Skip to main content

जांबाज़ बेटियां : सूर्य परमाल

सिंधी नाटक

जांबाज़ धीअरु : सूर्य परमाल

- Mohan Thanvi

सीन 1

कासिम जो दरबार

सूत्रधार: दाहरसेन जो सिन्धु जे लाय वीरगति प्राप्त करणि जो समाचार बुधी रनिवास में महाराणी लादीबाईअ तलवार हथनि में खरणि जो ऐलान कयो। इयो बुधी सिन्धुजा वीर जवान बीणे जोशो-खरोश सां दुश्मन जे मथूं चढ़ी विया। महारानी लादीबाई उननि जी अगुवा हुई। उनजो आवाज बुधी दुश्मन जे सैनिकनि जी हवा खराब पेई थे। ऐहड़े वक्त में कुछ देशद्रोही अरबनि सां मिली विया। महाराणीअ जे सलाहकारनि उनखे बचणि जा रस्ता बुधाया पर सिन्धुजी उवा वीर राणी बचणि जे लाय न बल्कि बियूनि खे बचायणि जे लाय जन्म वड़तो हूयो। उन दुश्मन जे हथ लगणि खां सुठो त भाय जे हवाले थियणि समझो। सभिनी सिन्धी ललनाउनि मुर्सनि जे मथूं दुश्मन जो मुकाबलो करणि जी जिम्मेवारी रखी। पाणि जौहर कयवूं। इन विच इनाम जी लालच एं पहिंजी जान बचायणि जे लाय देशद्रोहिनि राजकुमारी सूर्यदेवी एं परमाल खे कैद करे वड़तो। पर जुल्मी वधीक हूया। उवे किले में घिरी आहिया उननि कासिम जे दरबार में बिनी राजकुमारियूनि खे पेश कयो-

कासिम: सिन्धु जे किले ते फतह करणि में असांजा घणाइ जांबांज मारजी विया आहिनि।
हिक सिपाही: हुजूर राजकुमार जयसेन खे उनजे वफादारनि हिफाजत सां बे डांह कढ़ी छजो। उननि खे ब्राह्मणाबाद एं अलोर डांह वेन्दे दिठो आहे। उवे वेन्दे-वेन्दे बि असांजे जवाननि खे मौत जे घाट लाइन्दा विया।
कासिम: खुदा कसम, सिन्धिनि जेहिड़ो वतन जो जज्बो पहिरियूं कोन दिठो हूयो।
सिपाही: हुजूर, किले मूं ब राजकुमारियूं तव्हांजी खिदमत में पेश करणि लाई आनियूं आहिनि।
कासिम: उननि राजकुमारिनि खे कंहिं बचायणिजी कोशिश कोन कई?
सिपाही: जिननि कई, उननि खे तलवारजी धार दुनिया छदाए दिनी। जिननि राजकुकारिनि खे कैद करणि में मदद कई उननि खे इनाम में मौत दई छजी से।
कासिम: हा हा हा। जिन्दगीअ जी मंजिल त हिक आहे, मौत। पर इनजा रूप जुदा जुदा आहिनि। को मरी करे शहीद थो थिए त को दोही थी थो मरे।
सिपाही: हुजूर, राजकुमारियूं भी घटि आफत कोननि।
कासिम: अच्छा। छा कयवूं।
सिपाही: हुजूर उननि अठनि-अठनि जवाननि खे पहिंजी छाया ताई कोन अचणि दिनो। कुख मूं तलवार कढ़ी उननि जो मुकाबलो कयवूं। चार जवान त उननि बी मारे छजा।
कासिम: खुदा कसम। सिन्धु जो पाणी पी करे जदहिं ऐहिड़ी हिम्मत राजकुमारिनि में आहे त इतूं जे जवाननि जो मुकाबलो करणि त दाढ़ो दुख्यिो हुयो।
सिपाही: तदहिं त हुजूर पोयनि अढ़ाई सौ सालनि में सिन्धु जी वारीय ते असां पैर कोन रखी सगिया से।
कासिम: हाणे बी कोन रखी सघूं आ। इयो त वतन जा दुश्मन ही वतन खे असांजे हवाले करे विया। उननि वतन जे दुश्मननि खे बी मौत जो इनाम दिनो वं´े।
सिपाही: हुजूर, जाल में कैद कयलि राजकुमारियूं दरबार में हाजिर कयूं था।
कासिम: हा, उननि खे जाल में बधयलि इ मूंजे सामूं वठी अचजो। हणी न मूखे कूहीं रखनि।

