Skip to main content

सभी वार्डों को ओडीएफ बनाया जाए

जल संसाधन मंत्री एवं जिला प्रभारी ने ली जिला स्तरीय अधिकारियों की बैठक

बीकानेर, 27 मई 2017। जल संसाधन मंत्री तथा जिला प्रभारी मंत्री डॉ. रामप्रताप ने शनिवार को कलक्ट्रेट सभागार में आयोजित बैठक में विभिन्न विभागों के कार्यों की समीक्षा की। फ्लेगशिप योजनाओं की प्रगति जानी तथा उनके प्रभावी क्रियान्वयन के निर्देश दिए।

डॉ. रामप्रताप ने आधार एवं भामाशाह नामांकन की प्रगति की समीक्षा की तथा शहरी क्षेत्र में कम नामांकन पर नाराजगी जताई। उन्होंने कहा कि शहरी क्षेत्र में अधिक से अधिक स्थानों पर नियमित शिविर लगाए जाएं तथा इनका व्यापक प्रचार-प्रसार करवाया जाए। इन शिविरों की पूर्व तैयारी भी की जाए। इस कार्य में पार्षदों सहित अन्य जनप्रतिनिधियों का सहयोग लेने को कहा। उन्होंने ग्रामीण क्षेत्रों में सीधे लाभ हस्तांतरण (डीबीटी) के बारे में जाना तथा कहा कि सभी पात्र लोगों को इस माध्यम से लाभांवित किया जाए। 

डॉ. रामप्रताप ने कहा कि स्वच्छ भारत मिशन (ग्रामीण) के तहत पंचायतों के ओडीएफ बनने के बाद ठोस कचरा प्रबंधन की प्रभावी योजना बनाई जाए। एसबीएम (शहरी) के तहत कम प्रगति को गंभीरता से लिया तथा सभी वार्डों को ओडीएफ बनाने पर जोर दिया। विद्युत निगम द्वारा खराब विद्युत खम्भे एवं ट्रांसफार्मर बदलने की स्थिति की समीक्षा की तथा कहा कि पेयजल एवं विद्युत निगम के अधिकारी जिले के अंतिम छोर तक बैठे व्यक्ति को पानी एवं बिजली उपलब्ध करवाने के लिए पूरी संवेदनशीलता से कार्य करें। 

प्रभारी मंत्री ने भामाशाह स्वास्थ्य बीमा योजना, मुख्यमंत्री राजश्री योजना की प्रगति जानी तथा आदर्श पीएचसी पर नॉर्म्स के अनुसार सभी सुविधाएं सुनिश्चित करने के निर्देश दिए। उन्होंने कन्या उपवन के तहत लगाए गए पौधों की प्रगति के बारे में जाना तथा कहा कि मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी चिकित्सा संस्थानों के नियमित एवं औचक निरीक्षण करें। उन्होंने कहा कि प्रत्येक अस्पताल में नॉर्म्स के अनुसार दवाइयां उपलब्ध हों, यह सुनिश्चित किया जाए। बालिका उपवन के तहत लगाए गए पौधों के भौतिक सत्यापन के लिए निर्देशित किया। 

डॉ. रामप्रताप ने अन्नपूर्णा भंडारों की स्थापना एवं पोस मशीनों से खाद्यान्न वितरण के बारे में जाना। उज्जवला योजना के तहत आवंटित गैस कनेक्शनों तथा अन्नपूर्णा रसोई की प्रगति की जानकारी ली। बरसात के मौसम के दौरान नहरी क्षेत्र के नालों की सफाई करवाने के निर्देश दिए। शहरी एवं ग्रामीण गौरव पथ का निर्माण निर्धारित समय पर करवाने तथा इनमें गुणवत्ता का विशेष ध्यान रखने को कहा। कृषि विभाग द्वारा लक्ष्यों के अनुरूप मृदा के नमूने लिए जाएं तथा मृदा के स्वास्थ्य की जांच करते हुए मृदा स्वास्थ्य कार्ड जारी करने के निर्देश दिए। 

प्रभारी मंत्री ने आदर्श एवं उत्कृष्ट विद्यालयों की स्थिति जानी तथा कहा कि प्रत्येक स्कूल में बिजली, पानी, छात्रों एवं छात्राओं के लिए अलग शौचालय सहित सभी आधारभूत सुविधाएं हों। ग्रीन बोर्ड तथा दर्पण लगाए जाएं। प्रत्येक स्कूल में अध्यापकों के नाम एवं फोटो लगे हों। उन्होंने कहा कि आदर्श एवं उत्कृष्ट विद्यालयों को ‘रूफ टॉप वाटर हार्वेस्टिंग’ से जोड़ा जाए। बालिका विद्यालयों में सेनेटरी नेपकीन की व्यवस्था करवाने के निर्देश भी दिए। उन्होंने शिक्षा विभाग द्वारा लेपटॉप, साइकिल तथा ट्रांसपर बाउचर वितरण की प्रगति जानी। 

