Skip to main content

घर बैठे आयुष डॉक्टर से लें परामर्श


1 जून से होम्योपैथी, यूनानी व आयुर्वेद चिकित्सक की सलाह लें फोन पर

टोल फ्री न. 104 या 108 डायल कर मिलेगी घर बैठे आयुष डॉक्टर परामर्श सेवा

बीकानेर 25/5/17। राज्य में टोल फ्री न. 104 व 108 के माध्यम से संचालित चिकित्सकीय परामर्श सेवाओं में राज्य सरकार अब नए आयाम जोड़ने जा रही है। 1 जून से इस सेवा के अंतर्गत फोन पर एलोपैथी के साथ-साथ यूनानी, होम्योपैथिक व आयुर्वेदिक पद्धति के चिकित्सकों की निःशुल्क परामर्श व सलाह सेवा मिलने लगेगी। यदि किसी व्यक्ति को कोई शारीरिक या मानसिक समस्या है तो किसी भी मोबाइल या लैंडलाइन से टोल फ्री न. 104 या 108 डायल कर आयुष पद्धति से संबंधित चिकित्सकीय सलाह निःशुल्क प्राप्त की जा सकेगी। चिकित्सा निदेशालय जयपुर के राजस्थान मेडिकल सर्विसेज कारपोरेशन लिमिटेड भवन से संचालित चिकित्सकीय परामर्श सेवाओं के साथ ही संचालित होने वाली इस सुविधा को लेकर मिशन निदेशक नवीन जैन के निर्देशन में समस्त तैयारियां पूर्ण कर ली गई हैं। 

तय रहेगी हर पद्धति की अपनी समय सारणी

 

सीएमएचओ डॉ. देवेन्द्र चौधरी ने बताया कि 1 जून 2017 से यूनानी चिकित्सकों की सलाह प्रातः 8 से 11 बजे, होम्योपैथिक चिकित्सक की सलाह प्रातः 11 से दोपहर 2 बजे और आयुर्वेदिक चिकित्सा सलाह दोपहर 2 से सायं 6 बजे तक ली जा सकेंगी। इस दौरान प्रशिक्षित चिकित्सक आमजन को विभिन्न बीमारियों से संबंधित चिकित्सकीय सलाह देंगे। यही नहीं उन्हें जरूरत पडने पर नजदीकी चिकित्सालय में जाने के लिए आवश्यकता पर चिकित्सालय के बारे में भी बताएंगे। जिले में पहले से ही विभिन्न पीएचसी पर तैनात आयुष चिकित्सक व राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम में नियुक्त आयुष चिकित्सकों द्वारा सम्पूर्ण स्वास्थ्य के लक्ष्य की दिशा में उल्लेखनीय योगदान दिया जा रहा है। 

कई सेवाओं का अनमोल पिटारा है टोल फ्री न. 104 व 108 

राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के तहत इंटीग्रेटेड एम्बुलेंस प्रोजेक्ट में जीवन वाहिनी सेवा, डाॅक्टर से परामर्श, सलाह एवं शिकायत के लिए संचालित टोल फ्री नंबर 104 व 108 की सुविधा शहरी जनता से लेकर दूर दराज में रहने वालों के लिए कमाल की उपयोगी रही है। सप्ताह के साताें दिन 24 घंटे सेवाएं राजस्थानी, हिन्दी या अंग्रेजी भाषा में उपलब्ध हैं। 

मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डाॅ देवेन्द्र चौधरी ने बताया कि पहले से राज्य में संचालित निःशुल्क चिकित्सा परामर्श सेवाओं ने आम जन को खूब लाभान्वित किया है अब आयुष सेवाएं जुड़ने से इसमें सम्पूर्णता आएगी। टोल फ्री 104 या 108 डायल कर प्राथमिक उपचार के लिए सलाह, मातृ एवं शिशु स्वास्थ्य संबंधी सूचना, वैकल्पिक उपचार, पोषण की सूचना इत्यादि प्राप्त कर सकते हंै। फोन पर ही डाॅक्टर द्वारा उपयोगी घरेलू उपचार के अलावा दवाईयों की सलाह भी दी जाती है जो एस. एम. एस. द्वारा भी भेज दी जाती है। जरूरत पङने पर आपका काॅल उच्चतर विशेषज्ञ को स्थानांतरित कर दिया जाता है। एक बार फोन करने पर रोगी या सुविधा उपयोगकर्ता को एक विशेष आईं. डी. नंबर दिया जाता है, अगली बार फोन करने पर वह उस विशेष आई. डी. नंबर को बताकर आगे की सलाह प्राप्त कर सकता है। ट्राएज के आधार पर चिकित्सा परामर्श सुविधा दी जाती है अर्थात रोगी की स्थिति अनुसार उसे क्रिटिकल/सीरियस/स्टेबल में वर्गीकृत कर उसी अनुसार उचित सलाह दी जाती है। 