सिपाही बियूनि सिपाहिनि खे इशारा करे थो। कुझ वक्त में राजकुमारियूं जाल में कैद थियलि अचनि थियूं। उननि डांह दिसणि बी कासिम खे दकाए थो। राजकुमारियूं ऐहड़े क्रेाध खौफनाक नजरिनि सां सभिनी खे घूरे करे दिसनि थियूं।

कासिम: अल्लाह कसम। छा हुस्न आहे। जादू आहे जादू। अरे सिपाही, हूर जो चेहरो त खोल, दिसां चंड कींअं नजरे थो।

सिपाही हिक राजकुमारीय जे मूंह ते ढकयलि पोती लायणि जे लाय उननि जे करीब वं´ेे थो त राजकुमारी उनखे हिक लत हणी केरे थी छजे। बे सां बि इयं इ ती करे। पोय त को सिपाही उननि जे करीब वं´णि जो हौसलो न थो बधे।

कासिम: छदो--छदो। इननि खे मौत जी परवाह कोने। इये त असांखे मौत दियणि लाय उबारीयूं बीठीयूं आहिनि। इननि खे लुटयलि मालोअसबाब सां गदि खलीफा वटि मोकले दिबो।
सिपाही: हा इयो ठीक रहिन्दो। इननि जे हुस्न जो जादू दिसणि खां अगि मरी वं´णि खूं त खलीफा वटि इननि आफतनि खे मोकलणि सुठो आहे।
कासिम: इननि खूं पूछो। इये मादरे वतन छदनि खां अगि कोई मन जी गाल्हि करणि चाहिनि थियूं?
सिपाही: नूर-ए-आफताब, तव्हां खे अजु जहाज में लुटियलि मालअसबाब सां गदि खलीफा वटि अरब मोकेलबो। तव्हां खे कुझ चवणों हूजे त हुजूर कासिम जी खिदमत में चई थियूं सघो।
परमाल: बुधें थी सूर्य कुमारी।
सूर्य कुमारी: हा भेणि, बुधां थी। इननिजी मौत इननि खे पुकारे रही आहे।
परमाल: इननि सिन्धु जी धीयरनि खे हथ लगायणि जी गुस्ताखी कई आहे। इननि महाराजा दाहिरसेन खे माईयूनि जो रूप बणाए धोखे सां मारे पहिंजा गुनाह वाधाया आहिनि।
सूर्य कुमारी: इनि गुस्ताखीअ जी सजा इननि खे असांखे देहणी आहे।
परमाल: इन करे असां खे मादरे वतन जी वारी खपन्दी। इन वारीय ते इता वं´णि खां पोय कदहिं पैर रखी सघन्दा से?
सूर्य कुमारी: सिपाही, तोहिंजे आका कासिम खे लत हणी चई छदेसि। असां सिन्धुजी धीयरि आहियूं। असां खे इतां व´णि खां अगि इतूं जी वारी पल्ले में बधणी आहे।
सिपाही: हुजूर, इननि खे सिर्फ सिन्धुजी वारीय सां प्रेम आहे। इये पल्लव में वारी बधणि थियूं चाहिनि।
कासिम: भलि-भलि, इननि जी इतां वं´णि खां अगि इया इच्छा पूरी कयोनि।
सूर्य कुमारी: तो जेहिडे जालिम जो मुकाबलो करणि जे लाय त सिन्धुजी असां धीयरि काफी आहियूं। दाहिरसेन जी रियाया तोखे छदन्दी कोन। तो जेका जुल्म सिन्धु भूमिअ ते कया आहिनि इननि जी सजा तोखे जल्दी मिलन्दी।
कासिम: इननि खे इतां जल्दी वठी वं´ों। इननि जी अख्यिूनि में काल वेठो नजरे थो।
सिपाही: हलो आफताब ए राजकुमारियूं।
सूर्यकुमारी: भेणि, ब्रगदाद में खलीफा जे सामूं खबर नाहें त असांसा छा सुलूक थे। मां पंंिहंजे वारनि में जहरजी पिन रखी आहे।
परमाल: मुंहिंजे वारनि में बि जहर में बुदयलि पिन आहे।
बई हिक साणि: जुल्मी कासिम, धोखे सां तो सिन्धु जी बाहं अरब खलीफा खे दिनी आहे। दिसजें तोखे उवो इ खौफनाक मौत दिन्दो।

