Saturday, September 15, 2012

आवाजों के जंगल मे ...


ख़ामोशी  के  सुर ...
अच्छे  लगते  है ...
चुप  रहके  भी ...
बहुत  कहते  हैं ...
जुबां  फिसलती  नहीं ...
...फिसलने  के  बहाने ...
किस्सा -ऐ -दिल  बनते  हैं ...
आवाजों  के  जंगल  मे ...
ख़ामोशी  के  मकान  बनते  हैं ...
ख़ामोशी  के  सुर ... अच्छे  लगते  हैं ...
'वो '  उनसे  कुछ  कहते  नहीं ...
'वे '  फिर  भी  'उनकी  अनकाही  को  सुनते  हैं