डाॅ. चौधरी ने बताया कि सरकार ने बेटी बचाओं अभियान को भी इससे जोड़ दिया है अतः PCPNDT ACT के उल्लंघन से संबंधित मामले जैसे किसी सोनोग्राफी सेंटर/नर्सिंग होम या अन्यत्र कहीं पर भ्रूण के लिंग जांच की जाती हो या कन्या भ्रूण हत्या की जाती हो तो इसकी शिकायत सीधे टाॅल फ्री 104/108 पर की जा सकती है। इस पुनित कार्य हेतु शिकायत कर्ता की पहचान गुप्त रखी जाती है तथा मुखबिर योजना के तहत 2,50,000 रूपये तक ईनाम का भी प्रावधान है। महिला मृत्यु सूचना के लिए भी यही नंबर डायल किए जाते हैं जिसके एवज में विभाग द्वारा सूचना प्रदाता के मोबाइल पर 200 रूपए का रिचार्ज प्रोत्साहन स्वरुप किया जाता है।

जिला आई. ई. सी. समन्वयक मालकोश आचार्य के अनुसार इस सुविधा के तहत स्वास्थ्य परामर्श के अलावा एचआईवी, विवाह संबंधी समस्याओं, परिवार नियोजन, अवसाद, मानसिक दबाव, आत्महत्या की प्रवृति, पुरानी बीमारी, कैंसर आदि विषयों पर काउंसलिंग की सुविधा भी उपलब्ध है। टोल फ्री नंबंर 104/108 डायल कर सूचना निर्देशिका सेवा के तहत क्षेत्र विशेष के नजदीकी चिकित्सा केन्द्रों, मेडिकल काॅलेज, जाँच केन्द्रों व रिहेबिलिटेशन केन्द्रों की जानकारी भी ले सकते हैं। 

नोडल अधिकारी 104, ओम प्रकाश किराडू ने बताया कि इंटीग्रेटेड एम्बुलेंस प्रोजेक्ट में जीवन वाहिनी सेवा के तहत टोल फ्री नंबर 104/108 द्वारा ही आपातकालीन 108 एम्बुलेंस सेवा का लाभ दिया जा रहा है साथ ही जननी एक्सप्रेस एम्बुलेंस के माध्यम से गर्भवती अथवा माता को, 1 साल तक के बीमार शिशु एवं अति कुपोषित बच्चों को निःशुल्क एम्बूलेंस सुविधा भी दी जा रही है। 

- मोहन थानवी

Comments

Popular posts from this blog

बीमा सेवा केन्द्र का शुभारम्भ

*खबरों में बीकानेर*/ बीकानेर 29 नवम्बर 2017।  भारतीय जीवन बीमा निगम के वरिष्ठ विकास अधिकारी हरीराम चौधरी के मुख्य बीमा सलाहकार भगवाना राम गोदारा के बीमा सेवा केन्द्र का शुभारम्भ जूनागढ़ पुराना बस स्टैण्ड  सादुल सिंह मूर्ति सर्किल के पास बीकानेर में हुआ। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि भारतीय जीवन बीमा निगम के वरिष्ठ मण्डल प्रबन्धक सुधांशु मोहन मिश्र "आलोक" तथा विशिष्ट अतिथि कोलायत विधायक  भंवर सिंह भाटी थे। बीमा सेवा केन्द्र में निगम की पॉलिसियों के बारे में जानकारी तथा प्रीमियम जमा करवाने के साथ-साथ कई प्रकार की सुविधायें उपलब्ध होगी।कार्यक्रम में श्री सुधांशु मोहन मिश्र ष्आलोकष् ने बीमा को आज व्यक्ति की मुख्य आवश्यकता बताते हुये कहा कि जहॉं गोवा राज्य में 79ः  जनसंख्या बीमित है वहीं राजस्थान में यह प्रतिशत मात्रा 20 है जो कि सोचनीय है । उन्होनें कहा कि व्यक्ति और समाज के लिये  आर्थिक सुरक्षा सबसे महत्वपूर्ण है जिसकी पूर्ति बीमा के माध्यम से ही सम्भव है। उन्होंनें निगम की ष्बीमा ग्रामष् अवधारणा के बारे में बताते हुये कहा कि बीमा ग्राम घोषित होने वाले गांव को विकास के लिये निगम द्वा…

