Skip to main content
असबाब में असबाब, एक चंग एक रबाब
आपके सान्निध्य में मन की बातें खुद ब खुद कलम से कागज पर उतरने लगती है। बड़ों ने अपने अनुभवों के इशारों में सच ही कहा है, पुस्तक सदृश्य और कोई मित्र नहीं। इसी तर्ज पर पाठक भी उसी श्रेणी के मित्र हैं जिस श्रेणी में पुस्तक को मित्र माना गया है। मित्रों में दिल की बात तो जुबां पर आती ही है। यहां माध्यम कलम है। बात कागज पर उतरती है। कलाकार, कलमकार की पूंजी और होती ही क्या है ! असबाब में असबाब, एक चंग एक रबाब। बस। हमारा यही संसार है। यही दौलत। कलम। कागज। दवात। यूं चंग डफ सदृश्य मंजीरा लगा हुआ वाद्य होता है। रबाब ऐसा वाद्य होता है जो सारंगी जैसा लगता है। इस साजोसामान से कलाकार, साहित्यकार आपसे, पाठकों से मित्रता का दम भरता है। पाठक भी बखूबी मित्र धर्म निर्वहन करते हैं। संबल प्रदान करते हैं। दिल की बात कागज के माध्यम से पाठक मित्रों तक पहुंचाने की बेमिसाल बानगी हमारे सामने ही है। सूचना और जनसंपर्क विभाग से सेवानिवृत्त अधिकारी एवं संपादक श्री मनोहर चावला जी ने भी दिल की बातें यहां साझा की है। चार फरवरी 2013 के अंक में भी। उन्होंने पत्रकारिता और सेवा अवधि सहित अपने दाम्पत्य जीवन के सफल 44 से अधिक वर्षों में कदम कदम पर साथ निभाने वाली आदरणीय भाभी जी ( श्री चावला जी की धर्म पत्नी ) को वह सम्मान प्रदान किया है जिसकी वे हकदार हैं। बड़ों के यही आदर्श, ऐसी ही विनम्रता, असीम धैर्य ही तो युवा पीढ़ी को संस्कारित करते हैं। संस्कार ही हमारी असल संपत्ति है। परंपराएं वाहक। और हमारे बीकाणा की साहित्य-संस्कृति ने सदैव नव पल्लव पुष्पित किए हैं। परंपराओं से युवा पीढ़ी का मार्ग प्रशस्त किया है। नगर में पत्रकारिता का इतिहास भी गौरवशाली है। बीती सदी में एक समाचार के प्रकाशन मात्र से पत्रकारिता के क्षेत्र में हुक्मरानों की दखलअंदाजी का हवाला श्री चावला जी की कलम से मिला। तत्कालीन जिला कलेक्टर और प्रशासनिक अमले के जोर जबर संबंधी इस घटना की जानकारी युवा पीढ़ी समेत कई अनुभवी कलमकारों को भी पहले से हो, इसमें संशय है। संशय इसमें भी कि स्वतंत्रता संग्राम में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले पत्रकारों की जानकारी भी दूसरी, तीसरी और चौथी पीढ़ी को है। क्योंकि किसी पाठ्यक्रम में भी शामिल नहीं है। इस विषय पर स्वतंत्रता दिवस और गणतंत्र दिवस के अलावा शायद ही कभी चर्चा होती हो। हमारा असबाब में असबाब यही गौरवशाली इतिहास ही तो है। इसका संरक्षण हमारा दायित्व। असबाब कायम रहे। इसमें वृद्धि होती रहे। ऐसे प्रयासों के लिए अभिलेखागार की सराहना लाजिमी है। अभिलेखागार की ऐसी योजनाओं को अमलीजामा पहनाने के लिए निदेशक डा महेंद्र खड़गावत को साधुवाद।

Popular posts from this blog

देश के भविष्य को नए आयाम देने के मार्ग पर चल रही मेधावी छात्राओं को स्कूटी मिली; हैलमेट मिलेगा

मेधावी छात्रा स्कूटी वितरण कार्यक्रम के तहत 44 छात्राएं हुई लाभांवितबीकानेर, 20 जुलाई 2017 ( मोहन थानवी )।  देश के भविष्य को नए आयाम देने के मार्ग पर चल रही 44 मेधावी छात्राओं के चेहरे खिले हुए थे मगर वे बातें धीर-गंभीर कर रहीं थीं। एक छात्रा ने कहा; अरे सुन तो... मैं तो स्कूटी चला कर घर नहीं जा पाऊंगी। दूसरी का सवाल था - क्यों ? उसे जवाब मिला; यार मेरे पास तो  न हैलमेट है न लर्निंग लाइसेंस। चैकिंग में फंस गई तो ? स्कूटी मिलने की खुशियां मनाती इन छात्राओं की बातचीत में जहां व्यवस्था के अनुसार चलने का ज्बा था वहीं शहर में ट्रैफिक सुचारु बनाए रखने के लिए की जाने वाली चैकिंग के प्रति सम्मान भी झलक रहा था मगर इन सब पर  प्रोत्साहन में स्कूटी मिलने की खुशी सबसे बड़ी थी। ऐसा नजारा हुआगुरूवार को राजकीय महारानी सुदर्शन कन्या महाविद्यालय में जहां समारोह में 44 मेधावी छात्राओं को स्कूटी वितरित की गई। इस मौके पर गत वर्ष स्कूटी प्राप्त करने वाली 35 छात्राओं हैलमेट दे चुके संसदीय सचिव डॉ. विश्वनाथ मेघवाल ने इस बार स्कूटी प्राप्त करने वाली सभी 44 छात्राओं को भी यातायात नियमों की अनुपालना करने का आह्…

बीकानेर : स्थापना दिवस मना रहा है शहर

बीकानेर : स्थापना दिवस मना रहा है शहर

जयपुर-दिल्ली बाइपास पर हुआ बीकाजी के भव्य शोरूम का उद्घाटन

जयपुर दिल्ली बाईपास पर बीकाजी के भव्य शोरूम का उद्घाटन  माननीय श्री शिवरतन जी अग्रवाल (फन्ना बाबू) बीकाजी ग्रुप के चेयरमैन राजस्थान सरकार के वरिष्ठ अधिकारी एआईएस निरंजन जी आर्य के हाथों संपन्न हुआ  इस अवसर पर मक्खनलाल अग्रवाल घनश्याम लखाणी विष्णु पुरी हेतराम गौड रविंद्र जोशी महेंद्र अग्रवाल सूरजमल खंडेलवाल व शोरूम के सभी संचालक मौजूद रहे।