातचीत में जहां व्यवस्था के अनुसार चलने का ज्बा था वहीं शहर में ट्रैफिक सुचारु बनाए रखने के लिए की जाने वाली चैकिंग के प्रति सम्मान भी झलक रहा था मगर इन सब पर  प्रोत्साहन में स्कूटी मिलने की खुशी सबसे बड़ी थी। ऐसा नजारा हुआगुरूवार को राजकीय महारानी सुदर्शन कन्या महाविद्यालय में जहां समारोह में 44 मेधावी छात्राओं को स्कूटी वितरित की गई। इस मौके पर गत वर्ष स्कूटी प्राप्त करने वाली 35 छात्राओं हैलमेट दे चुके संसदीय सचिव डॉ. विश्वनाथ मेघवाल ने इस बार स्कूटी प्राप्त करने वाली सभी 44 छात्राओं को भी यातायात नियमों की अनुपालना करने का आह्…