Skip to main content

राजस्थानी डाइजेस्ट: बुलाकी शर्मा का राजस्थानी कहानी संग्रह “मरदजात अर ...

सात तालों में बंद चेहरों का आईना

० मोहन थानवी, बीकानेर

चार दशक से साहित्य के वृहद केनवास पर अहसास और अनुभवों को शब्दाकार देने वाले कथाकार, व्यंग्यकार, नाटककार बुलाकी शर्मा की कृति “मरदजात अर दूजी कहाणियां” के पात्र अंतर-आत्मा के भी अंतःस्थल को सामने ले आते हैं। कहानियों में समाज और परिवेश के वे पहलू भी रेखांकित होते जाते हैं जो राजस्थानी कहानियों में अब तक प्रायः ओझल रहे हैं। ऐसा शिल्प कवि-मन उकेर सकता है। बुलाकी जी काव्य-विधा को गूढ़ और स्वयं के लिए असाध्य मानते हैं। लेकिन उन्होंने कविताएं लिखी भी हैं, जिन्हें वे कविता नहीं मानते व कहते हैं इसलिए पाठकों तक नहीं पहुंचाई। बुलाकी जी का कहानी संग्रह “मरदजात अर दूजी कहानियां” कथा-शिल्प की बेजोड़ नजीर है।

यूं राजस्थानी साहित्य जगत में कहानी का क्षेत्र विस्तृत रहा है। नई कहानी के शिल्प में कतिपय ऐसी रचनाएं भी रही हैं जिनमें लोक कथाओं के सूत्र भी मिल जाते हैं। लेकिन राजस्थानी कहानी के परंपरागत स्वरूप से इतर यदि आधुनिक राजस्थानी कहानियों के गठन और कथा-परिवेश की तारतम्यता को विगत तथा वर्तमान परिप्रेक्ष्य में जानना समझना हो तो बुलाकी जी की कहानियां इस दिशा में महत्वपूर्ण साबित होगी।

नवाचार बुलाकी जी की रगों में है और कहानियों में भी विविध पात्रों से इसकी पुष्टि करते हैं। संग्रह की कहानी ‘अमूझती सूझ’ के पात्रों को ही लें, मंगल, मास्टर जी और मंगल की मां के मन को मानों पाठक सहजता से पढ़ लेता है। जब कथाकार मंगल के द्वारा पटाक्षेप करवाता है, आपकी जिद कायम रही तो मुझे घर छोड़कर जाने में कोई ऐतराज नहीं। मास्टर जी भोंचक रह जाते हैं। किंतु, यहां पाठक रोमांच और रस प्राप्त करता है।

बुलाकी जी ने कथा सृजन में ऐसी सिद्धहस्तता हासिल की है कि वे नव कोंपलों के सूर्य रश्मियों से मिलन पर चमकने की प्राकृतिक प्रक्रिया की भांति शनै शनै शब्द-शब्द गुंजाते हुए पात्र-चरित्र के उस मुखड़े को सामने ला खड़ा करते हैं, जो भवन की सात कोठियों से भी आगे अंधकार में लुप्त प्रायः होता है। इसी कथ्य-जादूगरी के कारण पाठक को बुलाकी जी की रचना की प्रथम पंक्ति से ही संवेदनाओं का सागर हिलोरे मारता दिखता है और वह तिलिस्मी पात्र के साथ मानवीयता का गहरा नाता महसूसता है। शीर्षक कहानी ‘मरदजात’ में बुलाकी जी ने एक नारी पात्र के अंतरमन को इस खूबी से उकेरा है कि पाठक समूची कहानी में सुगनी के चरित्र को जानने के लिए उत्सुक रहता है। खूबी यह कि कहानी के विराम तक पहुंचते-पहुंचते सुगनी का मन खोल कर पाठकों के सामने पसर रोमांचित कर देती है। अपने मान-सम्मान के लिए दुर्गा सदृश्य सुगनी ऐसा पात्र है जिस पर बुलाकी जी चाहें तो वृहद उपन्यास लिख सकते हैं।

सामाजिक सरोकारों का निर्वहन करते हुए संग्रह की अन्य कहानियों जैसे- ‘मरम’, ‘घाव’, ‘दूजो सरूप’, ‘बर्थ डे प्रजेंट’ आदि के पात्र और परिवेश हमें अपने आसपास घटने वाले प्रकरणों की याद दिलाते हैं। यही कहानीकार बुलाकी शर्मा जी की शैली पाठक को उनकी रचनाएं पढ़ने की ललक पैदा करती हैं।

कहानी ‘मुगदी कद’ के माध्यम से बुलाकी जी बालपन से दर्द के मर्म को सामने रखते हुए कुत्ते के मुंह में दबोचे हुए कबूतर की फड़फड़ाहट का ऐसा दृश्य उकेरते हैं और सवाल उठाते हैं, कि मुक्ति कब।/बुलाकी जी सफल नाटककार हैं। संग्रह की कहानियों में नाटकीयता की तुलना में यथार्थ अधिक प्रखरता से सामने आया है। सर्वाधिक उल्लेखनीय बात यह है कि कहानियों में प्रस्तुत चरित्र मुखौटा उतारे हुए और अपने मूल चेहरों को लिए इन कहानियों में देखाई देते हैं। यही बुलाकी जी की लेखनी की श्रेष्ठता और सफलता है।



राजस्थानी डाइजेस्ट: बुलाकी शर्मा का राजस्थानी कहानी संग्रह “मरदजात अर ...: पुस्तक : मरदजात अर दूजी कहाणियां / विधा : कहानी/ कहानीकार : बुलाकी शर्मा / संस्करण : 2013, प्रथम / पृष्ठ : 88, मूल्य : 150/- प्रकाशक : ऋ...

