Monday, January 21, 2013

हर दफतर में, नांगनि सां बिर भरियल आहिनि

हर दफतर में, नांगनि सां बिर भरियल आहिनि  *

पंध परे जा   *
** पुस्तक परिचय
शाइरु -             मुरली गोविंदाणी
प्रकाषक -     ेंग 34 आदिपुर 370205 कछ गुजरात
        टेलीफोन 0236 261150
संस्करण -        2012

पंध परे जा
असां कीअं सडायूं त सिंधी आहियूं / न असां खे मिलियो सिंधु देश जो टुकरो / न रहियो आ असां जो वेसु को हिकड़ो / असां त हर देश जा पांधी आहियूं /असां कीअं सडायूं त सिंधी आहियूं ।
इनि पंजकिड़े मंझ सिंधी समाज जो उवो सूरु साम्हूं अचे थो जेको विरहांङे बैद वधंदो इ रहियो आहे। तकरीबनि 66 वरिहयह अगु जेको सूरु दिल डुखाइंदो रहियो आहे उनिजो को इलाजु बि को हकीमु वैदु कोन करे सघंदो। सिंधी साहित्यकारनि इनि सूरु खे पहिंजे रचनाकर्म में साम्हूं आनियो आहे ऐं सिलसिलो 2012 में बि जारी रहियो। शाइरीअ जे करे जातलि सुञातलि नालो आहे मुरली गोविंदाणी। मुरली गोविंदाणी जो नवों किताबु पंध परे जा मंझ बारनि जीयूं भावनाउं बि खुली करे साम्हूं अचनि थियूं। इनिमें गीत आहिनि, बाल गीत बि आहिनि। आजाद कविता में शाइरु आधुनिक जमाने में थिंदड़ अप्राकृतिक गाल्हिनि ऐं हादसनि ते चिंता जाहिरु कंदे चवे थो - भगवान कडहिं / सोचियो बि न हूंदो /त बिना आदम ऐं हवा /को पैदा थी सघे थो /ऐं बिना काल को मरी सघे थो। इनि संग्रह में अगिते तन्हा बि आहिनि जहिमें अजु समाज खे चकु पाइंदड़ भ्रष्टाचार खे कविअ ईअं जाहिरु कयो आहे - हर दफतर में, नांगनि सां बिर भरियल आहिनि। जापान जी मशहूर विधा आहे हाइकू। कविअ पहिंजे इनि संग्रह में हाइकू सां बि पहिंजो प्रेमु जाहिरु कयो आहे ऐं वधंदड़ आविरजा जी चिंता बारनि सदके ईअं बुधाई अथाईं - कन मथां अछा वार /लिकी लिकी कारा कया / डिसी न वठनि बार। संग्रह नई टेहीअ लाइ बि चंङनि कविताउंनि सां भरियलि आहे। इनि में कतआ, पंजकिड़ा, तराईल बि दिल ते लगनि ता ऐं दोहा त बरोबरु हालात ते तब्सरो करण में कामयाबु आहिनि। इनिसां गडोगडु कबीर जा दोहा (साखियूं )बि संग्रह खे समूरो हिकई बैठक में पढ़ही पूरो करण लाइ पाण डे छिकनि था। सुठे ऐं समाज जी लाइब्रेरीनि में संग्रह करण लाइकु इनि किताब लाइ कवि मुरली गोविंदाणी खे साधुवाद। 
 - मोहन थानवी