Skip to main content

सिंधी नाटक कृपालु संत साधु वासवाणी

सिंधी नाटक कृपालु संत

जे पहिरियें सीन जो आखिरी भांङों पेशु आहे --

( इयो नाटक हिंदू अजमेर में अरबी सिंधीअ में साया थिअलि आहे )

... दादा साहिब चवनि था, डिसो। जहिं संत माण्हूंनि खे इ न बल्कि हरेकु प्राणीअ खे हिकु जेहिड़ो भगवान जो सृजन बुधायो हो, उन्हींअ इ संत लाइ झूनी ऐं नई टहीअ में तकरार जी गाल्हि बुधी मूखे खिल इ त इन्दी।
माण्हूं चवनि था, दादा तव्हां असांखे साधु वासवाणी साहिब बाबत जाण ड्यो।
दादा जे पी वासवानी साहिब चवनि था, - संत साधु वासवानी त पाण चवन्दा हुआ, जीव मात्र में फर्कु न कजे। ऐं तव्हां उननि इ संतनि जी गाल्हियूंनि खे दरकिनार करे जीव मात्र इ न बल्कि खुद उननि संतनि जे नाले ते बि झेड़ो था कयो। इननि संतनि त पहिंजी सजी हयाती तप करे भगवान खां माण्हूनि जो भलो घुर्यो।
माण्हुनि जे वरी जोर डिहण ते दादा साहिब कृपालु संत साधु वासवानी जी हयाती ऐं उननि जे उपदेशनि बाबत तफसील सां गाल्हियूं बुधाइनि था। इनि वक्ति इ पार्टी में दादा श्याम जो भजन गूंजे थो, -
अलख धाम मां

नाल्हे मौत तिनि लाइ, अंखियूंनि जिनि जूं निहारनि,
पहाड़नि त तिनि डे, जीअं प्यारनि खे पुकारनि!
रहनि रहम में से त आल्यिूंनि अंख्यिूंनि,
सबक इक त सिक जो, से आहिनि सुख्यूं!
पया था त कोठनि, प्रभुअ जा पहाड़ा!
अचनि यादु वरी वरी, पया से त प्यारा!
करे केरु दूर, प्यारनि जी जुदाई !
जीवन आहे जिनि जी, प्रभुअ में समाये!
मरे ही बदनु थो, जिस्मु ही जले,
पर आत्मा अमर, सदा पयो हले!
काल डिस जो घर, फकत काल ढाहे,
पर आत्मा अजरु ऐं अविनाशी आहे!
मरे कीअं कोई ऊंव, न कोई कीअं साड़े,
न कोई मौत परदो, रखी उन परे
अलख धाम मां आहे, नूरी निमाणी
रहे रोज रोशन, न रह तूं वेगाणी।

दादा जे पी वासवानी साहिब इयो भजन अंख्यूं बूटे झूमन्दे झूमन्दे बुधी रहिया हुवा। जीअं इ भजन पूरो थे तो, दादा साहिब हथ जोड़े भगवान ऐं संत साधु वासवानी खे निमनि था। भरियलि अंख्यूं उघी करे दादा साहिब पहिरीं नूरी गं्रथ जी वाणीअ जे दोहनि जी व्याख्या था कनि । अध्यात्म जी इनि गाल्हि खे पूरो करण बैद दादा साहब तफसील सां कृपालु संत साधु वासवानी जे जन्म खां वठी उननि जी हयातीअ बाबत बुधाइण शुरू था कनि।
जीअं जीअं संतनि बाबत बुधाइन्दा था वंञनि, तीअं तीअं माण्हुनि जी अंखियूंनि जे अगियूं कृपालु संत साधु वासवानी साहिब जियूं लीलाऊं इअं तियूं थिअनि जण त सबकुझु साम्हूं ही थी रहियो आहे।
दादा जे पी वासवानी साहिब जो आवाजु गूंजी रहियो आहे। माण्हूनि जी निजरनि अगियूं ज्ञान जी ज्योतिअ सां चिमकन्दड़ दादा साहिब जी मूरति मुश्की रही आहे।

सीन -2................................

Popular posts from this blog

देश के भविष्य को नए आयाम देने के मार्ग पर चल रही मेधावी छात्राओं को स्कूटी मिली; हैलमेट मिलेगा

मेधावी छात्रा स्कूटी वितरण कार्यक्रम के तहत 44 छात्राएं हुई लाभांवितबीकानेर, 20 जुलाई 2017 ( मोहन थानवी )।  देश के भविष्य को नए आयाम देने के मार्ग पर चल रही 44 मेधावी छात्राओं के चेहरे खिले हुए थे मगर वे बातें धीर-गंभीर कर रहीं थीं। एक छात्रा ने कहा; अरे सुन तो... मैं तो स्कूटी चला कर घर नहीं जा पाऊंगी। दूसरी का सवाल था - क्यों ? उसे जवाब मिला; यार मेरे पास तो  न हैलमेट है न लर्निंग लाइसेंस। चैकिंग में फंस गई तो ? स्कूटी मिलने की खुशियां मनाती इन छात्राओं की बातचीत में जहां व्यवस्था के अनुसार चलने का ज्बा था वहीं शहर में ट्रैफिक सुचारु बनाए रखने के लिए की जाने वाली चैकिंग के प्रति सम्मान भी झलक रहा था मगर इन सब पर  प्रोत्साहन में स्कूटी मिलने की खुशी सबसे बड़ी थी। ऐसा नजारा हुआगुरूवार को राजकीय महारानी सुदर्शन कन्या महाविद्यालय में जहां समारोह में 44 मेधावी छात्राओं को स्कूटी वितरित की गई। इस मौके पर गत वर्ष स्कूटी प्राप्त करने वाली 35 छात्राओं हैलमेट दे चुके संसदीय सचिव डॉ. विश्वनाथ मेघवाल ने इस बार स्कूटी प्राप्त करने वाली सभी 44 छात्राओं को भी यातायात नियमों की अनुपालना करने का आह्…

बीकानेर : स्थापना दिवस मना रहा है शहर

बीकानेर : स्थापना दिवस मना रहा है शहर

जयपुर-दिल्ली बाइपास पर हुआ बीकाजी के भव्य शोरूम का उद्घाटन

जयपुर दिल्ली बाईपास पर बीकाजी के भव्य शोरूम का उद्घाटन  माननीय श्री शिवरतन जी अग्रवाल (फन्ना बाबू) बीकाजी ग्रुप के चेयरमैन राजस्थान सरकार के वरिष्ठ अधिकारी एआईएस निरंजन जी आर्य के हाथों संपन्न हुआ  इस अवसर पर मक्खनलाल अग्रवाल घनश्याम लखाणी विष्णु पुरी हेतराम गौड रविंद्र जोशी महेंद्र अग्रवाल सूरजमल खंडेलवाल व शोरूम के सभी संचालक मौजूद रहे।