सिपाही उननि खे छिके करे वठी था वं´नि। राजकुमारियूं वेन्दे-वेन्दे नारा थियूं लगाइनि। सिन्धुमाता जी जय। सिन्धु माता सभिनी जी लज रखजें। दुश्मननि खे हिति वसणि कोन दिजें। जय सिन्धु।

सीन 2
खलीफा जो दरबार बगदाद में

सूत्रधार: सिन्धुजी वीर धीयरनि खे जुल्मी जहाज में सिन्धु मूं लुटयलि मालोअसबाब सां गदि बगदाद कोठे विया। उनजा सिपाही राजकुमारियूनि खे दरबार में पेश था करणि। खलीफा राजकुमारियूनि जो हुस्न दिसी वायरो थी वियो। उननि सां गदि सिन्धु मूं लुटयलि सोने-चांदीअ जा गाणा एं हीरा जवाहरात दिसी खलीफा नचणि थो लगे। उनखे इया बि खुशी हुई त सिन्धु ते हाणे उनजो राज आहे इन करे हू दरबार में जलसा थो करे। दाहरसेन जियूं धीयरि इते चालाकीअ सां कमु वठी पहिंजे दुश्मन कासिम खे माराये थियूं छदनि। इन सां गदि उवे खलीफा जे सिपाहिनि खे बि मारे पाणि जो सत बचाइनि थियूं। उननि जी हिम्मत एं शहीद थियणि ते खलीफा बि सिन्धु खे मथो निमाये थो।

खलीफा: हा हा हा। ऐदा गाणा। ऐदा हीरा जवाहरात। वाह! वह! बियो छा आहे।
मुस्तफा: हुजूर इन असबाब सां गदि सिन्धु जा ब आफताब हीरा आहिनि।
खलीफा: उननि खे पेश कयो वं´ें।
मुस्तफा: (तारी वजाए करे) सिन्धुजा बेशकीमती हीरा पेश कया वं´नि।

चार सिपाही राजकुमारियूनि खे बेड़िनि में पेश था कयनि। बई पाणि में सलाह मशविरा करनि थियूं। इशारनि में इयं थूं चवनि जण त इते खलीफा सां समझौतो करे उवे उनजे जुल्मनि जो मुबाबलो करणि जे लाय उबारीयूं आहिनि।

