Friday, April 14, 2017

अशफाक कादरी ने लघुकथाओं से साहित्य के क्षेत्र में फहराया राजस्थान का परचम

लोक पर्व कार्यक्रम में कथाकार अशफाक कादरी की लघुकथाओं पर चर्चा एवं सम्मान    

( – मोहन थानवी )

         बीकानेर 14 /4/17अप्रैल । सखा संगम द्वारा लोक पर्व एवं साहित्य विषय के तहत कथाकार अशफाक कादरी की लघु कथाओं पर चर्चा की गई।  कादरी  ने राष्ट्रीय स्तर पर प्रकाशित अपनी लघु कथाओं का वाचन भी किया । मुख्य अतिथि नगर परिषद के पूर्व सभापति चतुर्भूज व्यास ने कहा कि कादरी ने अपने लेखन के माध्यम से बीकानेर की गंगा जमुनी तहजीब को आम अवाम तक प्रसारित किया है । संस्था अधयक्ष एन.डी.रंगा की अध्यक्षता में हुए आयोजन  में मुख्य वक्ता शायर सैयद नासिर जैदी ने कादरी की चार दशकीय सृजन यात्रा पर प्रकाश डाला । कार्यक्रम में कवि, कथाकार राजाराम स्वर्णकार एवं बाबुलाल छंगाणी ने कादरी के सम्मान में काव्य रचनाएं प्रस्तुत की ।  अतिथियों ने कादरी का माल्यार्पण, शॉल, सम्मान पट्टिका, दुपट्टा, स्मृति चिन्ह एवं सम्मान-पत्र प्रदान कर सम्मान किया  ।  सखा संगम के सभापति चन्द्रशेखर जोशी ने कादरी के सम्मान में प्रशस्ति पत्र का वाचन किया । समाजसेवी एडवोकेट हीरालाल हर्ष ; डॉ. मुरारी शर्मा ; वरिष्ठ चित्रकार मुरलीमनोहर के. माथुर; वरिष्ठ रंगकर्मी बी.एल.नवीन; व्यंग्यकार बुलाकी शर्मा;  कार्यक्रम संयोजक कवि, कथाकार राजेन्द्र जोशी; डॉ.अजय जोशी ; फिल्मकार मंजूर अली चन्दवानी; ब्रजरतन जोशी, मंगलचन्द रंगा, नागेश्वर जोशी, सुभाष जोशी ने भी अपने विचार व्यक्त किए । शिक्षाविद खुशालचन्द रंगा ने संस्था की तरफ से धन्यवाद ज्ञापित किया ।