Skip to main content

बीकानेरी मोठ भुजिया पर 12% जीएसटी का "हथौड़ा"

बीकानेरी मोठ भुजिया पर 12% जीएसटी का "हथौड़ा"

बीकानेर 24/5/17 ( मोहन थानवी ) ।  मरुभूमि की खास उपज "मोठ" से बनी बीकानेरी भुजिया का विकसित होता बाजार केन्द्र सरकार के वित्तीय सलाहकारों को राजस्व प्राप्ति का बड़ा माध्यम लगने लगा है तभी इसकी विकासमान गति को अवरुद्ध करने जैसी कर-योजना के नाम पर 12% जीएसटी का "हथौड़ा" चला दिया गया है। इस हथौड़े की मार मोठ की खेती करने वीले किसान पर भी पड़ेगी क्योंकि मोठ का उपयोग भारी मात्रा में भुजिया बनाने पर होता है। जबकि जीएसटी कर निर्धारण की खामियां बीकानेरी मोठ भुजिया के छोटे व्यवसायियों को तुरंत और बड़े व्यवसायियों को शनै: शनै: मोठ से बनने वाली भुजिया और इसके व्यवसाय से पीछे धकेलने का काम करेंगी।

ऐसे रोष भरे स्वर उन "परिश्रमी-कंठों" से निकले जिन कंठों के धारक खालिस मोठ से भुजिया बना-बना कर बीते दशकों से बीकानेर को भुजियानगरी के रूप में विश्वस्तर तक प्रसिद्धि दिला चुके हैं। यह रोष 24/5/17 को यहां भोमियाजी भवन रानी बाजार औद्योगिक क्षेत्र में तब फूटा जब बीकानेर के भुजिया, नमकीन व चबेना को 12 प्रतिशत कर दायरे में लिए जाने के विरोध में बीकानेर पापड़-भुजिया मैन्यूफेक्चरिंग एसोसिएशन ने संबद्ध संगठनों के प्रतिनिधियों सहित पत्रकारों के समक्ष भुजिया व्यवसाय की परेशानियां साझा की। दरअसल संगठन ने केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली और जीएसी परिषद को ज्ञापन के माध्यम से कहा है कि मरुस्थलीय क्षेत्र के लाखों किसान, गरीब व मजदूरों की रोजी-रोटी से जुड़े खाद्य पदार्थ भुजिया, नमकीन व चबेना को जीएसटी के 5 प्रतिशत कर दायरे में रखी जाए क्योंकि 12% कर लागू हो गया तो न केवल इस व्यवसाय के विकास मार्ग पर बाधा उत्पन्न होगी वरन् बड़ी संख्या में भुजिया श्रमिक और उनके परिवार पीड़ित-प्रभावित होंगे। 

इस मौके पर अपनी बात कहने वालों में ये उद्यमी शामिल हुए - बीकाजी समूह के प्रबन्ध निदेशक, बीकानेर व्यापार उद्योग मण्डल के अध्यक्ष शिवरतन अग्रवाल, बीकानेर पापड़-भुजिया मैन्यूफैक्चर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष गेवरचन्द मुसरफ, महामंत्री मक्खनलाल अग्रवाल, मण्डल के सचिव के.एल.बोथरा, कोषाध्यक्ष घनश्याम लखाणी, नरपत सेठिया, वेदप्रकाश अग्रवाल ‘प्रेमजी’; एस एल हर्भुष । 

बीकानेरी मोठ भुजिया का स्वाद लिए है बाकी भुजिया से अलग --- 

भुजिया मोठ के बेसन से ही बनता है और अधिकांश मोठ मरुभूमि के असिंचित भू-भाग में ही पैदा होती है। 

पहले भी हो चुकी भुजिया पर नजरें टेढ़ी --- 

 पूर्व में भी 1989 व 1998 में केंद्र सरकार ने मरुभूमि के इन खाद्य पदार्थों पर उत्पाद कर लगाया था जिसे विरोध के बाद तुरंत ही वापस ले लिया था। मक्खनलाल अग्रवाल ने बताया कि बीकानेरी भुजिया व नमकीन की खपत के कारण ही किसानों को मोठ के वाजिब दाम मिल रहे हैं। अगर इन पर 12 प्रतिशत जीएसटी लगा दिया गया तो पहले से ही बहुराष्ट्रीय कम्पनियों से प्रतिस्पर्द्धा झेल रही बीकानेर की भुजिया व नमकीन उत्पाद इकाईयां बंद होने के कगार पर आ जाएगी जिससे औद्योगिक दृष्टि से पिछड़े इलाके में लाखों किसानों व मजदूरों के समक्ष रोटी-रोटी के संकट पैदा हो जाएंगे। उन्होंने जेटली व जीएसी परिषद से आग्रह किया है कि थार मरुस्थल के लाखों किसानों, गरीबों, मजदूरों, छोटे व लघु उद्यमियों के हितों को ध्यान में रखते हुए पूववर्ती सरकारों ने जिन उत्पादों को उत्पाद कर से मुक्त रखा, उन्हें जीएसटी के 5 प्रतिशत कर दायरे में रखकर क्षेत्र के आमजन को राहत प्रदान करें। मुसरफ ने जेटली से अनुरोध किया व आशंका जताई कि जटिल व अधिक कराधान से भौगौलिक विषम परिस्थितियों में कुटीर व लघु स्तर पर भुजिया और नमकीन का उत्पाद कर रहे सैकड़ों छोटे मझौले उद्योग बंद होने की कगार पर आ जाएंगे।

