Saturday, November 23, 2013

संगीत ज़रिए इलाज - Dr Kamla Goklani

डॉ कमला गोकलानी जे सिंधु दूत में प्रकाशित आलेख मूं चूंडयलि
संगीत ज़रिए इलाज -
अजु माहिर ऐं खोजनीक जंहिं म्यूज़िक थेरेपीअ जी गाल्हि कनि था, उहा सदियूं अगु लोकगीतनि जरिए आम वाहिपे में हुई, जंहिंजो फकत हिकु मिसालु डियां थी - बार खे नंढी माता, वडी माता लाखिड़ो वगैरह थियण ते सजो बदनु गाढ़ो थी वेंदो आहे। फोफीड़ा, दाणा, चुघ थी पवंदा आहिनि। बुखार जा मच हुअण करे छितो थी पवंदो आहे, निंड न ईंदी अथसि, तडहिं माता जा ओराणा -
ठारि माता ठारि पंहिंजे बचनि खे ठारि ।
अमां अगे बि ठारियो थई हाणे बि ठारि ।।
बुधी बार ते जादूअ जहिड़ो असरु थींदो आहे ऐं खेसि मिठिड़ी निंड पंहिंजे आगोश में समेटे वठंदी आहे। सागियो असरु मनो रोगियुनि ते बि थींदो आहे।
‘‘सिंधी लोक गीतनि में अहिड़ो त लुत्फु ऐं सोजु समायलु हूंदो आहे ऐं अहिड़ो त रसु ऐं लइ भरियल हूंदी आहे, जो बुधण वारे जी दिलि ऐं दिमाग तासिर जे अंतहाई गहिरायुनि में गुमु थियो वञनि एं हू पाण खे उन्हीअ घड़ीअ माहौल में तसिवर करण लगंदो आहे, जिते फितिरत पंहिंजे हकीकी ऐं लाफानी लिबास में गाईंदे, नचंदे, टिपंदे ऐं मुस्कराईंदे नजर ईंदी आहे। इन्हनि सभिनी जबलतनि जो कारण ही आहे जो उन्हनि में हिक अजीबु रसु, दिलि मंे उमंग ऐं जजिबा उथारींदड़ तड़फ मौजजनि हूंदी आहे। ’’  - डॉ कमला गोकलानी