खलीफा: वाह! छा हुस्न आहे। हुस्न परी। तव्हां जो रूप दिसी मां पहिंजे मथूं काबू न थो रखी सघां।
मुस्तफा: हुजूर इननि मूं इया आहे सूर्य कुमारी एं इया परमाल।
खलीफा: तहजीब सां नालो वठो इननि जो। शहजादी चवोनि। शहजादी।
मुस्तफा: बेख्यालीअ में कयलि गुनाह जी माफी दिन्दा हुजूर।
खलीफा: अगिते ऐहड़ी चुक कोन थियणि घुरजे। शहजादी, मूं तव्हां खे महलात जो सजो हरम बख्शे छदिदमि। सिपाही - इननि खे बेड़िनि में छो बधो अथव। खोलोनि।
सूर्यकुमारी: असांखे खोलणि में छा थिन्दो। तव्हां जंहिं करे असांजे मथा मेहरबानि थिया आहियो, उवा गाल्हि असांसा लुकयलि कोने।
परमाल: तव्हां सां धोखो कयो वियो आहे। धोखो करणि वारा तव्हां जा ई माणहू आहिनि।
खलीफा: मूसां गदि धोखो। कंहिंजी हिम्मत थी आहे पंिहजो सिर देहणि जी।
सूर्यकुमारी: तव्हां जो सिन्धु में तैनात कयलि कुत्तो।
खलीफा: यानी कासिम!
परमाल: हा उवोई कुत्तो।
खलीफा: छा धोखेबाजी कई अथईं उनि।
सूर्यकुमारी: उनि असांखे जूठो करे तव्हांजे सामूं पेश कयो आहे। असांखे तव्हां सां शादी करणि लायक कोन रख्यिो अथई।
परमाल: उनि जोर-जुल्म सां असां खे बधी करे असांजी मर्जीअ जे बगैर असांजे बदनि खे हथ लगयाणि जो गुनाह कयो आहे।
सूर्यकुमारी: ऐतरो इ न उन त सिन्धु में पंहिंजी पसंद जी हर शय ते बुरी नजर रखी आहे।
खलीफा: कासिम, कनीज जी औलाद। गुस्ताख, तुहिंजी ऐतरी हिम्मत जो मुंहिंसां धोखेबाजी करें। मुस्तफा । कासिम खे दांड जी ताजा लथयलि खलि में सिभाए करे मुंहिंजे सामूं पेश कयो वं´े।

खलीफा हुक्म दई करे हलियो थो वं´े। सिपाही खलीफा जे हुक्म जी तालीम जे लाय वं´नि था। राजकुमारियूं पाणि में गाल्हियूं थियूं करणि।

सूर्यकुमारी: खलीफा असांजी चाल में अची वियो आहे।
परमाल: सिन्धु सां गद्दारी करणि वारे जी मौत खां पोय असां बि इन जहान खे छदणि जी कंदियूं से।
सूर्यकुमारी: हा, इन खलीफा जो नापाक हथ असांजे बदनि ताई पहुंचे उनखां अगि असां पहिंजे वारनि में लुकयलि जहर में बुदयलि पिन सां मौत खे कुबूल कंदियूं से।
बई: जय सिन्धु माता। लज रखजें सिन्धु माता। जय सिन्धु।

सीन 3

खलीफा जो दरबार बगदाद में

सूत्रधार: सिन्धु जो वली दाहरसेन जेको अरब खलीफा सां विरहन्दे-विरहन्दे शहीद थी वियो हुयो उनजी धीउरनि खे भला कोई नापाक नजरनि सां कीअं दिसी सघंदो हुयो। जंहि ऐहिड़ी गुस्ताखी कई एं सिन्धु सां गद्दारी कई उन खे राजकुारिनि ऐहड़ी मौत दिनी जेहिंखे दुनिया रहन्दे बुधणि वारो विसारे कोन सघंदो। सिन्धु जे अपमान जो बदलो वठणि एं पाणि खे खलीफा सां बचाइणि जे लाय कासिम खे चालाकीअ सां माराये छदणि खां पोय शहजादिनि दरबार में तलवारियूं छिके सिपाहिनि खे बि मौत जो तोहफो दिनो। खलीफा बि उननिजी तारीफ करणि सां पाणि खे रोके कोन सगियो।