- मोहन थानवी
http://wp.me/p1o9Gx-g8

Comments

Popular posts from this blog

बीमा सेवा केन्द्र का शुभारम्भ

*खबरों में बीकानेर*/ बीकानेर 29 नवम्बर 2017।  भारतीय जीवन बीमा निगम के वरिष्ठ विकास अधिकारी हरीराम चौधरी के मुख्य बीमा सलाहकार भगवाना राम गोदारा के बीमा सेवा केन्द्र का शुभारम्भ जूनागढ़ पुराना बस स्टैण्ड  सादुल सिंह मूर्ति सर्किल के पास बीकानेर में हुआ। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि भारतीय जीवन बीमा निगम के वरिष्ठ मण्डल प्रबन्धक सुधांशु मोहन मिश्र "आलोक" तथा विशिष्ट अतिथि कोलायत विधायक  भंवर सिंह भाटी थे। बीमा सेवा केन्द्र में निगम की पॉलिसियों के बारे में जानकारी तथा प्रीमियम जमा करवाने के साथ-साथ कई प्रकार की सुविधायें उपलब्ध होगी।कार्यक्रम में श्री सुधांशु मोहन मिश्र ष्आलोकष् ने बीमा को आज व्यक्ति की मुख्य आवश्यकता बताते हुये कहा कि जहॉं गोवा राज्य में 79ः  जनसंख्या बीमित है वहीं राजस्थान में यह प्रतिशत मात्रा 20 है जो कि सोचनीय है । उन्होनें कहा कि व्यक्ति और समाज के लिये  आर्थिक सुरक्षा सबसे महत्वपूर्ण है जिसकी पूर्ति बीमा के माध्यम से ही सम्भव है। उन्होंनें निगम की ष्बीमा ग्रामष् अवधारणा के बारे में बताते हुये कहा कि बीमा ग्राम घोषित होने वाले गांव को विकास के लिये निगम द्वा…

अखिल भारतीय साहित्य परिषद् बीकानेर महानगर इकाई में मोनिका गौड़ वरिष्ठ उपाध्यक्ष नियुक्त

विभिन्न संगठनों ने जताई खुशी

बीकानेर। अखिल भारतीय साहित्य परिषद की बीकानेर महानगर इकाई में मोनिका गौड़ को वरिष्ठ उपाध्यक्ष नियुक्त किया गया है। रानी बाजार स्थित संघ कार्यालय शकुंतला भवन में हुई बैठक में अखिल भारतीय साहित्य परिषद् के प्रदेशाध्यक्ष डॉ. अन्नाराम शर्मा की अनुशंसा से महानगर अध्यक्ष विनोद कुमार ओझा द्वारा मोनिका गौड़ को वरिष्ठ उपाध्यक्ष बनाये जाने पर पंडित दीनदयाल उपाध्याय स्मृति मंच के बीकानेर शहर जिलाध्यक्ष गोविंद पारीक, देहात जिलाध्यक्ष काशी शर्मा खाजुवाला, बीकानेर ब्राह्मण समाज संभागीय अध्यक्ष देवेंद्र सारस्वत, भारत स्काउट गाइड राष्ट्रीय उपाध्यक्ष डॉ विमला डुकवाल, एडवोकेट जगदीश शर्मा, गौड़ सनाढय फाउंडेशन युवा जिलाध्यक्ष दिनेश शर्मा, अखिल भारतीय सारस्वत कुंडीय समाज विकास समिति प्रदेशाध्यक्ष श्यामसुंदर तावनियां, श्रीछःन्याति ब्राह्मण महासंघ उपाध्यक्ष रुपचंद सारस्वत, पार्षद भगवती प्रसाद गौड़, सरस वेलफेयर सोसाइटी अध्यक्ष मनोज सारस्वा पूनरासर, राजेन्द्र प्रसाद गौड़, अखंड भारत मोर्चा नोखा के दिनेश कुमार जस्सू, श्रीसर्व ब्राह्मण महासभा की महिला संयोजिका शोभा सारस्वत, अंतरराष्…

कुर्सी को मुस्कुराने दो : तब्सरा-ए-हालात

जादूगर जादूगरी कर कर गया। कुर्सी मुस्कुराती रही । बाजीगर देखता ही रह गया । उसके झोले से हमें मानो आवाज सुनाई दी  कुर्सी को मुस्कुराने दो ।  गाय घोड़े पशु पक्षियों के चारा दाना तक में घोटाले हुए । सीमा पर दुश्मन से लोहा लेने के लिए खरीदे जाने वाले अस्त्र शस्त्रों में घोटाले हुए। जनता तक एक रुपए में से मात्र 15 पैसे पहुंचने की बातें हुई मगर कुर्सी मुस्कुराती रही। मगर यह कोई जादू नहीं है  कि पेट्रोल  हमारी गाड़ियों को चलाने के लिए वाजिब दामों में  उपलब्ध होने की बजाय  हमारी जेबों में आग लगा रहा है । पेट्रोल ने जेबों में आग लगा दी  कुर्सी मुस्कुराती रही  । बच्चे मारे गए कुर्सी मुस्कुराती रही।  सीमा पर  हमारे जवान शहीद होते रहे  कुर्सी मुस्कुराती रही  । जाति संप्रदाय  आरक्षण के नाम पर  आक्रोश फैलता रहा  कुर्सी मुस्कुराती रही। करनाटक में बिना जरूरत के भव्य नाटक का मंचन हुआ कुर्सी मुस्कुराती रही। लाखों की आबादी के बीच सरकारी अस्पतालों में कुछ लाख रूपये के संसाधनों के अभाव में मरीज तड़पते रहे और न जाने किस बजट से हजारों करोड़ों रुपयों के ऐसे भव्य कार्य हुए जिनकी फिलवक्त आवश्यकता को टाला जा सक…