Comments

Popular posts from this blog

बीमा सेवा केन्द्र का शुभारम्भ

*खबरों में बीकानेर*/ बीकानेर 29 नवम्बर 2017।  भारतीय जीवन बीमा निगम के वरिष्ठ विकास अधिकारी हरीराम चौधरी के मुख्य बीमा सलाहकार भगवाना राम गोदारा के बीमा सेवा केन्द्र का शुभारम्भ जूनागढ़ पुराना बस स्टैण्ड  सादुल सिंह मूर्ति सर्किल के पास बीकानेर में हुआ। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि भारतीय जीवन बीमा निगम के वरिष्ठ मण्डल प्रबन्धक सुधांशु मोहन मिश्र "आलोक" तथा विशिष्ट अतिथि कोलायत विधायक  भंवर सिंह भाटी थे। बीमा सेवा केन्द्र में निगम की पॉलिसियों के बारे में जानकारी तथा प्रीमियम जमा करवाने के साथ-साथ कई प्रकार की सुविधायें उपलब्ध होगी।कार्यक्रम में श्री सुधांशु मोहन मिश्र ष्आलोकष् ने बीमा को आज व्यक्ति की मुख्य आवश्यकता बताते हुये कहा कि जहॉं गोवा राज्य में 79ः  जनसंख्या बीमित है वहीं राजस्थान में यह प्रतिशत मात्रा 20 है जो कि सोचनीय है । उन्होनें कहा कि व्यक्ति और समाज के लिये  आर्थिक सुरक्षा सबसे महत्वपूर्ण है जिसकी पूर्ति बीमा के माध्यम से ही सम्भव है। उन्होंनें निगम की ष्बीमा ग्रामष् अवधारणा के बारे में बताते हुये कहा कि बीमा ग्राम घोषित होने वाले गांव को विकास के लिये निगम द्वा…

अखिल भारतीय साहित्य परिषद् बीकानेर महानगर इकाई में मोनिका गौड़ वरिष्ठ उपाध्यक्ष नियुक्त

विभिन्न संगठनों ने जताई खुशी

बीकानेर। अखिल भारतीय साहित्य परिषद की बीकानेर महानगर इकाई में मोनिका गौड़ को वरिष्ठ उपाध्यक्ष नियुक्त किया गया है। रानी बाजार स्थित संघ कार्यालय शकुंतला भवन में हुई बैठक में अखिल भारतीय साहित्य परिषद् के प्रदेशाध्यक्ष डॉ. अन्नाराम शर्मा की अनुशंसा से महानगर अध्यक्ष विनोद कुमार ओझा द्वारा मोनिका गौड़ को वरिष्ठ उपाध्यक्ष बनाये जाने पर पंडित दीनदयाल उपाध्याय स्मृति मंच के बीकानेर शहर जिलाध्यक्ष गोविंद पारीक, देहात जिलाध्यक्ष काशी शर्मा खाजुवाला, बीकानेर ब्राह्मण समाज संभागीय अध्यक्ष देवेंद्र सारस्वत, भारत स्काउट गाइड राष्ट्रीय उपाध्यक्ष डॉ विमला डुकवाल, एडवोकेट जगदीश शर्मा, गौड़ सनाढय फाउंडेशन युवा जिलाध्यक्ष दिनेश शर्मा, अखिल भारतीय सारस्वत कुंडीय समाज विकास समिति प्रदेशाध्यक्ष श्यामसुंदर तावनियां, श्रीछःन्याति ब्राह्मण महासंघ उपाध्यक्ष रुपचंद सारस्वत, पार्षद भगवती प्रसाद गौड़, सरस वेलफेयर सोसाइटी अध्यक्ष मनोज सारस्वा पूनरासर, राजेन्द्र प्रसाद गौड़, अखंड भारत मोर्चा नोखा के दिनेश कुमार जस्सू, श्रीसर्व ब्राह्मण महासभा की महिला संयोजिका शोभा सारस्वत, अंतरराष्…

कुर्सी को मुस्कुराने दो : तब्सरा-ए-हालात

जादूगर जादूगरी कर कर गया। कुर्सी मुस्कुराती रही । बाजीगर देखता ही रह गया । उसके झोले से हमें मानो आवाज सुनाई दी  कुर्सी को मुस्कुराने दो ।  गाय घोड़े पशु पक्षियों के चारा दाना तक में घोटाले हुए । सीमा पर दुश्मन से लोहा लेने के लिए खरीदे जाने वाले अस्त्र शस्त्रों में घोटाले हुए। जनता तक एक रुपए में से मात्र 15 पैसे पहुंचने की बातें हुई मगर कुर्सी मुस्कुराती रही। मगर यह कोई जादू नहीं है  कि पेट्रोल  हमारी गाड़ियों को चलाने के लिए वाजिब दामों में  उपलब्ध होने की बजाय  हमारी जेबों में आग लगा रहा है । पेट्रोल ने जेबों में आग लगा दी  कुर्सी मुस्कुराती रही  । बच्चे मारे गए कुर्सी मुस्कुराती रही।  सीमा पर  हमारे जवान शहीद होते रहे  कुर्सी मुस्कुराती रही  । जाति संप्रदाय  आरक्षण के नाम पर  आक्रोश फैलता रहा  कुर्सी मुस्कुराती रही। करनाटक में बिना जरूरत के भव्य नाटक का मंचन हुआ कुर्सी मुस्कुराती रही। लाखों की आबादी के बीच सरकारी अस्पतालों में कुछ लाख रूपये के संसाधनों के अभाव में मरीज तड़पते रहे और न जाने किस बजट से हजारों करोड़ों रुपयों के ऐसे भव्य कार्य हुए जिनकी फिलवक्त आवश्यकता को टाला जा सक…