डॉ. रामप्रताप ने कहा कि न्याय आपके द्वार, ग्रामीण क्षेत्रों में पट्टा वितरण तथा मुख्यमंत्री शहरी जन कल्याण शिविरों का आमजन को अधिक से अधिक लाभ हो, यह सुनिश्चित किया जाए। न्याय आपके द्वार के दौरान खातेदारी अधिकार जारी करने, म्यूटेशन एवं रास्तों से संबंधित प्रकरणों को प्राथमिकता से निस्तारित किया जाए। उन्होंने शहरी क्षेत्र में विद्युत आपूर्ति की स्थिति भी जानी।

एमजेएसए महत्त्वपूर्ण अभियान, ढिलाई बरती तो होगी कार्रवाई 

प्रभारी मंत्री ने मुख्यमंत्री जल स्वावलम्बन अभियान की प्रगति जानी। उन्होंने कहा कि एमजेएसए, राज्य सरकार का महत्त्वपूर्ण अभियान है। इसमें किसी प्रकार की ढिलाई बर्दाश्त नहीं की जाएगी। उन्होंने कहा कि जिला स्तर पर इसकी प्रभावी मॉनिटरिंग हो तथा ढिलाई बरतने वालों के खिलाफ चार्जशीट जारी की जाए। उन्होंने कहा कि एमजेएसए के प्रथम चरण में किए गए पौधारोपण का भौतिक सत्यापन करवाया जाए। उन्होंने नगर निगम को बरसाती जल संरक्षण के लिए नवाचार करने तथा जिले के समस्त स्कूलों को रूफ टॉप वाटर हार्वेस्टिंग से जोड़ने के निर्देश दिए। 

एक दिन का वेतन देंगे अधिकारी-कर्मचारी

डॉ. रामप्रताप ने एमजेएसए को जन-जन का अभियान बनाने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि इसमें आमजन का सहयोग भी लिया जाए। प्रभारी मंत्री के आह्वान पर इंदिरा गांधी नहर परियोजना के अधिकारियों-कर्मचारियों, पीबीएम एवं सीएमएचओ के अधीनस्थ चिकित्सकों एवं स्टाफ, पुलिस के अधिकारियों ने एक-एक दिन का वेतन अभियान के लिए सहयोग स्वरूप देने का भरोसा दिलाया। प्रभारी मंत्री ने कहा कि सरकार के निर्देशानुसार विधायकों से भी अभियान के लिए सहयोग राशि ली जाए। उन्होंने उपखण्ड अधिकारियों को भी उपखण्ड स्तर से सहयोग राशि लेने को कहा। 

दूसरे चरण में 2 हजार 200 से अधिक कार्य पूर्ण

जिला कलक्टर अनिल गुप्ता ने बताया कि एमजेएसए के प्रथम चरण में शत-प्रतिशत कार्य पूर्ण कर लिए गए हैं। प्रथम चरण में 75 हजार 667 पौधे लगाए गए। वहीं दूसरे चरण में स्वीकृत 3 हजार 783 कार्यों में से 3 हजार 177 कार्य प्रारम्भ हो चुके हैं। स्वच्छ भारत ग्रामीण के तहत 2 लाख 7 हजार 710 शौचालयों का निर्माण करवाया गया है। जिले में 217 अन्नपूर्णा भंडार स्थापित किए जा चुके हैं। शत-प्रतिशत राशन सामग्री का वितरण पोस मशीनों से किया जा रहा है। 

बैठक में महापौर नारायण चौपड़ा, नगर विकास न्यास अध्यक्ष महावीर रांका, सहीराम दुसाद, अतिरिक्त कलक्टर (नगर) शैलेन्द्र देवड़ा, नगर निगम आयुक्त आर. के. जायसवाल, जिला परिषद के अतिरिक्त मुख्य कार्यकारी अधिकारी नरेन्द्र सिंह पुरोहित सहित विभिन्न उपखण्ड अधिकारी एवं अन्य जिला स्तरीय अधिकारी मौजूद थे। 