अखिल भारतीय साहित्य परिषद् बीकानेर महानगर इकाई में मोनिका गौड़ वरिष्ठ उपाध्यक्ष नियुक्त

विभिन्न संगठनों ने जताई खुशी

बीकानेर। अखिल भारतीय साहित्य परिषद की बीकानेर महानगर इकाई में मोनिका गौड़ को वरिष्ठ उपाध्यक्ष नियुक्त किया गया है। रानी बाजार स्थित संघ कार्यालय शकुंतला भवन में हुई बैठक में अखिल भारतीय साहित्य परिषद् के प्रदेशाध्यक्ष डॉ. अन्नाराम शर्मा की अनुशंसा से महानगर अध्यक्ष विनोद कुमार ओझा द्वारा मोनिका गौड़ को वरिष्ठ उपाध्यक्ष बनाये जाने पर पंडित दीनदयाल उपाध्याय स्मृति मंच के बीकानेर शहर जिलाध्यक्ष गोविंद पारीक, देहात जिलाध्यक्ष काशी शर्मा खाजुवाला, बीकानेर ब्राह्मण समाज संभागीय अध्यक्ष देवेंद्र सारस्वत, भारत स्काउट गाइड राष्ट्रीय उपाध्यक्ष डॉ विमला डुकवाल, एडवोकेट जगदीश शर्मा, गौड़ सनाढय फाउंडेशन युवा जिलाध्यक्ष दिनेश शर्मा, अखिल भारतीय सारस्वत कुंडीय समाज विकास समिति प्रदेशाध्यक्ष श्यामसुंदर तावनियां, श्रीछःन्याति ब्राह्मण महासंघ उपाध्यक्ष रुपचंद सारस्वत, पार्षद भगवती प्रसाद गौड़, सरस वेलफेयर सोसाइटी अध्यक्ष मनोज सारस्वा पूनरासर, राजेन्द्र प्रसाद गौड़, अखंड भारत मोर्चा नोखा के दिनेश कुमार जस्सू, श्रीसर्व ब्राह्मण महासभा की महिला संयोजिका शोभा सारस्वत, अंतरराष्…

कुर्सी को मुस्कुराने दो : तब्सरा-ए-हालात

जादूगर जादूगरी कर कर गया। कुर्सी मुस्कुराती रही । बाजीगर देखता ही रह गया । उसके झोले से हमें मानो आवाज सुनाई दी  कुर्सी को मुस्कुराने दो ।  गाय घोड़े पशु पक्षियों के चारा दाना तक में घोटाले हुए । सीमा पर दुश्मन से लोहा लेने के लिए खरीदे जाने वाले अस्त्र शस्त्रों में घोटाले हुए। जनता तक एक रुपए में से मात्र 15 पैसे पहुंचने की बातें हुई मगर कुर्सी मुस्कुराती रही। मगर यह कोई जादू नहीं है  कि पेट्रोल  हमारी गाड़ियों को चलाने के लिए वाजिब दामों में  उपलब्ध होने की बजाय  हमारी जेबों में आग लगा रहा है । पेट्रोल ने जेबों में आग लगा दी  कुर्सी मुस्कुराती रही  । बच्चे मारे गए कुर्सी मुस्कुराती रही।  सीमा पर  हमारे जवान शहीद होते रहे  कुर्सी मुस्कुराती रही  । जाति संप्रदाय  आरक्षण के नाम पर  आक्रोश फैलता रहा  कुर्सी मुस्कुराती रही। करनाटक में बिना जरूरत के भव्य नाटक का मंचन हुआ कुर्सी मुस्कुराती रही। लाखों की आबादी के बीच सरकारी अस्पतालों में कुछ लाख रूपये के संसाधनों के अभाव में मरीज तड़पते रहे और न जाने किस बजट से हजारों करोड़ों रुपयों के ऐसे भव्य कार्य हुए जिनकी फिलवक्त आवश्यकता को टाला जा सक…