खलीफा: सिपाही - तूं खाली हथ मुंंिहंजे सामूं छो आयो आहें। कुत्तो कासिम तोसां गदि छो कोन आयो।
मुस्तफा - हुजूर। उवो दांद जी खल में रस्ते में इ मरी वियो। उनजी लाश कब्रिस्तान में रखयलि आहे।
खलीफा - रस्ते में इ मरी वियो। सुठो थियो। उनजे रत सां असांजी तलवार नापाक कोन थी।
मुस्तफा - हुजूर। सिन्धु में असांखे इया गाल्हि बुधणि में आई त कासिम बेकसूर हुयो।
खलीफा - इयो कीअं थी सघंदो आहे। शहजादिनि खे पेश कयो वं´ें।

शहजादियूं खिलन्दियूं अचनि थियूं।

खलीफा: शहजादी, असां ही छा था बुधू त कासिम बेकसूर हुयो!
सूर्य कुमारी: तूं मूर्ख आहें खलीफा। असां सिन्धु जी लाड़लिनि खे केरु हथ लगाए सघंदो आहे।
परमाल: हथ लगायणि त परे जी गाल्हि आहे, नजर खणी दिसणि वारनि खे असां रत में सिनानि कराए छदन्दियूं आहियूं।
सूर्य कुमारी: सिन्धु सां गद्दारी करणि वारो बेकसूर कीअं थी संघन्दो आहे! क्ककासिम सिन्धु सां गद्दारी कई। असां बदलो वड़तो।
खलीफा - गुस्ताख शहजादी। तव्हां खे मां हिक रात खां पोय पंहिंजे सिपाहिनि खे दई छदिन्दुसि। मुस्तफा - इननि धोखो कयो आहे। पकड़े वठोनि। घोड़े जी पूछ सां बधी करे बगदाद जी सणकनि ते घसीटोनि।

मुस्तफा एं सिपाही राजकुमारियूनि खे पकड़नि जी कोशिश था करनि। शहजादियूं जय सिन्धु जो नारो लगान्दियूं उननि सिपाही ज्यिूं तलवारियूं छिके थियूं वठनि। सिन्धु ज्यिूं वीर लाड़लियूं सिपाहिनि खे मौत तोहफे में थियूं देनि।

खलीफा: मुस्तफा - तीरन्दाज खे सदि करो। इननि आफतनि सां उवोई पूजी सघंदो।
सूर्यकुमारी: परमाल भेणि, असांजो बदलो पूरो थियो।
परमाल: हा भेणि। हाणे इननि जे हथूं मरणि खां अगि पाणि जहर में बुदियलि पिन सां पंहिंजा प्राण दई छदूं त इननि खे असांखे मारे न सघणि जो मलाल बि थिये।
सूर्यकुमारी: हा, इननि विदेशी अरब जे हथूं मरणि खां त पहिंजी सिन्धु जी उन पिन सां मरणि सुठो आहे जेका असां जहर में बोड़े गदि खणी आहियूं।

बई पहिंजे वारनि मूं पिन कढ़ी पंहिंजे बदनि में चुभायनि थियूं। मरणि खां अगि पल्लव में बध्यिलि सिन्धुजी वारीय खे पंिहंजे मथे ते तिलक वांङुर लगाइनि थियूं। जय सिन्धु जे घोष सां बई हमेश जे लाय सिन्धु जी कछ में समायजी थियूं वं´नि। खलीफा इयो दिसी हिक दफो त बुत थो ठई वं´े। ऐतरे में सिपाही हिक तीरन्दाज खे गदि वठी था अचनि।