---- मोहन थानवी

Comments

Popular posts from this blog

बीमा सेवा केन्द्र का शुभारम्भ

*खबरों में बीकानेर*/ बीकानेर 29 नवम्बर 2017।  भारतीय जीवन बीमा निगम के वरिष्ठ विकास अधिकारी हरीराम चौधरी के मुख्य बीमा सलाहकार भगवाना राम गोदारा के बीमा सेवा केन्द्र का शुभारम्भ जूनागढ़ पुराना बस स्टैण्ड  सादुल सिंह मूर्ति सर्किल के पास बीकानेर में हुआ। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि भारतीय जीवन बीमा निगम के वरिष्ठ मण्डल प्रबन्धक सुधांशु मोहन मिश्र "आलोक" तथा विशिष्ट अतिथि कोलायत विधायक  भंवर सिंह भाटी थे। बीमा सेवा केन्द्र में निगम की पॉलिसियों के बारे में जानकारी तथा प्रीमियम जमा करवाने के साथ-साथ कई प्रकार की सुविधायें उपलब्ध होगी।कार्यक्रम में श्री सुधांशु मोहन मिश्र ष्आलोकष् ने बीमा को आज व्यक्ति की मुख्य आवश्यकता बताते हुये कहा कि जहॉं गोवा राज्य में 79ः  जनसंख्या बीमित है वहीं राजस्थान में यह प्रतिशत मात्रा 20 है जो कि सोचनीय है । उन्होनें कहा कि व्यक्ति और समाज के लिये  आर्थिक सुरक्षा सबसे महत्वपूर्ण है जिसकी पूर्ति बीमा के माध्यम से ही सम्भव है। उन्होंनें निगम की ष्बीमा ग्रामष् अवधारणा के बारे में बताते हुये कहा कि बीमा ग्राम घोषित होने वाले गांव को विकास के लिये निगम द्वा…

अखिल भारतीय साहित्य परिषद् बीकानेर महानगर इकाई में मोनिका गौड़ वरिष्ठ उपाध्यक्ष नियुक्त

विभिन्न संगठनों ने जताई खुशी

बीकानेर। अखिल भारतीय साहित्य परिषद की बीकानेर महानगर इकाई में मोनिका गौड़ को वरिष्ठ उपाध्यक्ष नियुक्त किया गया है। रानी बाजार स्थित संघ कार्यालय शकुंतला भवन में हुई बैठक में अखिल भारतीय साहित्य परिषद् के प्रदेशाध्यक्ष डॉ. अन्नाराम शर्मा की अनुशंसा से महानगर अध्यक्ष विनोद कुमार ओझा द्वारा मोनिका गौड़ को वरिष्ठ उपाध्यक्ष बनाये जाने पर पंडित दीनदयाल उपाध्याय स्मृति मंच के बीकानेर शहर जिलाध्यक्ष गोविंद पारीक, देहात जिलाध्यक्ष काशी शर्मा खाजुवाला, बीकानेर ब्राह्मण समाज संभागीय अध्यक्ष देवेंद्र सारस्वत, भारत स्काउट गाइड राष्ट्रीय उपाध्यक्ष डॉ विमला डुकवाल, एडवोकेट जगदीश शर्मा, गौड़ सनाढय फाउंडेशन युवा जिलाध्यक्ष दिनेश शर्मा, अखिल भारतीय सारस्वत कुंडीय समाज विकास समिति प्रदेशाध्यक्ष श्यामसुंदर तावनियां, श्रीछःन्याति ब्राह्मण महासंघ उपाध्यक्ष रुपचंद सारस्वत, पार्षद भगवती प्रसाद गौड़, सरस वेलफेयर सोसाइटी अध्यक्ष मनोज सारस्वा पूनरासर, राजेन्द्र प्रसाद गौड़, अखंड भारत मोर्चा नोखा के दिनेश कुमार जस्सू, श्रीसर्व ब्राह्मण महासभा की महिला संयोजिका शोभा सारस्वत, अंतरराष्…

कुर्सी को मुस्कुराने दो : तब्सरा-ए-हालात

जादूगर जादूगरी कर कर गया। कुर्सी मुस्कुराती रही । बाजीगर देखता ही रह गया । उसके झोले से हमें मानो आवाज सुनाई दी  कुर्सी को मुस्कुराने दो ।  गाय घोड़े पशु पक्षियों के चारा दाना तक में घोटाले हुए । सीमा पर दुश्मन से लोहा लेने के लिए खरीदे जाने वाले अस्त्र शस्त्रों में घोटाले हुए। जनता तक एक रुपए में से मात्र 15 पैसे पहुंचने की बातें हुई मगर कुर्सी मुस्कुराती रही। मगर यह कोई जादू नहीं है  कि पेट्रोल  हमारी गाड़ियों को चलाने के लिए वाजिब दामों में  उपलब्ध होने की बजाय  हमारी जेबों में आग लगा रहा है । पेट्रोल ने जेबों में आग लगा दी  कुर्सी मुस्कुराती रही  । बच्चे मारे गए कुर्सी मुस्कुराती रही।  सीमा पर  हमारे जवान शहीद होते रहे  कुर्सी मुस्कुराती रही  । जाति संप्रदाय  आरक्षण के नाम पर  आक्रोश फैलता रहा  कुर्सी मुस्कुराती रही। करनाटक में बिना जरूरत के भव्य नाटक का मंचन हुआ कुर्सी मुस्कुराती रही। लाखों की आबादी के बीच सरकारी अस्पतालों में कुछ लाख रूपये के संसाधनों के अभाव में मरीज तड़पते रहे और न जाने किस बजट से हजारों करोड़ों रुपयों के ऐसे भव्य कार्य हुए जिनकी फिलवक्त आवश्यकता को टाला जा सक…