Thursday, December 13, 2012

सिन्धु जे करे... sindhi story - sindhu je kare....



सिन्धु जे करे... 

Sindhi story

सिंधी कहानी - मोहन थानवी
..........................................
बेबी - पचाइणि जे लाय अटो कोने। तव्हां था चवो दिकीय ते दियो बार। मटि वटि दियो बार।
शामो - पुटि, चांवर त रंध्या अथई। उननि जो पिण्डु ठाहे करे ब दिया बारे वठि।
बेबी - बाबा...खाइणि जो घीयु-तेल बि कोने। कवड़ो तेल प्यो आहे। दियनि में उवो विझां...।
शामो - हा...हा पुटि, अजु चण्डरात आहे। दियो बारनि जरूरी आहे।
गाल्हि-बोल्हि कन्दे बेबीअ दिया ठाहे-बारे वड़ता। 12वरहें जी बेबीअ खे याद आहे, साल अगि ताईं उनजी माउ, सखीबाई चण्डरात जे दिहं दियो जरूर बारदी हुई। उनजे बीमार थिहणि खां पोय बाबा बि दियो जरूर बारदो आहे। अजु बाबा चाक कोने। सखीबाई इस्पाताल में आहे। घर जो सजो कमुकारु बेबीअ जे कंधनि ते अची वियो आहे। पैसे जी सोड़, दवा-दारूअ जी घुरज। बाबा जी 1500रुप्यनि जी प्राइवेट नौकरी। इन सभिनी गाल्हिनि बेबीअ खे जल्दी वदो करे छजो आहे। उन बाबा खूं पूछो - चण्डरात ते दियो छो बारदा आह्यो।
शामो - पुटि, दरियाशाह जी मेहर कदंहि थे, कुझ खबरु कोने। उदेरेलालजी खुशी एं पंहिंजी सिन्धु जी रीति, पंहिंजा दिहं-त्योहार मनाइणि में सभिनी जो भलो आहे।
बेबी - पर बाबा, रन्धणे में भलि अटो बि न हुजे!
बेबीअ जे सुवाल शामेमल खे कुझु चवण जे लाइ लफ्ज गोलणि जो वंझ बि कोन दिनो। हू वीझे रखयलि लोटे खे खणी पाणीअ जा ब ढ़ु़ुक पंहिंजी सुकयलि निरीय में गिड़काए वियो।
बेबी बि पंहिंजे बाबा जी मजबूरी समझी वेई। उन चुपड़ी करे वेहणि सुख्यो समझियो। पर केतरी देर। आखिरु उन बाबा खे चई मन हलको कयो। बाबा - अजु राधी मासी आई हुई। चयांईं त स्कूल में सफाई करणि एं मास्तर-मास्तराननि खे चांय-पाणी पिराइणि जो कमु कन्दींअ त चार सौ रुपिया महीनो बधी दिन्दी। बाबा, मां सुभाणे खां स्कूल वं´ां!
शामेमल जी अख्यिूनि मूं गोड़ा प्या वहनि। इन नन्ढुड़ी उम्र में उनजी किकी पंहिंजे लाइ फ्राक कोन थी घुरे। साइरनि सां गदिजी रांद करणिजी जिद कोन थी करे। घर में पैसे जी सोड़ दिसी मुंहिंजी धीअ, मुंंिहंजो पुटि थी बणजे। शामे पंहिंजी अख्यिूं बे पासे फेराये बेबीअ खे चवो - पुटि, भलि वं´ें।
बेबी बाबा जे वातूूं हा बुधी खुश थी वेई। बाबा खे थालीअ में चांवर एं वटिअ में दहीअ जी कढ़ी विझी दिनई। इस्पाताल वं´णि जी तियारी कन्दे शामे खे चवई - बाबा, महीनो पूरो थीेन्देई स्कूल मूं मिलन्दड़ रुप्यिनि मूं मां छा वठि इन्दसि - खबर अथव!
शामे चयूसि - पुटि, बुधाइन्दीअं त खबरु पवन्दी।
बेबीअ चवो - सभनि खं अगु मां पितल जा ब सुहिणा दिया एं अध सेरु सचो घीअ आनदसि। सच्चे घीअ जा दिया रोज बारदसि। बाबा, दिसजो, पोइ त झूलणलाल सब दुख यकदमि दूर कन्दो। एं हा बाबा - अम्मा चाक थी इस्पाताल मूं घर इन्दी त थदो बि पचाइन्दसि। सिन्धु जी रीति आहे न! इयो मुहिंजे मन जो - लाल सांईंअ खे पल्लव बि आहे।
शामोमल अख्यिूनि मूं वहिन्दड़ पाणी हथ सां उघी अमरलाल जी फोटूअ खे प्यो निहारे। फोटूअ में पलो-मछीय ते वेठलि अमरलाल चपनि में मुश्के प्यो। शामे अख्यिूं बूटे ज्योतिनि वारे साहिब खे चवो - सिन्धु जा वली - लज रखजें। जंहिं नन्ढुड़ी नर फकत सिन्धु जो नालो इ बुधो - उवा बि तोखे ऐतरो मने थी। सिन्धु जे करे उनजे मन में बि प्रेम आहे। शलि - असां सभि वदा - नन्ढुड़ा थी वं´ूं। सिन्धु जे करे। जय झूलेलाल।