मुस्तफा: हुजूर तीरन्दाज अची वियो आहे।
खलीफा: हिति हिक तीरन्दाज त छा असां सभु अरब मिली करे बि सिन्धुजी वारीय सां प्रेम करहन्दड़ शहजादिनि जो मुकाबलो कोन करे सघूं आ।
मुस्तफा: हुजूर! इननि पंहिंजी जान दई छजी!
खलीफा: गुस्ताख। सिन्धुजी धीयरनि जे लाय तहजीब सां लफ्ज इस्तेमाल कर। शहजादिनि जी मिट्टीअ खे सम्मान सां बगदाद में इननि जे ईष्ट खे दिनो वं´े। इननि जी रीति जेका हूजे उवा पूरी थियणि घुुरजे।
मुस्तफा: जेको हुक्म हुजूर।
खलीफा: सिन्धु भूमि तोखे प्रणाम। मुस्तफा, याद रखजंहि। कौम उवाई जिन्दह रहन्दी आहे जेका पहिंजे वतन सां प्रेम कन्दी आहे एं पहिंजी संस्कृति एं मादरे वतन जे लाय बहादुरीअ सां शहीद थिहणि जाणंदी आहे। सूर्य कुमारी एं परमाल महाराजा दाहरसेन जो इ न बल्कि सिन्धुजो नालो रोशन कयो आहे। मां इननि खे प्रणाम थो कयां। इननि खां अगि सिन्धुमाता खे मुहिंजो प्रणाम।

सूत्रधार: वीर सिन्न्धीनि जी भूमि सिन्धुअ ते जायलि कौम कदहिं पहिंजी संस्कृति एं बोलीअ खे विसरी कोन सघन्दी आहे। इया आखाणी अजु खां तेरह सौ साल पहिरियूंकी आहे। इन विच में सिन्धु एं सिन्धीनि ते केतराई जुल्म थिया। सिन्धीनि खे पहिंजी सरजमीन छदणी पई पर अजु बि मादरे वतन जो जज्बो कायम आहे। हाणे असांजे लाय हिन्द इ सिन्धु आहे। जय सिन्धु - जय हिन्द।
- Mohan Thanvi ( part of drama daharsen / publish in Rihan & Hindu - (Ajmer )

Comments

Popular posts from this blog

बीमा सेवा केन्द्र का शुभारम्भ

*खबरों में बीकानेर*/ बीकानेर 29 नवम्बर 2017।  भारतीय जीवन बीमा निगम के वरिष्ठ विकास अधिकारी हरीराम चौधरी के मुख्य बीमा सलाहकार भगवाना राम गोदारा के बीमा सेवा केन्द्र का शुभारम्भ जूनागढ़ पुराना बस स्टैण्ड  सादुल सिंह मूर्ति सर्किल के पास बीकानेर में हुआ। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि भारतीय जीवन बीमा निगम के वरिष्ठ मण्डल प्रबन्धक सुधांशु मोहन मिश्र "आलोक" तथा विशिष्ट अतिथि कोलायत विधायक  भंवर सिंह भाटी थे। बीमा सेवा केन्द्र में निगम की पॉलिसियों के बारे में जानकारी तथा प्रीमियम जमा करवाने के साथ-साथ कई प्रकार की सुविधायें उपलब्ध होगी।कार्यक्रम में श्री सुधांशु मोहन मिश्र ष्आलोकष् ने बीमा को आज व्यक्ति की मुख्य आवश्यकता बताते हुये कहा कि जहॉं गोवा राज्य में 79ः  जनसंख्या बीमित है वहीं राजस्थान में यह प्रतिशत मात्रा 20 है जो कि सोचनीय है । उन्होनें कहा कि व्यक्ति और समाज के लिये  आर्थिक सुरक्षा सबसे महत्वपूर्ण है जिसकी पूर्ति बीमा के माध्यम से ही सम्भव है। उन्होंनें निगम की ष्बीमा ग्रामष् अवधारणा के बारे में बताते हुये कहा कि बीमा ग्राम घोषित होने वाले गांव को विकास के लिये निगम द्वा…

अखिल भारतीय साहित्य परिषद् बीकानेर महानगर इकाई में मोनिका गौड़ वरिष्ठ उपाध्यक्ष नियुक्त

विभिन्न संगठनों ने जताई खुशी

बीकानेर। अखिल भारतीय साहित्य परिषद की बीकानेर महानगर इकाई में मोनिका गौड़ को वरिष्ठ उपाध्यक्ष नियुक्त किया गया है। रानी बाजार स्थित संघ कार्यालय शकुंतला भवन में हुई बैठक में अखिल भारतीय साहित्य परिषद् के प्रदेशाध्यक्ष डॉ. अन्नाराम शर्मा की अनुशंसा से महानगर अध्यक्ष विनोद कुमार ओझा द्वारा मोनिका गौड़ को वरिष्ठ उपाध्यक्ष बनाये जाने पर पंडित दीनदयाल उपाध्याय स्मृति मंच के बीकानेर शहर जिलाध्यक्ष गोविंद पारीक, देहात जिलाध्यक्ष काशी शर्मा खाजुवाला, बीकानेर ब्राह्मण समाज संभागीय अध्यक्ष देवेंद्र सारस्वत, भारत स्काउट गाइड राष्ट्रीय उपाध्यक्ष डॉ विमला डुकवाल, एडवोकेट जगदीश शर्मा, गौड़ सनाढय फाउंडेशन युवा जिलाध्यक्ष दिनेश शर्मा, अखिल भारतीय सारस्वत कुंडीय समाज विकास समिति प्रदेशाध्यक्ष श्यामसुंदर तावनियां, श्रीछःन्याति ब्राह्मण महासंघ उपाध्यक्ष रुपचंद सारस्वत, पार्षद भगवती प्रसाद गौड़, सरस वेलफेयर सोसाइटी अध्यक्ष मनोज सारस्वा पूनरासर, राजेन्द्र प्रसाद गौड़, अखंड भारत मोर्चा नोखा के दिनेश कुमार जस्सू, श्रीसर्व ब्राह्मण महासभा की महिला संयोजिका शोभा सारस्वत, अंतरराष्…

कुर्सी को मुस्कुराने दो : तब्सरा-ए-हालात

जादूगर जादूगरी कर कर गया। कुर्सी मुस्कुराती रही । बाजीगर देखता ही रह गया । उसके झोले से हमें मानो आवाज सुनाई दी  कुर्सी को मुस्कुराने दो ।  गाय घोड़े पशु पक्षियों के चारा दाना तक में घोटाले हुए । सीमा पर दुश्मन से लोहा लेने के लिए खरीदे जाने वाले अस्त्र शस्त्रों में घोटाले हुए। जनता तक एक रुपए में से मात्र 15 पैसे पहुंचने की बातें हुई मगर कुर्सी मुस्कुराती रही। मगर यह कोई जादू नहीं है  कि पेट्रोल  हमारी गाड़ियों को चलाने के लिए वाजिब दामों में  उपलब्ध होने की बजाय  हमारी जेबों में आग लगा रहा है । पेट्रोल ने जेबों में आग लगा दी  कुर्सी मुस्कुराती रही  । बच्चे मारे गए कुर्सी मुस्कुराती रही।  सीमा पर  हमारे जवान शहीद होते रहे  कुर्सी मुस्कुराती रही  । जाति संप्रदाय  आरक्षण के नाम पर  आक्रोश फैलता रहा  कुर्सी मुस्कुराती रही। करनाटक में बिना जरूरत के भव्य नाटक का मंचन हुआ कुर्सी मुस्कुराती रही। लाखों की आबादी के बीच सरकारी अस्पतालों में कुछ लाख रूपये के संसाधनों के अभाव में मरीज तड़पते रहे और न जाने किस बजट से हजारों करोड़ों रुपयों के ऐसे भव्य कार्य हुए जिनकी फिलवक्त आवश्यकता को टाला जा सक…